ताजा खबर
बिगड़े जदयू-राजद के रिश्ते नीतीश ने क्यों बनायी अखिलेश से दूरी ! पूर्वांचल में तो डगमगा रही है भाजपा सीएम नहीं तो पीएम बनेंगे !
मुख्तार ने बढ़ाया बसपा का दबदबा

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के लिए रार का कारण बने मऊ के विधायक मुख़्तार अंसारी पूर्वी उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी के लिए ट्रम्प कार्ड हो गए हैं। पार्टी ने पहले उनके हिसाब से उन्हें और उनके परिजनों को टिकट दिया और अब उनके बड़े भाई पूर्व सांसद अफजाल अंसारी का स्टार प्रचारक के रूप में उपयोग कर रही है। ताजुब्ब यह है कि सपा में कौमी एकता के विलय को लेकर सर पर आसमान उठा लेने वाले पत्रकार भी इसे संज्ञान में भी नहीं ले रहे हैं।

विधानसभा चुनाव के प्रारंभिक दौर तक विधायक मुख्तार अंसारी की कोशिश रही कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कम से कम उनके विधायक भाई शिगतुल्ला अंसारी को मोहम्मदाबाद, ग़ाज़ीपुर और उनके पुत्र अब्बास अंसारी को वाराणसी या घोसी से सपा का टिकट दे दें। इसके लिए विधायक शिगतुल्ला अंसारी अखिलेश की ताजपोसी वाले सम्मेलन में भी शामिल हुए। मुख्यमंत्री के चाचा शिवपाल यादव ने भी इसके लिए प्रयास भी किया, लेकिन मुख्यमंत्री इसे किसी कीमत पर मानने के लिए तैयार नहीं हुए। मुख्यमंत्री के इस निर्णय की सराहना भी  हुई कि वह राजनीति के  अपराधीकरण के विरोधी हैं।
समाजवादी पार्टी से निराश होने के बाद मुख्तार अंसारी ने बहुजन समाज पार्टी के दरवाजे पर दस्तक दिया। प्रतिफल में बसपा ने उनके बेटे अब्बास अंसारी, भाई शिगतुल्ला अंसारी के साथ ही खुद मुख़्तार अंसारी को पार्टी का अधिकृत प्रत्याशी बना दिया। यही नहीं, मुख्तार अंसारी के बड़े भाई पूर्व सांसद अफजाल अंसारी का भी उपयोग बसपा अपने स्टार प्रचारक के रूप में कर रही है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार पूर्व सांसद अफजाल अंसारी अब तक इलाहाबाद, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, अमेठी, लखनऊ, गोरखपुर, बस्ती, बलिया और वाराणसी में बसपा उम्मीदवारों के लिए सभा और जनसम्पर्क कर चुके हैं। ताजुब्ब यह है कि इसे वे पत्रकार भी संज्ञान में नहीं रहे हैं जो कौमी एकता दल के विलय को राजनीति में साफ सुथरी राजनीति के लिए घातक मान रहे थे। 
लोकसभा चुनाव में अफजाल अंसारी के इलेक्शन एजेंट रहे शिवकुमार राय जैसे लोग अपने पूर्व सांसद की इस व्यस्तता से परेशान हैं। इन लोगों का कहना है कि उन्हें अब सीधे सीधे मोहम्मदाबाद, मऊ, घोसी और जमानियां विधान सभा का मोर्चा सम्भालना चाहिए।
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • नीतीश ने क्यों बनायी अखिलेश से दूरी !
  • बिगड़े जदयू-राजद के रिश्ते
  • यूपी में हमारी सरकार -अमित शाह
  • भाजपा का खेल बिगाड़ती हिंदू वाहिनी
  • गधा बनाम कसाब!
  • सीएम नहीं तो पीएम बनेंगे !
  • सत्ता में लौट रही है भाजपा !
  • परिवार में आग लगा रही भाजपा -अमिता
  • फिर विवादों में घिरी एसपीजी
  • पूर्वांचल में तो डगमगा रही है भाजपा
  • मोदी को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती -गहलौत
  • मोदी बनाम अखिलेश होता चुनाव
  • बमबम हुआ गठबंधन
  • किसकी मदद कर रहें हैं अमर सिंह
  • उत्साहीलाल पुलिस का उत्साह!
  • क्या भाजपा चुनाव हारना चाहती है
  • भाजपा को हराकर सबक सिखाएं -डिंपल
  • युवाओं को यह साथ पसंद है
  • मुस्लिम दलों का दमखम भी देखे
  • राजपाट
  • वाराणसी में भी बगावत
  • गोलबंदी के भरोसे कैराना
  • पश्चिम में लोकदल ने बिगाड़ा खेल
  • पूर्वांचल में बसपा का दबदबा
  • अरुण जेटली राष्ट्रपति बनेंगे?
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.