शिवराज समेत चार मंत्रियों को कोरोना

आखिर वह दिन आ ही गया ! बिहार में कब चुनाव होगा? मंदिर निर्माण का श्रेय इतिहास में किसके नाम दर्ज होगा ? राष्ट्रीय कंपनी अधिनियम पंचाटः तकनीकी सदस्यों पर अनावश्यक विवाद बहुतों को न्यौते का इंतजार ... आत्महत्या की कहानी में झोल है पार्षदों को डेढ़ साल से मासिक भत्ता नहीं मिला पटना के हालात और बिगड़े गांधीवादियों की चिट्ठी सोशल मीडिया में क्यों फैली ? अमर की चिंता तो रहती ही थी मुलायम को चारण पत्रकारिता से बचना चाहिए तो क्या 'विरोध' ही बचा है आखिरी रास्ता पटना नगर निगम के मेयर सफल रहीं अमर सिंह को कितना जानते हैं आप राजस्थान का गुर्जर समाज किसके साथ शिवराज समेत चार मंत्रियों को कोरोना कम्युनिस्ट भी बंदर बांट में फंस गए पूर्वोत्तर में भी बेकाबू हुआ कोरोना किसान मुक्ति आंदोलन का कार्यक्रम शुरू राजकमल समूह में शामिल हुआ हंस प्रकाशन

शिवराज समेत चार मंत्रियों को कोरोना


पूजा सिंह
भोपाल.
मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को मिलाकर मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल के कुल चार सदस्य कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं. शिवराज सरकार के इन मंत्रियों की सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का उल्लंघन करने तथा कोविड-19 गाइडलाइन का पालन नहीं करने के लिए काफी समय से आलोचना हो रही थी.

प्रदेश सरकार के मंत्री अरविंद भदौरिया के कोरोना पॉजिटिव आने के दो दिन बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉजिटिव निकले. गौरतलब है कि शिवराज और भदौरिया राज्यपाल लालजी टंडन के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि देने एक साथ लखनऊ गये थे. इसके ठीक दो दिन बाद जल संसाधन मंत्री तुलसी राम सिलावट और पंचायत और ग्रामीण विकास राज्य मंत्री रामखेलावन पटेल भी कोरोना पॉजिटिव निकले. इतना ही नहीं भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा और पार्टी के संगठन महासचिव सुहास भगत भी कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं. भगत भी शिवराज और भदौरिया के साथ लखनऊ जाने वाले नेताओं में शामिल थे.

कांग्रेस से भाजपा में आये तुलसी राम सिलावट को सांवेर से उपचुनाव लड़ना है और वह पिछले कुछ दिनों में अपने क्षेत्र में बहुत बड़ी तादाद में लोगों से मिले थे. ऐसे में उन सभी लोगों को जांच करानी पड़ सकती है. विपक्षी दलों का आरोप है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ कैबिनेट बैठकों में शामिल रहने वाले सिलावट ने शिवराज के संक्रमित होने के बावजूद हालात को गंभीरता से नहीं लिया और क्वारंटीन होने के बजाय लोगों से लगातार मिलते जुलते रहे.

मध्य प्रदेश में 22 जुलाई को हुई कैबिनेट में शामिल तीन मंत्री और मुख्यमंत्री कोरोना पॉजिटिव निकल चुके हैं. प्रदेश में अब तक नौ विधायक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं. इनमें से व भाजपा के और एक विधायक कांग्रेस का है.

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की तीव्रता लगातार बढ़ती जा रही है. प्रदेश में करीब 30,000 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं जिनमें 830 का निधन हो चुका है. भोपाल और इंदौर में कोराना संक्रमण की स्थिति अन्य जिलों की तुलना में कहीं ज्यादा खराब है और यहां रोज सैकड़ों की तादाद में नये मामले सामने आ रहे हैं.


Share On Facebook
  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :