ताजा खबर
माणिक सरकार का प्रतिबंधित भाषण 'जो अंग्रेजों का साथ दे रहे थे वे राष्ट्रवादी हो गए ' अखिलेश की गिरफ़्तारी , सड़क पर समाजवादी अडानी को लेकर ' द गॉर्डियन ' का धमाका !
जहां पत्रकारिता एक आदर्श है

विवेक सक्सेना

पत्रकारिता करते पूरा जीवन बीत गया लेकिन आज भी अगर कोई पूछे कि मेरा आदर्श कौन है तो उलझन में पड़ना तय है. वजह यह कि हिंदी पत्रकारिता के जिन नामचीन लोगों के साथ मुझे काम करने का मौका मिला, उनको करीब से देखने पर मैं क्षुब्ध ही हुआ. मैंने हिंदी के महान संपादकों को इतनी घटिया हरकतों में लिप्त पाया कि कुछ न कहना ही बेहतर होगा. मैं जिस संपादक से सबसे अधिक प्रभावित हुआ और जिनसे कुछ सीखा वह हैं दिल्ली प्रेस के संपादक परेशनाथ.

सच कहूं तो मेरे पत्रकारिता में होने का श्रेय भी उन्हें ही है. कक्षा 12 में पढ़ते हुए ही मैं दिल्ली प्रेस की पत्रिकाओं में छपने लगा था. मैंने नवीं कक्षा के बाद घर से अपना जेबखर्च लेना बंद कर दिया था. मैं इन पत्रिकाओं का कानपुर विश्वविद्यालय का प्रतिनिधि रहा जो कि पत्रकारिता में रुचि रखने वाले युवा छात्रों को प्रोत्साहित करने का देश का पहला व अनूठा मंच था. मेरी बैंक ऑफ इंडिया में हिंदी अधिकारी के पद पर नौकरी लग गयी. इस बीच मैं दिल्ली आकर दिल्ली प्रेस में नौकरी करने लगा था. बैंक से लगातार पत्र आ रहे थे कि जल्दी ज्वाइन करूं पर मैं उधेड़बुन में था. एक दिन मैं परेशानाथ के पास गया जो बेहद सख्त माने जाते थे. मैंने उन्हें अपनी दुविधा बतायी. उन्होंने मेरी इच्छा पूछी. मैंने कहा कि मैं तो पत्रकारिता ही करना चाहता हूं पर मेरी मां का कहना है कि प्राइवेट नौकरी है. क्या गारंटी है कि मालिक तुम्हें नौकरी से नहीं निकाल देगा. मेरी बात सुनकर वे मुस्कुराये और बोले उनका सोचना ठीक है. निजी संस्थानों में मालिक यह देखता है कि वह अपने कर्मचारी पर जितना खर्च कर रहा है क्या उसे उससे ज्यादा सेवायें मिल रही हैं. वह तब तक किसी को नौकरी पर रखता है जब तक उसे लाभ भले ही नहीं हो रहा हो पर घाटा न हो. तुम अपनी योग्यता का खुद आकलन करके देखो कि अगर तुम हमारे यहां नौकरी छोड़ते हो तो क्या तुम्हें 100-50 रुपये कम या ज्यादा में कहीं और नौकरी मिल जायेगी. अगर उत्तर हां हो तो पत्रकारिता करते रहो वरना बैंक ज्वाइन कर लो. उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति जोखिम नहीं उठाता है वह आगे नहीं बढ़ता है. उनके पिता चार्टर्ड एकाउंटेट थे. उन्होंने जब सीए किया तब देश में कुछ सौ सीए ही होते थे. इसके बावजूद उन्होंने सरिता निकाली.

उन्होंने सिखाया कि पत्रकारिता करते समय यह बात ध्यान में रखनी चाहिये कि लोगों के जानने की इच्छा जितनी प्रबल होती है याददाश्त उतनी ही कमजोर होती है. इसलिए जब भी किसी घटना के बारे में कुछ लिखो तो चंद पंक्तियों में उससे जुड़ा इतिहास जरुर लिखो. यह मान कर मत चलो कि पाठक सब कुछ जानता है.

उन्होंने बोल-चाल की भाषा पर जोर दिया पर कभी भाषा को बाजारू नहीं बनाया न ही अंग्रेजी के शब्दों का बेमतलब इस्तेमाल किया. वह सरिता में विज्ञापन देते थे कि हम हिंदी वाले हीन भावना से क्यों भरे हुए हैं. हम अपनी शादी के कार्ड से लेकर विजिंटिग कार्ड तक अंग्रेजी में क्यों छापते हैं. वहां हमारे विजिटिंग कार्ड एक तरफ हिंदी में व दूसरी तरफ अंग्रेजी में छापे जाते थे. यह देश का एकमात्र ऐसा संस्थान था जहां हम हिंदी वालों की बढ़िया रिपोर्ट का अंग्रेजी अनुवाद कैरेवान व वूमेंस इरा में छापा जाता था. सरिता में छपने वाले विज्ञापनों में वे व्यंग्य करते थे कि हिंदी तो गुलामों और अनपढ़ों की भाषा है तभी हम उसका अनादर करते हैं.

 जब इंडिया टुडे का हिंदी में प्रकाशन शुरु हुआ और अखबारों में छपे विज्ञापन में हिंदी पत्रकारिता को फलों के छिलकों से निकला जूस बताया गया तो वे बहुत विचलित हुए और उन्होंने जवाबी हमला करते हुए विज्ञापन दिया कि हिंदी पत्रकारिता की सतत प्रवाहमयी सरिता है. यह वह संस्थान है जहां कमलेश्वर, मोहन राकेश से लेकर अरविंद कुमार तक ने अपनी पत्रकारिता शुरु की थी. उन्होंने गृहशोभा का प्रकाशन शुरु किया जिसने सारे रिकार्ड तोड़ दिए. एक बार उन्होंने मुझसे कहा कि मैं ज्यादा लाभ कमाने के लिए इसका दाम नहीं बढ़ा रहा हूं. मैं तो इस गलतफहमी को तोड़ना चाहता हूं कि सिर्फ अंग्रेजी का पाठक ही मंहगी पत्रिका खरीद सकता है. अंततः उन्होंने गृह शोभा को इंडिया टुडे से ज्यादा कीमत पर कहीं ज्यादा संख्या में बेचकर अपनी बात को सही साबित किया.

वह कुछ मामलों में सिद्धांतवादी थे. उनके पिता के समय से यह परंपरा चली आ रही है कि पत्रिका में सिगरेट, शराब आदि के विज्ञापन नहीं दिए जायेंगे. तब इनके विज्ञापनों पर प्रतिबंध नहीं था. सरिता का अंतिम पृष्ठ उस समय भी कई लाख का था. उस विज्ञापन में एक महिला बिना कपड़े पहने इस प्रकार बैठी थी कि कुछ भी नजर नहीं आ रहा था. पत्रिका बाजार में पहुंचते ही एक पाठक की चिट्ठी आयी कि इस पारिवारिक पत्रिका के नवीनतम अंक का अंतिम पृष्ठ खोला तो अवाक रह गया. इतनी अश्लील तस्वीर देखकर लगा कि इसे मंगवाना बंद कर दूं. पत्र पढ़ते ही तुरंत विज्ञापन विभाग को तलब किया गया और आदेश हुआ कि इसे तुरंत रुकवा दो. कंपनी से कहो कि वह विज्ञापन बदले. अगर वह तैयार न हो तो उसके भावी प्रकाशनों पर भी रोक लगा दो. परेशनाथ हर पत्र को खुद पढते थे. उसका जवाब देते थे. पाठकों को पत्रिका से जोड़ने के लिए, बच्चों के मुख से, यह भी खूब रही, जब मैं शर्म से लाल हुई सरीखे स्तंभ छापे जाते थे जिसमें उनके संस्मरणों का प्रकाशित करने के साथ ही उन्हें पुस्तकें इनाम में दी जाती थी. एक बार किसी पुरुष पाठक ने लिखा कि आप गृहशोभा में महिलाओं की ऐसी तस्वीरें छापते हैं कि हमें शर्म आती है तो उन्होंने जवाब दिया कि यह महिलाओं की पत्रिका है इसे आपको पढ़ने के लिए किसने कहा. यह पाठकों का उनकी पत्रिकाओं के प्रति लगाव ही था कि जब एक बार वितरकों ने कमीशन के मुद्दे पर हड़ताल कर दी और सरिता की जगह मिलती जुलती पत्रिका डालने लगे तो पाठकों ने कहा कि अगर सरिता हो तभी लाना कुछ और नहीं.

email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • क्षिप्रा-नर्मदा जोड़-तोड़
  • हमारी नदी तुम्हारी नदी
  • एक था चांद नवाब
  • सरकार और संघ परिवार
  • कब मिटेंगे फासले ?
  • जाना सुनील शाह का
  • मैं नास्तिक क्यों हूं
  • जब साठ भये तब ठाठ भये!
  • एक लींजेंड का नाम प्राण
  • कौन भगवान दादा?
  • नदियां उदास हैं
  • जेलर बाबूजी का जाना
  • एक था मैफेयर फिल्म हाल
  • एक मिथक का नाम राजेश खन्ना
  • अफ़सोस हम न होंगे…
  • किधर जा रहा है सिनेमा
  • और एक था, ज्वेल थीफ़!
  • दिल्ली - दंगा करने की साजिश
  • अब चाहिए सप्तक्रांति
  • संकट में सारस
  • अंतागढ़ चुनाव बताएगा मूड
  • राख में बदलती जिन्दगी
  • तिकरित में फंसी नर्से
  • एक विलक्षण नेता
  • रिपोर्टर ,सपादक और न्यूज़ रूम
  • तमिलनाडु के अच्छे दिन
  • याद आते है शैलेंद्र
  • मूलचंद की सुध किसी ने नहीं ली
  • और हिंदू राष्ट्र का सपना
  • यादों के सहारे
  • बिन पानी सब सून . . .
  • तमिलनाडु - जनता के पांच सवाल
  • ये वो पुस्तक मेला तो नहीं
  • चंबल मे पानी का मुददा !
  • मिट्टी की मोहब्बत में…
  • भगत सिंह को याद करने का मतलब
  • काशीनाथ के नाम खुला पत्र
  • बनारस त बनारसे रहेगा
  • मुमताज से मधुबाला
  • जंगल की पाठशाला
  • पत्रकारिता की घिसी हुई सीढिय़ां
  • मुलताई के किसानों का आंदोलन
  • अभी भी पुनर्वास के इंतजार में
  • चंबल पर फ़िदा तिग्मांशु धूलिया
  • घरेलू श्रमिकों की पीड़ा
  • चली गईं रेशमा....
  • ‘न दोस्त है न रकीब है ....
  • मन्ना डे , एक पीढी विदा हो गई
  • गाँधी ,मनु आभा और राजेंद्र यादव !
  • सबुज रंग छीट मगाय द....
  • खामियाजा भुगतती नर्मदा घाटी
  • जे युद्धे भाई के मारे भाई
  • तीन पीढ़ियां तीन दृष्टिकोण
  • केदारनाथ में तांडव
  • आपदा में लूट
  • संघ का पारम्परिक विरोध कब तक
  • बौद्ध धम्म की प्रासंगिकता
  • मस्तराम कपूर
  • यह मिजाज लोकतंत्र के खिलाफ
  • विकास का पतन
  • नफ़रत फैलाने की ट्रेनिंग
  • दलितों ने क्या चाहा था
  • आक्रोश को आवाज
  • तें देखिअ ठाठ
  • खुशबू गुजरात की
  • हरसिंगार फूलने लगे
  • दलित गुलामी का दस्तावेज़
  • पंडित जी ! प्रणाम ......
  • व्यवस्था नैतिक नहीं, राजनीतिक है
  • राम , कृष्ण और शिव
  • माओवादी भी बंटे हुए हैं
  • कौन हूं मैं
  • दिनमान ने भाषा दी है
  • हमने तराशा है फेसबुक
  • जो नब्बे पार है
  • अगर प्रेमचंद हिंदू थे
  • महत्वाकांक्षाओं को कतर दिया
  • कसीदे काढ़ने से पहले इंतज़ार करें
  • बडे पैमाने पर हथियार खरीदी
  • तर्क और तथ्य दोनों गलत
  • अंग्रेजी का साहित्यिक उपनिवेश
  • दुख हुआ,पर अचंभा नहीं
  • आदिवासी ने क्या हासिल किया
  • जिए भी एक अखबार की तरह
  • कार्पोरेट घरानों की लूट का सवाल
  • पटेल की कहानी पर धुंध
  • सत्ता की ओखली में कांग्रेस
  • हर मोड़ पर मौत का सामान
  • माओवाद चला अमेरिकी राह
  • ये व्यवस्था के हथियार है
  • कौन हैं ये लोग?
  • पत्तियों के पीछे पहाड़ थे
  • प्रेमचंद आज भी ज़िंदा हैं
  • उप्र से प्रतिभा का पलायन
  • राज खोलेगी बात ही
  • अभी जनता खामोश है
  • हम ग्रीस से सबक सीखेंगे?
  • पहाड़ी नदी की ध्वनि
  • संयुक्त राष्ट्र जाना भूल थी
  • नया कलयुगी मल्टीमीडिया
  • गणतंत्र दिवस अब राष्ट्र दिवस
  • गांधी, अन्ना हजारे और भ्रष्टाचार
  • अन्ना हजारे और इरोम शर्मिला
  • राजनीति को ऐसी चुनौती
  • चराग़ ए नूर जलाओ....
  • बंगाल चुनाव
  • क्या तुम धार्मिक हो?
  • एशिया से गाजा तक कारवां
  • लोकपाल मुद्दे की प्रतिध्वनि
  • एअर इंडिया की मूर्छा टूटी
  • बेगम से खुली हसन अली की किस्मत
  • धर्म और राजनीति के गुरु
  • बच्ची पढ़ती तो पूरा परिवार पढ़ता
  • देशवासियों से भी क्षमायाचना
  • जंगल का कानून नहीं चलेगा
  • राख में बदल देगी तम्बाकू
  • दुनिया का सबसे महंगा रोग
  • अब हिमालय पर बनेगी सड़क
  • यात्रा को लेकर विवाद गर्माया
  • जिन्हें जंगल जिंदा रखता है
  • भ्रष्टाचार के खिलाफ फिर आक्रोश
  • समाजवादी चेतना के प्रकाश पुंज
  • सबसे बड़ा घोटाला
  • गिद्धों का सफाया हो चुका
  • आदर्श में तो गडकरी भी
  • बंद नही होगा ओबामा का विमान
  • फैसले पर उठे सवाल
  • ब्लॉगिंग की आचार संहिता
  • माओवादियों ने बदली रणनीति
  • विदर्भ के रास्ते पर छत्तीसगढ़
  • बिहार में बदलेगा समीकरण
  • वे लोहिया को भी भूल गए
  • पाकिस्तान का भविष्य खतरे में
  • अयोध्या पर शुरू हुई पेशबंदी
  • विभूति के उतराधिकारी की तलाश
  • नवीन ,निवेश और कांग्रेस
  • कॉमनवेल्थ का एक और पाप
  • गाँधी की खादी बाजार के हवाले
  • आम आदमी के लिए आजादी
  • स्वाधीनता आंदोलन का यथार्थ
  • 15 अगस्त 1947 का टाइम्स
  • साहित्यिक पत्रकारिता का पतन
  • जागेश्वर का मेला
  • हाजी मस्तान की जिंदगी
  • फ़्रांस की क्रांति
  • वह माओवादी नहीं पत्रकार था
  • 1984 में आप कहां थे?
  • मुनाफे के लिए जहरीली तकनीकें
  • ब्लू स्टार और भोपाल कांड
  • मंद पड़ गई विकास की गति
  • एक और विनोवा भावे चाहिए
  • राम भरोसे है चारधाम यात्रा
  • नारद निराले हैं, बेजोड़ हैं
  • ये जातीय उत्पीड़न है
  • बुंदेलखंड में तेज हुआ पलायन
  • पैसा दीजिए,डिग्रियां खरीदिए
  • माल्या, मोदी और भूख
  • धोखा हैं गंगा कार्य योजना
  • खेतों में धधक रही आग
  • एक साथ हमला बोला जाए
  • पाकिस्तान से बड़े सौदे की तलाश में
  • माओवादियों से पल्ला झाड़ा
  • बोफोर्स तोपों की खरीद
  • बारहनाजा का एक फसलचक्र है
  • कैदी वोट बैंक नहीं होते
  • मोदी का ‘जीवंत’ गुजरात
  • दस पर भारी दो महीने
  • चिदंबरम के ‘लड़के’
  • कहानी लदुना के पानी की...
  • हम पी रहे है मीठा जहर
  • यह हमारा पता है
  • आडवाणी ने बनाया -सुषमा
  • समाजवादी से पूंजीवादी हो गया
  • नगा साधु चलाएंगे हरित अभियान
  • अस्तित्व को ले कर कई सवाल
  • किस्से तो और भी है !
  • कांग्रेस में शीला ही मर्द - ठाकरे
  • विदा हो कर भी वे विदा नहीं
  • विकलांगों की नई बस्तियां तैयार
  • पर्यावरण पर अमेरिकी खतरा
  • भारत के मुसलमान मजे में हैं
  • भारत के मुसलमान मजे में हैं
  • सुरक्षित ठिकानो की ओर
  • शिवनाथ के इतिहास का राज
  • बदल गई अमदाबाद की हवा
  • प्रभाष जी ऐसे द्रोणाचार्य थे......
  • खेत बर्बाद कर रही है चीनी मिले
  • उतराखंड में वन्दे मातरम
  • यह सजा मुसलमान होने की?
  • सरकार के खिलाफ खडा होता किसान
  • साहित्य का भी गढ़ है छत्तीसगढ़
  • कचरे से बने समुद्री डाकू
  • चुनार किला संकट में
  • भुखमरी की कगार पर किसान
  • हिन्द स्वराज के सौ बरस
  • धरम के कुँए में स्वतंत्र चिंतन !
  • स्कूलों में पल रही गैरबराबरी
  • गांधी को ‘महात्मा’ मुसलमान ने बनाया
  • मीडिया पर हावी बाजार
  • इस्लाम में कोई स्वतंत्र दार्शनिक क्यों नहीं ?
  • तिरुमाली बच्चे पढने लगे हैं
  • पुनर्जन्म की पहेली
  • ‘‘लाल सलाम‘‘ का नारा
  • फिर बनेगा बांध ,बेघर होंगे लोग
  • हुसैन से थोडा निराश हूँ,-वामन ठाकरे
  • आफत में फंसे हैं आडवाणी
  • गोधरा से साबरमती लौटने की संभावना
  • शोपियां कांड के बाद
  • पहली अग्नि-परीक्षा में सफल हुए निशंक
  • नए आयाम दिखा गया लखनऊ फिल्मोत्सव
  • मीडिया का मोतियाबिंद -3
  • एजुकेशन बिल की पैकेजिंग देखिए
  • कांग्रेस बनाएगी बुंदेलखंड राज्य
  • नहीं मिल रहा अतिथि का दर्जा
  • फिर से परिवारवाद की बहस
  • कांग्रेस से बेहतर नहीं है भाजपा
  • सूखे का सामना आसानी से
  • कश्मीर में मीडिया
  • सबसे लोकप्रिय नेता जसवंत सिंह
  • जिन्ना- भारत विभाजन के आइने में
  • घट गया गन्ने का रकबा
  • वाजपेयी युग का अवसान
  • और बादलों में खो गई सड़क
  • छीना जा रहा है गरीबों का हक
  • कोई अख़बार जवाब भी नहीं देता
  • लालू का भविष्य बता देंगे उप चुनाव
  • प्रतिभा का पूरा संग्रहालय थे किशोर कुमार
  • माओवादियों के बचाव में पीयूसीएल?
  • बस्तर में माओवादियों का राज
  • विवादों भरा ही रहा है बुद्धदेव का कार्यकाल
  • महिलाओं की आंखों में पलते ख्वाब
  • उत्तर प्रदेश में राजनीति के नए ध्रुव बने
  • गहराने लगा है अकाल का संकट
  • शर्मनाक है लेखकों - संस्कृतिकर्मियों की शिरकत
  • आखिरी सांस तक कॉमरेड ज्योति बसु
  • छत्तीसगढ़ के बांध सूखने की कगार पर
  • सारे दिन काम और मजदूरी एक मुट्ठी धान
  • शहीद सौरभ कालिया का नाम याद है आपको?
  • ''निशंक’’ के कंधे पर जनरल की बंन्दूक
  • रद्दी का पुलंदा है लिब्राहन कमेटी की रिपोर्ट
  • बादलों के साथ रसायनिक छेड़छाड़ खतरनाक
  • कैसे भूल गये गैर कांग्रेसवाद का नारा
  • विश्व हिन्दी सम्मेलन,एक टिप्पणी
  • साहित्यकार भी है नरेंद्र मोदी
  • हबीब तनवीर होने का मतलब
  • श्री बदरीनाथ पावन बैकुण्ठ धाम
  • भूटान तक पहुंच गई सिंगुर की आंच
  • राजनीतिक हथियार बना आइला
  • माओवाद- बैरक बनाएगा बीएसपी
  • पंजाब में सरकार निकली खलनायक
  • पंजाबियों के लिए संयम की परीक्षा
  • अर्जुन सिंह का कसूर हैं अर्जुन सिंह होना
  • बंगाल में औंधे मुंह गिरा वाममोर्चा
  • सुभाष बोस से कांग्रेस की दिक्कत क्या है?
  • जेपी की जेल डायरी
  • लाल गलियारा बनाना चाहते है माओवादी
  • हाथी नहीं रहे साथी?
  • चिंता के केंद्र से बाहर हैं बच्चे
  • गंगोत्री धाम के कपाट खुले
  • दो हजार साल पुराना हमाम मिला
  • राजनीति में अपराधियों का बोल-बाला
  • कांग्रेस को बढ़त मिलती नज़र आ रही है
  • चढ़ता पारा और उतरता सर्वजन?
  • असम पर लटकी उल्फा की तलवार
  • साहित्य का भी गढ़ है छत्तीसगढ़
  • बंगाल में चुनाव प्रचार के नायाब तरीके
  • ‘दुर्ग’ पर कब्जे की जंग
  • फिर तेली कूर्मि भाई-भाई का नारा
  • सिक्किम में चामलिंग का दहला
  • आज माखनलाल चतुर्वेदी जयंती
  • सूचना तंत्र की ताकत के आगे नतमस्तक
  • नक्सली आतंक के बीच त्रिकोणीय मुकाबला
  • केरल में वाम दलों को चुनौती दे रही हैं मायावती
  • लक्ष्मी भी है लोकसभा चुनाव के मैदान में
  • राहुल गांधी ने यूपी का प्रचार दक्षिण में किया
  • मिजोरम में गरमाने लगी चुनावी राजनीति
  • तालमेल पर भी बीजद में भारी मतभेद
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.