जनादेश

जब तक जिए शान से जिये चन्द्रशेखर असली समस्या तो बुद्धि है सादगी में मुस्कुराता चेहरा यानी चंद्रशेखर गांव ,गरीब और पेड़ के लिए सत्याग्रह गुजर जाना एक दरख्त का जोमैटो में चीन का निवेश रुका कोई क्यों बनती है आयुषी क्या समय पर हो जाएगा वैक्सीन का ट्रायल हरफनमौला पत्रकार की तलाश काफ़्का और वह बच्ची ! कोरोना ने चर्च भी बंद कराया सरकार अपनी जिम्मेदारियों से क्यों भाग रही है? वसूली का दबाव अलोकतांत्रिक विपक्षी दलों ने कहा ,राजधर्म का पालन हो पुर्तगाल ,गोवा और आजादी कब शुरू हुई बाबाओं की अंधविश्वास फ़ैक्ट्री कोरोना से बाल बाल बचे नीतीश आंदोलनकारी या अतिक्रमणकारी ओली के बाद प्रचंड की भी राह आसान नही खामोश हो गई सितारों को उंगली से नचाने वाली आवाज

कोरोना के दौर में चुनाव की तैयारी !

आलोक कुमार

पटना. कोरोना काल में बिहार विधान सभा के आम चुनाव की कवायद तेज कर दी गयी है.बिहार में 24 नवंबर तक नयी सरकार का गठन किया जाना है. इसको लेकर मंगलवार को मुख्य चुनाव आयुक्त एच. आर. श्रीनिवासन ने आवश्यक दिशानिर्देश जारी किया है. वहीं सभी जिलों के डीएम एसपी से वीडियो कनफ्रेंसिंग से की बात की गई और चुनाव की तैयारियों पर चर्चा की गई. मतदाता सूची को अपडेट करने का निर्देश दिया गया. इसमें नये नाम जोड़ने और निधन हुए लोगों के नाम हटाने के निर्देश दिए गए. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार साल के अंत तक चुनाव संभावित है.

बिहार में आम चुनाव अक्टूबर-नवंबर में होना प्रस्तावित है. कोरोना के संकट को लेकर देश भर में लॉकडाउन के कारण सामान्य जन-जीवन और अन्य सरकारी कार्य भी प्रभावित हुए. इसी दौरान बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर भी प्रशासनिक और अन्य चुनाव संबंधी कार्यो पर भी असर पड़ा. किंतु, सोमवार के बाद सरकारी कार्यों को लेकर स्थिति सामान्य होने की उम्मीदें बढ़ गयी है. अधिकारी व कर्मचारी भी इसके लिए तैयार हो गये हैं. 

बिहार में अनलाॅक- 1 लागू होते ही सोमवार को बिहार के निर्वाचन विभाग में भी चहल पहल बढ़ गयी.विभाग आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय निर्वाचन आयोग के भी दफ्तर में सामान्य कामकाज शुरू हो गया. पहले जहां कोरोना के कारण रूटीन कामकाज को छोड़कर अन्य कार्य लंबित थे अब वे सभी कार्य शुरू होंगे. आयोग के दफ्तर में भी अब बिहार चुनाव को लेकर बैठकों का दौर शुरू होगा. सूत्रों ने बताया कि आयोग के द्वारा दिये गए निर्देशों के अनुसार बिहार में भी कार्रवाई शुरू हो जाएगी.

बिहार विधान सभा के आम चुनाव को लेकर ऑन लाइन मतदाता सूची में नाम शामिल किए जाने को लेकर आवेदन की प्रक्रिया जारी थी लेकिन भौतिक सत्यापन नही होने के कारण सूची में नाम शामिल नही किये जा सके थे. वह अब नियमित रूप से शुरू हो जाएगा. बिहार में विधान सभा चुनाव को लेकर मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन का कार्य जनवरी 2020 में हुआ था. इसके बाद अभी चुनाव संबंधी तैयारी शुरू होती उसके पहले ही कोरोना का संकट शुरू हो गया था.

बिहार में विधानसभा का आम चुनाव 243 सीटों के लिए शुरू होगा. वर्तमान निर्वाचित विधानसभा का कार्यकाल इसी वर्ष दिसंबर में समाप्त हो जाएगा. इसके दो माह पूर्व चुनाव संबंधी प्रक्रिया शुरू होनी है. 


बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर तैयारियां शुरू हो गई हैं. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच आर श्रीनिवासन ने आज सभी जिला डीए,एसपी के साथ, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का चुनाव की तैयारी में लग जाने का निर्देश दिया. निर्वाचन पदाधिकारी ने सभी जिला को निर्देश दिया कि वोटर लिस्ट वोटर आईडी ईवीएम की स्थिति को लेकर अद्यतन रिपोर्ट निर्वाचन आयुक्त उपलब्ध कराएं. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कोविड-19 हो रही परेशानी मामले पर कहा कि ऐसी परिस्थिति में चुनाव को लेकर तैयारी करनी है. आयोग ने यह भी कहा कि निर्वाचन आयोग का जो निर्णय होगा उसी के अनुरूप आगे चुनाव की तैयारियों का रूप दिया जाएगा.


मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच आर श्रीनिवासन के अनुसार सभी जिलों के डीएम एसपी से वीडियो कनफ्रेंसिंग से की बात की गई और चुनाव की तैयारियों पर चर्चा की गई. मतदाता सूची को अपडेट करने का निर्देश दिया गया. इसमें नये नाम जोड़ने और निधन हुए लोगों के नाम हटाने के निर्देश दिए गए. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार साल के अंत तक चुनाव संभावित है.


मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि तैयारियां ऐसी होंगी कि कोविड 19 से बचा जा सके और आम मतदाताओं को कोई कठिनाई न हो. बैठक में हमने सभी डीएम को कहा है कि चुनावी सम्बंधित तैयारी शुरू करें.  ईवीएम संधारण, एपिक संधारण से लेकर चुनावी सम्बंधित काम काज को आगे बढ़ाएं. मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि वोटर लिस्ट, वोटर आईडी और ईवीएम की स्थिति को लेकर अद्यतन रिपोर्ट निर्वाचन आयुक्त उपलब्ध कराएं. बता दें कि बिहार में 24 नवंबर तक नयी सरकार का गठन किया जाना है. चुनाव आयोग से मिली जानकारी के अनुसार आने वाले समय की स्थिति को देखते हुए तय किया जाएगा कि चुनाव कितने चरणों में होंगे अथवा उसका प्रारूप क्या होगा.

आयोग इस बात पर भी नजर रखे हुए है कि आने वाले अक्टूबर नवंबर में दशहरा, दीपावली और छठ जैसे पर्व भी हैं और इस दौरान किस तरह से चुनाव के कार्यक्रम तय किए जाएं. गौरतलब है कि शारदीय नवरात्र 17 नवंबर से शुरू होगी और 25 अक्टूबर को दशहरा है, वहीं 14 नवंबर को दीपावली और 20 -21 नवंबर को छठ पर्व है.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :