जनादेश

जब तक जिए शान से जिये चन्द्रशेखर असली समस्या तो बुद्धि है सादगी में मुस्कुराता चेहरा यानी चंद्रशेखर गांव ,गरीब और पेड़ के लिए सत्याग्रह गुजर जाना एक दरख्त का जोमैटो में चीन का निवेश रुका कोई क्यों बनती है आयुषी क्या समय पर हो जाएगा वैक्सीन का ट्रायल हरफनमौला पत्रकार की तलाश काफ़्का और वह बच्ची ! कोरोना ने चर्च भी बंद कराया सरकार अपनी जिम्मेदारियों से क्यों भाग रही है? वसूली का दबाव अलोकतांत्रिक विपक्षी दलों ने कहा ,राजधर्म का पालन हो पुर्तगाल ,गोवा और आजादी कब शुरू हुई बाबाओं की अंधविश्वास फ़ैक्ट्री कोरोना से बाल बाल बचे नीतीश आंदोलनकारी या अतिक्रमणकारी ओली के बाद प्रचंड की भी राह आसान नही खामोश हो गई सितारों को उंगली से नचाने वाली आवाज

चौधरी से मिले तेजस्वी यादव

आलोक कुमार

पटना के 10 सर्कुलर रोड पर आज बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी जी के आवास के सामने हाई वोल्टेज ड्रामा का पटाक्षेप हो गया. जब प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव को राजद विधायकों के साथ गोपालगंज जाकर तिहरे हत्याकांड के परिजनों के आंसू पोछने का सरकारी अनुमति नहीं मिली तो रणनीति में परिवर्तन कर बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चैधरी से मिलने की जिद्द करने लगे. बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी  से अनुमति मिलने के बाद एक प्रतिनिधि मंडल प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के नेतृत्व से मिले. इनके साथ राजद के अध्यक्ष जगतानंद सिंह, पूर्व मंत्री तेजप्रताप यादव और पूर्व मंत्री आलोक कुमार मेहता भी थे.

बिहार विधान सभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी से मुलाकात होने के बाद प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि हमलोग अपराधी नहीं थे कि अपराध करने गोपालगंज जा रहे थे.हमलोग तिहरे हत्याकांड में मारे गए लोगों के परिजनों को सांत्वना देने जा रहे थे.आज तो स्थिति यह है कि संपूर्ण बिहार में अपराधी नंगा नाच दिखा रहे हैं. इसे रोकने का काम नहीं हो रहा है.दूसरी ओर विधायकों को अनुमति नहीं दी जा रही है. अब तो यह हाल है कि प्रतिपक्ष के नेता को विधान सभा अध्यक्ष से मिलने के लिए अनुमति लेना पड़ रहा है. प्रतिपक्ष ने कहा कि विधान सभा अध्यक्ष ने सर्वदलीय बैठक कर कोरोना काल में सहयोग देने का आग्रह किये थे.हमलोग दो माह सरकार को सहयोग दिये .इन दो माह में अपराध चरम पर है.लाॅ एण्ड आॅडर चरमरा गयी है. लूट, हत्या, बलात्कार, दंगा आदि अपराध बढ़ गया है. उन्होंने कहा हमारे प्रवासी श्रमिकों को द्वितीय श्रेणी का नागरिक बना दिया गया है. उनको लाते समय खाने-पीने का ख्याल नहीं किया जा रहा है. उनको सुविधाहीन बना दिया गया है.इसके कारण कई लोगों की मौत हो गयी है.बेलगाम रेलगाड़ी हो गयी है. 80 से लेकर 90 घंटे के बाद श्रमिकों को घर पहुंचाया जा रहा है. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग पर विफरे लाॅकडाउन के दौरान ही प्रधान सचिव का स्थानान्तरण कर दिया जाता है.हमलोग जानना चाहते हैं कि कोरोना की जांच में कमी. लगभग स्वास्थ्य विभाग की स्थिति चरमरा गयी है.

इन मुद्दों को लेकर बिहार विधान सभा की विशेष सत्र बुलाने की मांग अध्यक्ष जी से की गयी है.जब अध्यक्ष जी के कहने पर बजट सत्र,बेरोजगारी यात्रा, राजगीर में प्रशिक्षण बंद करके सरकार को सहयोग दिया गया. इस समय की नाजूक हालत के आलोक में विशेष सत्र बुलाकर विधान सभा में चर्चा हो.सवाल-जवाब हो ताकि सरकार संज्ञान लें.

इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव पर बरसे.वे एक खास समुदाय के लिए कार्य कर रहे हैं. विपक्ष को साथ में लेकर नहीं चले. राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने बुधवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरूद्ध जिला मुख्यालय पर धरना दिया. उसी तरह बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने गुरूवार को सदाकत आश्रम पटना कांग्रेस मुख्यालय के द्वार पर कोरोना काल में मारे गए श्रमिकों के परिजनों को मुआवजा देने की मांग को लेकर धरना-प्रदर्शन किया. इन दोनों दलों के द्वारा आंदोलन पर भारी राजद का गोपालगंज मार्च का कार्यक्रम रहा. जो अगले चुनाव में राजद फायदे में रहेगा.फोटो साभार 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :