नहीं रहीं मशहूर नृत्यांगना अमला शंकर

आखिर वह दिन आ ही गया ! बिहार में कब चुनाव होगा? मंदिर निर्माण का श्रेय इतिहास में किसके नाम दर्ज होगा ? राष्ट्रीय कंपनी अधिनियम पंचाटः तकनीकी सदस्यों पर अनावश्यक विवाद बहुतों को न्यौते का इंतजार ... आत्महत्या की कहानी में झोल है पार्षदों को डेढ़ साल से मासिक भत्ता नहीं मिला पटना के हालात और बिगड़े गांधीवादियों की चिट्ठी सोशल मीडिया में क्यों फैली ? अमर की चिंता तो रहती ही थी मुलायम को चारण पत्रकारिता से बचना चाहिए तो क्या 'विरोध' ही बचा है आखिरी रास्ता पटना नगर निगम के मेयर सफल रहीं अमर सिंह को कितना जानते हैं आप राजस्थान का गुर्जर समाज किसके साथ शिवराज समेत चार मंत्रियों को कोरोना कम्युनिस्ट भी बंदर बांट में फंस गए पूर्वोत्तर में भी बेकाबू हुआ कोरोना किसान मुक्ति आंदोलन का कार्यक्रम शुरू राजकमल समूह में शामिल हुआ हंस प्रकाशन

नहीं रहीं मशहूर नृत्यांगना अमला शंकर

प्रभाकर मणि तिवारी

कोलकाता.मशहूर नृत्यांगना और कोरियाग्राफर अमला शंकर का 101 साल की उम्र में शुक्रवार को दिला का दौर पड़ने से कोलकाता में निधन हो गया. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उके निधान पर शोक जताते हुए कहा कि अमला का जाना नृत्य जगत के लिए एक अपूरणीय क्षति है.पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि वह उम्रजनित बीमारियों और परेशानियों से जूझ रही थीं. नींद में ही दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया. अमला मशहूर नर्तक व कोरियोग्राफर उदय शंकर की पत्नी और दिग्गज सितार वादक पंडित रविशंकर की भाभी थीं.
अमला का जन्म अमला का जन्म 1919 में जसोर (अब बांग्लादेश में) में हुआ था. बचपन से ही कला व संगीत में उकी गहरी रुचि थी. उम्र के नौवें दशक तक सक्रिय रहीं अमला शंकर को कला के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने वर्ष 2011 में बंग विभूषण से सम्मानित किया था.
वर्ष 1931 में अमला की मुलाकात पेरिस मेंएक प्रदर्शनी के दौरान उदय शंकर से हुई. तब वे सिर्फ 11 साल की थीं. बाद में अमला उदय शंकर का डांस ग्रुप में शामिल हो गईं और दुनिया के तमाम शहरों में अपनी नृत्य कला से लोगों का मन मोह लिया. वर्ष 1939 में चेन्नई में एक कार्यक्रम के दौरान ही. उस वक्त उदय ने उनको शादी का प्रस्ताव दिया. वर्ष 1942 में अमला और उदय की शादी हो गई. दोनों के दो बच्चे हैं पुत्र आनंद और पुत्री ममता.

अमला की पोती श्रीनंदा शंकर ने एक ट्वीट करते हुए कहा कि आज मेरी दादी हमें छोड़कर हमेशा के लिए चली गईं. हमने पिछले महीने ही उनका जन्मदिन मनाया था. मैं कोलकाता पहुंचने के लिए बहुत बैचेन हूं. लेकिन यहां से कोई फ्लाइट नहीं मिल रही है. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे. मैं आपको प्यार करती हूं. आप हमारे लिए सबकुछ हैं.

Share On Facebook
  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :