जनादेश

जब तक जिए शान से जिये चन्द्रशेखर असली समस्या तो बुद्धि है सादगी में मुस्कुराता चेहरा यानी चंद्रशेखर गांव ,गरीब और पेड़ के लिए सत्याग्रह गुजर जाना एक दरख्त का जोमैटो में चीन का निवेश रुका कोई क्यों बनती है आयुषी क्या समय पर हो जाएगा वैक्सीन का ट्रायल हरफनमौला पत्रकार की तलाश काफ़्का और वह बच्ची ! कोरोना ने चर्च भी बंद कराया सरकार अपनी जिम्मेदारियों से क्यों भाग रही है? वसूली का दबाव अलोकतांत्रिक विपक्षी दलों ने कहा ,राजधर्म का पालन हो पुर्तगाल ,गोवा और आजादी कब शुरू हुई बाबाओं की अंधविश्वास फ़ैक्ट्री कोरोना से बाल बाल बचे नीतीश आंदोलनकारी या अतिक्रमणकारी ओली के बाद प्रचंड की भी राह आसान नही खामोश हो गई सितारों को उंगली से नचाने वाली आवाज

चांद पर जमीन ली पर और आगे चले गए !

आलोक कुमार

पटना. सुशांत सिंह राजपूत नहीं रहे.सुशांत की मां उषा सिंह ने कई मंदिरों में जाकर माथा टेक, मन्नतें मांगी तब जाकर चार बहनों के बाद उसका जन्म हुआ था. उनके फांसी लगाकर रहस्यमयी मौत पर से पर्दा नहीं हट पाया है. आत्महत्या या हत्या की पहेली के बीच मुम्बई से लेकर गम का माहौल व्याप्त है.राजीव नगर पटना वाले घर की पड़ोस में रहने वालीं अंजनी पाठक का रो-रोकर बुरा हाल है. वह कह रही हैं कि उसको मैंने अपनी गोद में खिलाया है और एक दिन वह इस तरह चला जाएगा कभी सोचा नहीं था. सोमवार को पुत्र सुशांत के अंतिम संस्कार में भाग लेने पिताजी व अन्य परिजन पटना से  मुम्बई पहुंच रहे हैं .

अंजनी पाठक ने कहा वो मेरे बच्चों के साथ बचपन में क्रिकेट खेलता था, अक्सर उसका समय हमारे घर पर ही बीतता था.सुशांत की सबसे बड़ी बहन मेरी सहेली है.इसलिए वो मुझको दीदी कहकर पुकारता था. इतना बड़ा एक्टर बनने के बाद भी उसके जीवन में कोई बदलाव नहीं आया था.वो जब भी पटना आता तो मेरे पैर छूकर प्रणाम करता था.8 महीने पहले जब वो पटना आया था तो आकर मेरे गले लगा था.

 बता दें कि सुशांत सिंह के बचपन का नाम गुलशन था जो उसकी मां उषा ने रखा था.वो पढ़ने में शुरू से ही होशियार था, पिता के.के. सिंह उसको उंगली पकड़कर स्कूल छोड़ने जाया करते थे.पत्नी उषा सिंह की मौत के बाद पिता बेटे के सहारे जी रहे थे, लेकिन रविवार को वही बेटा उनका बुढ़ापे में साथ छोड़ गया.बता दें कि सुशांत का जन्म बिहार के पूर्णिया जिले के मदीहा गांव में हुआ था. साल 2002 में उनकी मां उषा सिंह का निधन हो गया था. अपनी मां की इच्छा के खातिर सुशांत 17 साल बाद अपने गांव गए थे.जहां उन्होंने अपने सिर नहीं मुंडवाया था. उनकी मां ने मन्नत मांगी थी कि बेटा ठीक रहेगा.अच्छा काम करेगा तो यहां माता के मंदिर में उसके मुंडन करवाएंगी.


सुशांत सिंह जब 2019 में मुंडन कार्यक्रम के दौरान बिहार गए थे तो वह अपने बचपन के दोस्तों के साथ खूब घूमे थे.आज वही दोस्त यकीन नहीं कर पा रहे हैं कि उनका यह  दोस्त अब इस दुनिया में नहीं रहा.आप साफ तौर पर यकीन कर सकते हैं कि किस तरह वह 8 महीने पहले अपने गांव के दोस्तों के साथ मस्ती करते दिखे थे. लेकिन इन दोस्तों को क्या पता था कि यह उनकी आखिरी मुलाकत है.


अब जगजाहिर हो गया है बॉलीवुड के मशहूर एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने मुंबई में अपने घर में फांसी लगाकर जान दे दी है. वह 34 साल के थे. उनकी मौत की खबर से फिल्म जगत में शोक की लहर दौड़ पड़ी है. सुशांत की अचानक हुई मौत पर फैंस के साथ उनके साथी एक्टर्स भी ट्विटर पर शोक व्यक्त कर रहे हैं. सुशांत सिंह राजपूत को श्रद्धांजलि देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अनुपम खेर सहित कई लोगों ने ट्वीट किया है.

बिहार में जन्मे सुशांत ने बॉलीवुड में शुरुआत से काफी संघर्ष किया था. उनकी पहली कमाई 250 रुपये की थी. स्टार बनने पर सुशांत ने 2018 में चांद पर जमीन खरीदी थी. उनका ये प्लॉट ‘सी ऑफ मसकोवी’ में है. सुशांत ने चांद पर यह जमीन इंटरनेशनल लूनर लैंड्स रजिस्ट्री से खरीदी थी. उन्होंने अपने प्लॉट पर नजर रखने के लिए एक दूरबीन भी खरीदी थी. उनके पास एडवांस टेलिस्कोप 14LX00 था. हालांकि, इसमें भी कई अंतरराष्ट्रीय संधि हैं, जिनके मुताबिक इसे कानूनी तौर पर मालिकाना हक नहीं माना जा सकता, क्योंकि पृथ्वी से बाहर की दुनिया पूरी मानव जाति की धरोहर है और इस पर किसी एक देश का कब्जा नहीं हो सकता. सुशांत ऐसे पहले एक्टर थे, जिन्होंने चांद पर जमीन खरीदी थी.

पिछले दिनों सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म ड्राइव रिलीज हुई थी जिसे खास रिस्पॉन्स नहीं मिला था. सुशांत सिंह राजपूत ने बड़े पर्दे पर अपनी शुरुआत फिल्म साल 2013 में रिलीज हुई फिल्म कोई पो चे से की थी. इसी साल वह फिल्म शुद्ध देसी रोमांस में भी नजर आए थे. साल 2014 में सुशांत आमिर खान स्टारर फिल्म पीके में अनुष्का के लवर की भूमिका में दिखे थे. साल 2015 में रिलीज हुई थी सुशांत की फिल्म डिटेक्टिव ब्योमकेश बख्शी.

सुशांत सिंह राजपूत को सबसे ज्यादा लोकप्रियता मिली साल 2016 में रिलीज हुई बायोपिक फिल्म एम.एस.धोनी द अनटोल्ड स्टोरी से. इसके बाद सुशांत ने राब्ता, वेलकम टु न्यूयॉर्क, केदारनाथ, सोनचिड़िया और छिछोरे जैसी फिल्मों में नजर आए.


बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के खुदकुशी करने की सूचना मिलते ही उनके गांव पूर्णिया के बरहरा कोठी थाना के मलडीहा गांव में शोक की लहर है. परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है. परिजन आत्महत्या की बात की बात स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं. सुशांत के चचेरे भाई पन्ना सिंह और बड़ी मां पदमा सिंह ने कहा कि सुशांत आत्महत्या नहीं कर सकता है. जरूर इसके पीछे कुछ साजिश है. उन्होंने सुशांत की मौत की घटना को साजिश बताते हुए कहा कि इसकी सीबीआई (CBI) जांच होनी चाहिए.


पन्ना सिंह ने कहा कि पिछले साल 12 मई को सुशांत अपने गांव मरडिहा आए थे. यहां वह अपने परिजनों के साथ 1 दिन रुके थे. इसके बाद 13 मई को खगड़िया अपने नाना जी के घर चले गए थे, जहां उनका मुंडन संस्कार हुआ था. उनकी उस दिन की यादें सबके जेहन में उठ रही हैं. उनकी बड़ी मां पदमा देवी और चचेरे भाई नीरज सिंह का कहना है कि सुशांत काफी खुशमिजाज लड़का था और वह कई फिल्मों में काम कर चुका था. कुछ वर्ष पहले उनकी बहुचर्चित फिल्म एमएस धोनी भी आई थी. एमएस धोनी पिक्चर में उन्होंने धोनी का किरदार निभाया था. इसके अलावा उन्होंने टीवी सीरियल पवित्र रिश्ता से काम शुरू किया था.

उनके परिजनों ने कहा कि जैसे ही सुशांत की मौत की सूचना गांव पहुंची, सुशांत राजपूत के दरवाजे पर सांत्वना देने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी. सुशांत राजपूत के चचेरे भाई नीरज सिंह बबलू सुपौल के छातापुर के विधायक हैं और उनकी भाभी नूतन सिंह एमएलसी है. विधायक नीरज सिंह और सुशांत के पिताजी कृष्ण किशोर सिंह मुंबई के लिए रवाना हो चुके हैं. बहरहाल देखना है कि आगे प्रशासनिक जांच में क्या मामला सामने आता है.


राजधानी पटना के राजीव नगर रोड-6 में सुशांत सिंह राजपूत का घर है.यहां पर जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ  पप्पू यादव ,लवली आनंद आदि ने आकर उनके परिजनों को सांत्‍वना दी है. परिजनों से मिलने के बाद, पप्‍पू यादव ने कहा है कि सुशांत का जाना बिहार के युवा वर्ग के लिए बहुत बड़ी क्षति है. फिल्‍म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्‍यु पर सवाल खड़ा करते हुए पूर्व सांसद पप्‍पू यादव ने कहा है कि सुशांत कभी खुदकुशी नहीं कर सकता है.जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ  पप्पू यादव ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सीबीआई से जांच कराने की मांग की है.रविवार को सुशांत सिंह राजपूत की मौत की सूचना मिलने के बाद पप्पू यादव शोकाकुल परिवार से मिलने पहुंचे थे.

वे सुशांत के पिता कृष्ण किशोर सिंह (केके सिंह) के राजीवनगर, रोड नंबर 6 स्थित निजी आवास पर पहुंचे और ढांढ़स बंधाया. सुशांत की मौत पर दुःख प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि सुशांत बिहार के गौरव थे. उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से कम समय में बड़ी उपलब्धि हासिल की.वे आत्महत्या नहीं कर सकते हैं. सरकार उनकी मौत की सीबीआई जांच कराए.रविवार को बॉलीवुड के चर्चित अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत ने आत्महत्या कर ली.मुंबई पुलिस के एसीपी मनोज कुमार ने सुशांत के आत्महत्या करने की पुष्टि की है.हालांकि इसके पीछे की वजह अभी तक सामने नहीं आई है.अभी भी सुशांत के पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार हो रहा है.पुलिस को उनके कमरे से कुछ भी संदेहास्पद सामान नहीं मिला है.इस बीच सुशांत सिंह राजपूत के मामा ने भी इस मामले की सीबीआई से जांच कराने की अपील की है.


Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :