अमर की चिंता तो रहती ही थी मुलायम को

क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी कोरोना के दौर में राजनीति भी बदल गई बिशप फेलिक्स टोप्पो ने सीएम को लिखा पत्र राफेल पर सीएजी ने तो सवाल उठा ही दिया हरिवंश कथा और संसदीय व्यथा राष्ट्रव्यापी मजदूरों के प्रतिवाद में हुए कार्यक्रम समाज के राजनीतिकरण पर जोर देना होगा

अमर की चिंता तो रहती ही थी मुलायम को


अंबरीश कुमार

बात कुछ वर्ष पहले की है .चुनाव के सिलसिले में मुलायम सिंह के साथ पूर्वांचल के दौरे पर था .लखनऊ से बनारस के बाबतपुर हवाई अड्डे पहुंचे तो कुछ समय था .आगे हेलीकाप्टर से जौनपुर और कुछ जगहों पर जाना था .मुलायम सिंह ने पैक कर आया खाना मेरी तरफ बढ़ा दिया .मैंने पूछा और आप तो बोले मैं यह घर का छाछ आया है यही पी लूंगा पूड़ी सब्जी वैसे भी नहीं खाता .छप्पन भोग की घी में डूबी पूड़ी और सब्जी के साथ भरे मिर्च का अचार आदि था .जो क्रू मेंबर और बाकी के लिए पैक होकर आता था .तभी उनकी नजर खिड़की से नजर बगल के जहाज पर गई .बोले देखो यह अमर सिंह मना करने के बाद भी प्रचार करने आ गया है .डाक्टर ने मना कर रखा है ,तबियत ठीक नहीं है .पर मानता कहां है .कहां गंभीर बीमारी से वे जूझ रहे है .आराम की जरुरत है पर चुनाव प्रचार में जाना नहीं छोड़ रहे हैं .इससे तबियत और बिगड़ जाएगी .तबतक अमर सिंह के किडनी की समस्या सार्वजनिक नहीं हुई थी छोटे दायरे में जरुर पता था .


    हालांकि अपनी खबरों को लेकर अमर सिंह से संबंध बहुत ख़राब ही थे .प्रबंधन से शिकायत की जाती रही .तबादला कराने की कोशिश हुई पर फिर एक दो मित्रों के दखल से मामला सुलझा .लंबी बातचीत भी हुई अमर सिंह से 6 कालीदास मार्ग पर .वे सीधे अपने तत्कालीन सीईओ पर आये और बोले इंडियन एक्सप्रेस को नोयडा में जमीन तो मैंने ही दिलाई और आप हमें राजबब्बर के कहने पर जनसत्ता में लगातार दलाल लिखते हैं .राजबब्बर के साथ तब पूर्वांचल में अपन ने लंबा दौरा किया था .वीपी सिंह वाले आंदोलन के चलते .राजबब्बर शुरुआत ही अमर सिंह से करते जो छपता और इससे अमर सिंह नाराज थे . खैर बात किसी तरह निपटी .इसी बीच दौरे पर मुलायम के साथ निकलना हुआ .मुलायम अमर सिंह और आजम विवाद पर भी दुखी थे .आजम की जयाप्रदा को लेकर की जा रही टिपण्णी से भी आहत थे .बोले वह इनको बड़ा भाई मानती हैं पर ये जो मन में आये बोल देते हैं .यह ठीक बात नहीं .तभी शिव कुमार ने बताया अब उतरा जाए आगे जाने के लिए हेलीकाप्टर तैयार है .हेलीकाप्टर में उनसे बात करना बहुत मुश्किल भी होता है क्योंकि शोर और उनकी आवाज साफ़ नहीं होती है .

  • |

Comments

News

Replied by dmnagra@gmail.com at 2020-08-11 06:40:01

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :