यूपीएसएसएफ का गठन लोकतंत्र पर कुठाराघात- माले

अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी कोरोना के दौर में राजनीति भी बदल गई बिशप फेलिक्स टोप्पो ने सीएम को लिखा पत्र राफेल पर सीएजी ने तो सवाल उठा ही दिया हरिवंश कथा और संसदीय व्यथा राष्ट्रव्यापी मजदूरों के प्रतिवाद में हुए कार्यक्रम समाज के राजनीतिकरण पर जोर देना होगा सत्ता प्रतिष्ठान का चेहरा बन गए हैं हरिवंश

यूपीएसएसएफ का गठन लोकतंत्र पर कुठाराघात- माले

लखनऊ.भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माले) की राज्य इकाई ने योगी सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश विशेष सुरक्षा बल (यूपीएसएसएफ) के गठन की कड़ी आलोचना की है. पार्टी ने इस बल को दी गई शक्तियों को लोकतंत्र और न्याय व्यवस्था पर कुठाराघात बताते हुए इसके गठन की अधिसूचना को अविलंब निरस्त करने की मांग की है.

सोमवार को जारी बयान में भाकपा (माले) के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि इस बल का गठन विधानमंडल द्वारा पारित विधेयक के बजाय कैबिनेट बाइसर्कुलेशन से किया गया है. इस बल को असीमित शक्तियां दी गई हैं. जैसे कि बिना वारंट के गिरफ्तारी व घर की तलाशी का अधिकार, बल के सदस्यों द्वारा नियम विरुद्ध या ज्यादती करने पर भी सरकार की बिना इजाजत के हाई कोर्ट को भी सुनवाई से वंचित करने का प्रावधान आदि.

माले नेता ने कहा कि कहने को तो इस बल के गठन का उद्देश्य सरकारी इमारतों व प्रतिष्ठानों की सुरक्षा करना बताया गया है, पर यह हाथी के दांत दिखाने के हैं. इसका इस्तेमाल कुख्यात अफ्स्पा (सशत्र बल विशेष अधिकार अधिनियम) की तर्ज पर लोकतंत्र के पक्ष में आवाज उठाने वालों, सरकार की आलोचना करने वालों और आंदोलनकारियों का मुंह बंद करने के लिए किया जाएगा.

राज्य सचिव ने कहा कि योगी सरकार एक-के-बाद-एक काले अधिनियम बना रही है. कुछ ही समय पूर्व उसने सीएए-विरोधी आंदोलन को दबाने की मंशा से आंदोलनकारियों से क्षतिपूर्ति की वसूली के लिए एक अधिनियम बनाया, जिसमें स्थापित न्याय प्रक्रिया व प्राकृतिक न्याय व्यवस्था की अवहेलना की गई. उससे आगे बढ़कर अब यूपीएसएसएफ अधिनियम लाया गया है.

माले नेता ने कहा कि योगी सरकार दिन प्रतिदिन तानाशाह होती जा रही है. पहले ही यह सरकार यूपी में एनकॉउंटर राज, पुलिस राज व जंगल राज होने के तमगे जनता से हासिल कर चुकी है. अब अनियंत्रित अधिकारों के साथ इस विशेष बल का गठन लोकतांत्रिक व्यवस्था का चीर हरण कर निरंकुशता की ओर ले जाएगा. संवैधानिक लोकतंत्र में इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती है.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :