मानसून सत्र के पहले दिन राष्ट्रव्यापी प्रतिवाद

क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी कोरोना के दौर में राजनीति भी बदल गई बिशप फेलिक्स टोप्पो ने सीएम को लिखा पत्र राफेल पर सीएजी ने तो सवाल उठा ही दिया हरिवंश कथा और संसदीय व्यथा राष्ट्रव्यापी मजदूरों के प्रतिवाद में हुए कार्यक्रम समाज के राजनीतिकरण पर जोर देना होगा

मानसून सत्र के पहले दिन राष्ट्रव्यापी प्रतिवाद

लखनऊ. रोजगार बने मौलिक अधिकार  कैंपेन के तहत मानसून सत्र के पहले दिन 14 सितम्बर को राष्ट्रीय स्तर पर रोजगार दिवस मनाने का निर्णय छात्र-युवा संगठनों की वर्चुअल मीटिंग में हुआ। युवा मंच द्वारा बुलाई गई वर्चुअल मीटिंग युवा हल्ला बोल, आइसा, जन जागरण अभियान, बात अधिकार की, युवा शक्ति संगठन, भारत नौजवान सभा, किसान परिवार, राष्ट्रीय विद्यार्थी चेतना परिषद, इंकलाबी छात्र मोर्चा, विद्यार्थी युवजन सभा,निजीकरण व बेरोजगारी विरोधी संगठन समेत देशभर के विभिन्न छात्र, युवा, प्रतियोगी छात्र संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हुए। बैठक के बाद इंकलाबी नौजवान सभा, भारत की जनवादी नौजवान सभा ने भी इस कैम्पेन को अपना समर्थन दिया है.

वर्चुअल मीटिंग में रोजगार के सवाल पर राष्ट्रीय स्तर आंदोलन को संगठित करने को लेकर गंभीर विचार विमर्श हुआ। तय किया गया कि संसद के मानसून सत्र के पहले दिन 14 सितंबर को राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिवाद कार्यक्रम आयोजित किये जाएगा और हैशटैग #रोजगार_बने_मौलिक_अधिकार के तहत सोशल मीडिया कैंपेन संचालित किया जायेगा। इसके अलावा यह भी अपील की गई है कि ईमेल, ट्विटर, फेसबुक, वाट्सएप द्बारा अपने क्षेत्र के सांसदों के साथ ही प्रधानमंत्री व अन्य मंत्रियों को मांग पत्र भेज रोजगार को मौलिक अधिकार बनाने का मुद्दा मजबूती से उठाया जायेगा। बैठक में युवा हल्ला बोल व अन्य संगठनों द्वारा 17  सितंबर को रोजगार के सवाल पर आयोजित कार्यक्रम, रोजगार के सवाल पर 28 सितंबर से इलाहाबाद से लखनऊ पदयात्रा समेत इस दौरान होने वाले अन्य कार्यक्रमों का समर्थन करने का निर्णय लिया गया। 14 सितम्बर को संसद सत्र के समनांतर फेसबुक लाइव युवा संसद करने का भी प्रस्ताव लिया गया. बैठक में 24 लाख पदों की भर्ती, निशुल्क, पारदर्शी व समयबद्ध भर्ती प्रक्रिया, बेकारी भत्ता, रोजगार सृजन के लिए कृषि, लधु कुटीर व सार्वजनिक उधोगों की मजबूती, कारपोरेट पर टैक्स व लोकतंत्र की रक्षा जैसे मुद्दे उठाने का निर्णय हुआ.

कैम्पेन के समर्थन में मुख्य रूप से युवा हल्ला बोल के गोविंद मिश्रा,आइसा के सोनू यादव, इंकलाबी नौजवान सभा के अध्यक्ष राकेश सिंह, डीवाईएफआई के अध्यक्ष सत्यभान सिंह, युवा मंच के अनिल सिंह, जन जागरण अभियान उड़ीसा के साथी मधुसूदन शेट्टी, बिहार से हितेश कुमार, 'बात अधिकार की' दिल्ली से रियासत फैज, युवा शक्ति संगठन के गौरव सिंह, भारत नौजवान सभा के अंबुज मलिक, राष्ट्रीय विद्यार्थी चेतना परिषद के मनोज यादव, किसान परिवार के अंशुल उमराव, इंकलाबी छात्र मोर्चा रामचंद्र, विद्यार्थी युवजन सभा के शैलेश मौर्य, सोनभद्र से जितेंद्र धांगर, वाराणसी से योगीराज सिंह, आजमगढ़ से जयप्रकाश यादव, आगरा से आराम सिंह गुर्जर, पवन पाल, त्रिभुवन नाथ, इलाहाबाद से युवा मंच के विनोवर शर्मा, जेपी कुशवाहा, सुरेंद्र पांडेय, आकृति यादव, आकाश सिंह राठौर, हजारीबाग विश्वविद्यालय में शोध छात्र अनुराग वर्मा, आलोक राजभर आदि मौजूद रहे। वर्चुअल मीटिंग का संचालन युवा मंच संयोजक राजेश सचान ने किया.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :