ताजा खबर
एनडीटीवी को घेरने की कोशिशे और तेज वे भी लड़ाई के लिए तैयार है ! छात्र नेताओं को जेल में यातना ! मेधा पाटकर और सुनीलम गिरफ्तार !
बागियों को शह देते मुलायम

दिनेश शाक्य

इटावा  । समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव  अपने गृह जिले इटावा के दो दिनी दौरे का ख़त्म कर आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे के माध्यम से लखनऊ वापस लौट गये । वैसे तो मुलायम सिंह यादव कई सैकडो लोगो से मिले लेकिन इस दौरान उनकी मुलाकात उस संगठन के समर्थको से भी हुई जिसने हालिया चुनाव के दरम्यान समाजवादी पार्टी के उम्मीदवारो को हराने के लिए बडे ही जोशोखरोश से काम किया रहा जिसके नतीजे मे इटावा की दो विधानसभा सीटो पर भाजपा का कब्जा हो गया जब कि पहले से यह दोनो सीटे सपा के कब्जे मे थी । मुलायम सिंह यादव की इस संगठन के पदाधिकारियो से हुई मुलाकात खासी चर्चा का विषय बना हुआ दिख रहा है ।
चुनाव के वक्त इस संगठन का नाम मुलायम के लोग रखा गया था जिसकी हर गतिविधि चुनाव के वक्त खासी चर्चा मे इसलिए रही क्यो कि इस सगंठन को मुलायम सिंह यादव के भाई शिवपाल सिंह यादव का खासा समर्थन हासिल था । शिवपाल सिंह यादव दो दफा मुलायम के लोगो से मिलने के लिए उनके कार्यालय पर भी गये रहे । सबसे अधिक हैरत की बात तो यह रही कि मुलायम के लोग नामक कार्यालय को उस चौगुर्जी मुहाल मे एक निजी भवन मे ही खोला गया था जहॉ पर मुलायम सिंह के भाई शिवपाल सिंह यादव का आवास भी बना हुआ है । 
खैर बात करते है मुलायम सिंह यादव की उनके नाम पर रखे गये संगठन के पदाधिकारियो से हुई मुलाकात की । मुलायम सिंह से मुलाकात करने वालो मे मुलायम के लोग संगठन के प्रमुख पदाधिकारियो मे पूर्व विधायक रधुराज सिंह शाक्य,पूर्व विधायक श्रीमती सुखदेवी वर्मा, अजय भदौरिया,कृष्ण मुरारी गुप्ता,मोहम्मद अनवार,फरहान शकील समेत दर्जन भर के आसपास पदाधिकारी रहे । इनमे से अजय भदौरिया , कृष्ण मुरारी गुप्ता समाजवादी पार्टी के जिला ईकाई के महासचिव भी रह चुके है । अजय भदौरिया ने बताया कि उनकी नेता जी से शनिवार शाम को भी काफी देर तक मुलाकात हुई उसके बाद रविवार सुबह भी काफी देर तक मेल मुलाकात हुई लेकिन उनका कहना है कि नेता जी से इस मुलाकात के राजनैतिक निहतार्थ निकाले जाने का कोई मतलब नही है क्यो कि नेता जी काफी दिनो बाद इटावा आये थे इसलिए सगंठन के सभी पदाधिकारी मुलायम सिंह यादव से औपचारिक मुलाकात करने के लिए आये रहे  ।
शनिवार शाम को भी इस संगठन के पदाधिकारी मुलायम सिंह यादव से मिलने के लिए आये रहे उसके बाद रविवार सुबह भी सभी ने सिलसिलेबार ढंग से मुलाकात मुलायम से की । इसके अलावा उत्तर प्रदेश के पूर्व दर्जा प्राप्त मंत्री रामसेवक यादव और पूर्व विधान परिषद सदस्य रामनरेश यादव मिनी से भी उनकी मुलाकात हुई को भी खासा अहम माना जा रहा है । दोनो ही नेताओ के अनुरोध पर मुलायम सिंह यादव अमर आशियाना होटल भी गये जहॉ पर उनका मुलायम के लोग संगठन के पदाधिकारियो ने स्वागत सत्कार भी किया । जितने लोग मुलायम सिंह से मिलने के लिए उनके आवास पर नही आये उससे कही ज्यादा लोग होटल अमर आशियाना मे गये । 
शनिवार को जिस समय मुलायम सिंह यादव अपने सिविल लाइन स्थिति आवास पर पहंुचे थे । उस समय कोई भी सपा समर्थक उनके आवास पर जिंदाबाद करने के लिए तक नही था जब कि मुलायम के आने की खबर सपाईयो को पहले से ही थी । इसी कारण मुलायम सिंह यादव ने अपने निजी सहायक से सबसे पहले समाजवादी पार्टी की जिला ईकाई के अध्यक्ष गोपाल यादव और इटावा नगर पालिका परिषद के चैयरमैन कुलदीप गुप्ता को भी फोन करके तत्काल बुलवाया । दोनो नेता फोन आने के चंद मिनट बाद ही मुलायम सिंह यादव के पास जा पहुंचे । समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष गोपाल यादव ने इस बात की पुष्टि करते हुए बताया कि यह बात सही है कि नेता जी ने फोन करके बुलवाया तो जरूर लेकिन उन्होने कोई भी राजनैतिक या फिर गैर राजनैतिक चर्चा नही की । इसके ठीक विपरीत इटावा नगर पालिका परिषद के चैयरमैन कुलदीप गुप्ता का कहना है कि उनके लिए भी नेता जी का बुलावा आया था जिस पर वो नेता जी से मिलने के लिए गये थे जहॉ पर नेता जी ने पहले अपना आर्शीवाद दिया फिर चुनाव को लेकर उन्होने चर्चाए की । नेता जी यह भी कहने मे गुरेज नही किया कि इटावा मे काली वाहन मंदिर,बाइस ख्बाजा और शमशान घाट का व्यापक विकास कराये जाने के बाद भी चुनाव नही जीत पाये यह बडे ही आर्श्चय की बात है । 
इटावा में चुनाव पूर्व मुलायम के लोग नामक कार्यालय खोलकर के खासी सुर्खियां बटोरी गई थी लेकिन 17 फरवरी के बाद इस कार्यालय को पूरी तरह से बंद कर दिया । 19 फरवरी को चुनाव इटावा मे तीसरे चरण मे चुनाव हुआ था । मुलायम के लोग कार्यालय मे तालाबंदी ने हर किसी को सन्न कर दिया क्यो कि इस संगठन के पदाधिकारियो का दावा था कि यह कार्यालय मुलायम समर्थको का सम्मान करने के लिए खोला गया है । खुद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री की हैसियत से भी इस कार्यालय के औचित्य पर 16 फरवरी को इटावा मे हुई अपनी चुनावी रैली मे सवाल उठाया था ।
जितनी चर्चा मुलायम के लोग कार्यालय खोलने के बाद इटावा में नहीं हुई उससे कहीं ज्यादा चर्चा अब इस कार्यालय के बंद होने के बाद शुरू हुई लेकिन आज एक बार से इस संगठन का नाम सुर्खियो मे इस लिए आ गया है क्यो कि इस संगठन के पदाधिकारियो ने मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की हुई है । यह मुलाकात आने वाले वक्त मे क्या गुल खिलायेगी यह देखने वाली बात रहेगी । 
शनिवार को समाजवादी पार्टी के संरक्षक  मुलायम सिंह यादव ने साफ किया था कि उनके भाई शिवपाल सिंह यादव  ना तो भारतीय जनता पार्टी में शामिल होंगे और ना ही कोई दूसरा दल बनाएंगे । उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी में कोई अनबन नहीं है  सभी लोग मिलकर के समाजवादी पार्टी की मजबूती के लिए काम करेंगे । अभी वह समाजवादी पार्टी के सदस्य नहीं बने हैं बहुत जल्दी सदस्य बन जाएंगे । विधानसभा चुनाव के बाद यहां पहली बार अपने आवास पर पहुंचे सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव पार्टी जनों से मिले और नीतियों पर चर्चा की। 
 
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • एनडीटीवी को घेरने की कोशिशे और तेज
  • वे भी लड़ाई के लिए तैयार है !
  • छात्र नेताओं को जेल में यातना !
  • प्रणय राय से बदला ले रही सरकार !
  • तेज हुआ किसान आंदोलन
  • मेधा पाटकर और सुनीलम गिरफ्तार !
  • दम तोड़ रही है नैनी झील
  • गैर भाजपावाद की नई पहल
  • कहां गये दूसरी परंपरा के हिंदू?
  • बांधों को लेकर सवाल बरकरार
  • अखिलेश पर दबाव बढ़ा रहें है मुलायम
  • ईवीएम से छेड़छाड़ संभव है
  • शराब कारोबार की उलटी गिनती
  • शुरुआत तो ठीक ही हुई है महाराज !
  • केशव प्रसाद मौर्य होंगे यूपी के सीएम ?
  • उत्तर प्रदेश में मोदी का रामराज !
  • तैयारी में जुटे राजनाथ !
  • एक नहीं साठ स्टेशन बेचने की तैयारी !
  • आओ चलो हवा बनाएं
  • डर कर पूर्वांचल में बैठ गए मोदी -अखिलेश
  • कांग्रेस के रुख से नीतीश ने बदली राह ?
  • ई राज्ज्ज़ा काशी है
  • अगला राष्‍ट्रपति कौन ?
  • बनारस में बैठ गई सरकार
  • पर गढ़ में भी नहीं बंटे मुस्लिम
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.