नहीं रहे स्वामी अग्निवेश

क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी कोरोना के दौर में राजनीति भी बदल गई बिशप फेलिक्स टोप्पो ने सीएम को लिखा पत्र राफेल पर सीएजी ने तो सवाल उठा ही दिया हरिवंश कथा और संसदीय व्यथा राष्ट्रव्यापी मजदूरों के प्रतिवाद में हुए कार्यक्रम समाज के राजनीतिकरण पर जोर देना होगा

नहीं रहे स्वामी अग्निवेश

आलोक कुमार

सामाजिक कार्यकर्ता और आर्य समाज की प्रतिष्ठित हस्ती स्वामी अग्निवेश का निधन (Swami Agnivesh Death) हो गया है. उन्होंने दिल्ली के एक अस्पताल में शुक्रवार शाम को अंतिम सांस ली. स्वामी अग्निवेश को सोमवार को नई दिल्ली के इंस्टिट्यूट ऑफ लिवर एंड बायिलरी साइंसेज (ILBS) में भर्ती कराया गया था. लिवर सिरोसिस से पीड़ित अग्निवेश को कई प्रमुख अंगों ने काम करना बंद कर दिया तो मंगलवार से उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. अस्पताल के सीनियर डॉक्टरों की एक टीम उनकी हालत पर पैनी नजर रख रही थी, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका.


स्वामी अग्निवेश का जन्म 21 सितंबर 1939 आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम में हुआ था. जब वह चार साल के थे तो उनके पिता की मृत्यु हो गई थी. उनका लालन पालन उनके नाना ने किया जो कि तत्कालीन रियासत 'शक्ति' के दिवान थे.और कॉमर्स में डिग्री लेने के बाद वह कोलकाता के प्रसिद्ध सेंट जेवियर्स कॉलेज में मैनेजमेंट के लेक्‍चरर रहे. सब्‍यसाची मुखर्जी के अधीन उन्‍होंने वकालत भी की. मुखर्जी बाद में भारत के चीफ जस्टिस भी रहे. स्वामी अग्निवेश आर्य समाज में शामिल होने 1968 में हरियाणा गए थे जहां उन्होंने 25 मार्च 1970 को संन्यास ले लिया था.1970 में अग्निवेश ने आर्य सभा नाम की राजनीति पार्टी बनाई थी. 1977 में वह हरियाणा विधासनभा में विधायक चुने गए और हरियाणा सरकार में शिक्षा मंत्री भी रहे. 1981 में उन्होंने बंधुआ मुक्ति मोर्चा नाम के संगठन की स्थापनी की.स्वामी अग्निवेश ने 2011 के भ्रष्टाचार-विरोधी आंदोलन में भी हिस्सा लिया था. हालांकि बाद में मतभेदों के चलते वह इस आंदोलन से दूर हो गए थे. इस दौरान उनका एक कथित वीडियो वायरल हो हुआ जिसमें कथित तौर पर वह किसी कपिल नाम के व्यक्ति से फोन पर बात कर रहे थे. वीडियो को लेकर दावा किया गया कि कपिल नाम का व्यक्ति तत्कालीन केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल थे. स्वामी अग्निवेश ने बाद में इस वीडियो को डॉक्टर्ड बताया था. स्वामी अग्निवेश ने रियलिटी शो बिग बॉस में भी हिस्सा लिया था। वह 8 से 11 नवंबर के दौरान तीन दिन के लिए बिग बॉस के घर में भी रहे.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :