डूब रहा है काजीरंगा

शंकर गुहा नियोगी को भी याद करें नौकरी छीन रही है सरकार मौसम बदल रहा है ,खाने का जरुर ध्यान रखें किसान विरोधी कानून रद्द करने की मांग की क्या बिहार में सत्ता के लिए लोगों की जान से खेल रही है सरकार कांकेर ने जो घंटी बजाई है ,क्या भूपेश बघेल ने सुना उसे ? क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी

डूब रहा है काजीरंगा

प्रभाकर मणि तिवारी 

गुवाहाटी .काजीरंगा नेशनल पार्क कभी अपने एक सींग वाले गैंडों के लिए पूरी दुनिया में सुर्खियां बटोरने वाले असम का काजीरंगा नेशनल पार्क इन दिनों एक अलग वजह से सुर्खियों में है. वह वजह है असम में आई भयावह बाढ़. इस बाढ़ से राज्य के गोलाघाट औऱ नगांव जिलों में फैले काजीरंगा नेशनल पार्क का लगभग 90 फीसदी हिस्सा पानी में डूब गया है और 120 जानवरों की मौत हो चुकी है. इनमें एक सींग वाले दस गैंडे भी शामिल हैं.

विश्व धरोहरों की सूची में शुमार इस पार्क की जैविक विविधता और चारागाहों को बचाने के लिए बाढ़ जरूरी है. लेकिन बीते दो-तीन वर्षों से जितनी बाढ़ आ रही है उससे फायदे की बजाय नुकसान ही ज्यादा हो रहा है. दुनिया भर में एक सींग वाले गैंडों की एक-तिहाई आबादी इसी पार्क में रहती है. इसी वजह से इसे इन गैडों का सबसे बड़ा घर भी कहा जाता है. इसके अलावा सैकड़ों जानवर बाढ़ के पानी के कारण बेहाल हो गए हैं. कई जानवर तो जान बचाने के लिए पार्क से निकलकर सड़क पर आ गए हैं.

बाढ़ से जानवरों की हो रही मौतों को देखते हुए केंद्र सरकार ने एक अहम फैसला किया है. केंद्र ने पार्क में 32 किलोमीटर का एक कृत्रिम ऊंचाई वाला स्थान बनाने के लिए राज्य सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है. 

पार्क के निदेशक पी शिवकुमार ने बताया है कि मानसून का मौसम खत्म होने के बाद इस पर काम शुरू कर दिया जाएगा.


निदेशक पी.शिवकुमार बताते हैं कि इस पार्क का अस्तित्व ही बाढ़ पर टिका है. इसके बिना पार्क की जैविक औऱ प्राकृतितक विविधता बनाए रखना संभव नहीं है. पहले दस साल में ऐसी बाढ़ आती थी. लेकिन अब यह सालाना दस्तूर बन गई है. इस वजह से पार्क, इसमें रहने वाले जानवरों और वनस्पतियों को काफी नुकसान हो रहा है.

1 जून 1905 में 232 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को काजीरंगा प्रस्तावित रिजर्व फ़ॉरेस्ट बनाया गया था. इसके बाद इसे वर्ष 1908 में  रिज़र्व फ़ॉरेस्ट घोषित कर दिया गया था. तब इसका नाम बदलकर 1916 में काज़ीरंगा गेम रिज़र्व रख दिया गया. बाद में वर्ष 1950 में इस पार्क को काजीरंगा वन्यजीव अभयारण्य बना दिया गया. वर्ष 1968 में असम राष्ट्रीय उद्यान अधिनियम पारित हुआ और काजीरंगा को नेशनल पार्क घोषित कर दिया गया. 11 फरवरी 1974  इस पार्क को भारतीय सरकार से आधिकारिक मान्यता मिली.फोटो साभार 


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :