जनादेश

इस अंधविश्वास के पीछे है कौन ? सरगुजा की मांड नदी का बालू खोद डाला लैंसेट ने लेख क्यों वापस लिया? क्या बड़ा मेडिकल घोटाला है यह ! अमेरिकी आंदोलन को ओबामा का समर्थन ये फेक न्यूज़ फैलाते हैं ? भारत चीन के बीच शांति का रास्ता तिब्बत से गुजरता है - प्रो आनंद कुमार पांच जून 1974 को गांधी मैदान का दृश्य ! रामसुदंर गोंड़ की हत्या की हो उच्चस्तरीय जांच-दारापुरी घर लौटे मजदूरों से कानून-व्यवस्था को खतरा ? अंफन ने बदली सुंदरबन की तस्वीर और तकदीर बबीता गौरव से कौन डर रहा है अख़बार से निकले थे फ़िल्मकार बासु चटर्जी देश में कोरोना तो बिहार में होगा चुनाव ? बुंदेलखंड़ लौटे मजदूरों की व्यथा भी सुने ! बिहार को कितनी मदद देगा केंद्र ,साफ बताएं एजेंसी की खबरें भरते हिन्दी अखबार ! दान में भी घालमेल ! मंच पर गांधी थे नीचे मैं -पारीख पार्टी और आंदोलन के बीच संपूर्ण क्रांति इसलिए पांच जून एक यादगार तारीख है !

घर से बाहर हो गई महरी !

ज्ञानेंद्र शर्मा

आगे आने वाले महीनों में और खासकर इस साल के शेषार्ध  में कुछ नई घटनाएं और घटनाओं सी लगने वाली अघटनाएं होने की संभावनाएं बराबर मंडरा रही हैं. सबसे पहली चोट तो पड़ रही है, घरेलू नौकरों, महरियों और कामवाली बाइयों पर. जिस तरह से सरकार का झुकाव मालिकों/उद्योगों की तरफ हो रहा है, इन घरेलू नौकरों की मुसीबतें और भी बढ़ सकती हैं.  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 अगस्त 2015 को, यानी पहली बार प्रधानमंत्री बनने के कुछ ही समय बाद यह संकेत दिए थे कि घरेलू नौकरों को बेहतर सेवा शर्तें दी जाएंगी. उन्होंने संकेत दिया था कि इन्हें पूर्णकालिक सेवा के लिए कम से कम 9000 रु मासिक वेतन मिलना चाहिए, 15 दिन की पेड लीव, मैटरनिटी लीव, सुरक्षा मिलनी चाहिए. उन्होंने कहा था कि केन्द्रीय केबिनेट में जल्दी नेशनल पालिसी फाॅर डोमेस्टिक वर्कर्स का मसौदा लाया जाएगा और उस पर काम होगा. लेकिन ताजा जानकारी बताती है कि यह प्रस्ताव तब से अब तक भी सरकार के विचाराधीन ही है.

  इस बीच कामकाजी महिलाओं/काम वाली बाइयों/महरियों की कठिनाइयाॅ इस महामारी और लाॅकडाउन ने और भी बढ़ा दी हैं. कई जगहों से ऐसी खबरें आ रही हैं कि लाकडाउन के समय काम पर न आने की वजह से उस अवधि का वेतन लोग उन्हें नहीं दे रहे हैं. कई कालोनियों ने और मुहल्ला कमेटियों ने महामारी के डर से महरियों का प्रवेश  अपने यहाॅ बंद कर दिया था और अब इस अवधि में काम न करने के कारण उन्हें मेहनताना देने से मना किया जा रहा है. अब चूॅकि कामवाली महरियों यानी मेड्स को काम पर वापस लेने की अनुमति सरकार ने दे दी है तो उनकी पिछले दिनों की तनख्वाह का सवाल उठ रहा है.

 यह भी कम उल्लेखनीय बात नहीं है कि नोयडा जैसे कुछ शहरों में इन मेड्स के एक से अधिक घरों में काम करने पर रोक लगा दी गई है. ऐसे आदेश  देने वाले जिलाधिकारी इस बात की अनदेखी कर रहे हैं कि ज्यादातर घरों में ये बाइयाॅ अंशकालिक यानी पार्ट टाइम के तौर पर काम करती हैं इसलिए कई घरों में काम करना उनकी मजबूरी होती है. वरना उन्हें जीवन यापन करना मुश्किल  हो जाएगा. यह भी गौर करने लायक है कि उनके काम के घंटे तय नहीं होते, साप्ताहिक अवकाश  उन्हें नहीं दिया जाता, बहुत कम मेहनताना दिया जाता है, बीमार पड़ जायं तो दूसरी मेड काम पर रख ली जाती है. बहुत सारी मेड्स के पति अंततः उन्हीें की कमाई पर निर्भर हो जाते हैं और इस तरह बच्चों के अलावा पति की देखभाल भी उनकी ही जिम्मेदारी हो जाती है.लेखक वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सूचना आयुक्त रहे हैं .


Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :