जनादेश

ढोरपाटन का वह शिकारगाह ! इस मौसम में भिंडी ,अरबी और कटहल से बचें ! किसान संगठनों ने किया ग्रामीण भारत बंद का एलान जमानत नियम है, जेल अपवाद फिर सौ दिन ? हनीट्रैप का खुलासा करने वाला अखबार निशाने पर कौन हैं ये राहुल बजाज ,जानते हैं ? पानी किसी एक देश का नहीं होता अदरक डालिए साग में अगर कफ से बचना है तो जंगल ,पहाड़ और शिकार ! चलो सोनपुर का मेला तो देखें ! फिर दिखी हिंदी मीडिया की दरिद्रता ! मोदी को ठेंगा दिखाती प्रज्ञा ठाकुर ! गुर्जर-मीणा विवाद में फंसा पांचना बांध तो जेडीयू ने भी दिखाई आंख ! महाराष्ट्र छोड़िए अब बंगाल और बिहार देखिए ! सांभर झील बनी मौत की झील जो आपसे कहीं सुसंस्कृत है! भाजपा और तृणमूल दोनों का रास्ता आसान नहीं कश्मीरी नेताओं का यह कैसा उत्पीडन ! शुक्रिया ,पोगापंथ से लड़ने वाले नौजवानों !

तो दिग्विजय चला रहें हैं सरकार !

पूजा सिंह

भोपाल. कांग्रेस को मध्य प्रदेश में सत्ता में आये अभी आठ महीने ही हुए हैं और पार्टी का आंतरिक कलह खुल कर सामने आ गया है. पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और वन मंत्री उमंग सिंघार के बीच हुए विवाद के बीच ज्योतिरादित्य सिंधिया की नाराजगी की खबरें पार्टी के बारे में कोई अच्छी छवि नहीं बना रहीं.

सिंघार ने आरोप लगाया कि प्रदेश की सरकार दिग्विजय सिंह चला रहे हैं. ऐसा सोचने वाले सिंघार अकेले नहीं हैं बल्कि कई विधायकों और मंत्रियों को ऐसा लगता है. मुख्यमंत्री कमलनाथ स्वयं सार्वजनिक रूप से यह कह चुके हैं कि उनकी सरकार दिग्विजय सिंह के अनुभव का लाभ लेती है.

बहरहाल, ताजा विवाद तब शुरु हुआ जब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पद पर चयन की कवायद शुरू हुई. अभी यह पद मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास है लेकिन पार्टी में इसके कई दावेदार हैं. पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह राहुल, ज्योतिरादित्य सिंधिया के अलावा आदिवासी नेता सिंघार भी इसकी दावेदारी कर रहे हैं. ज्योतिरादित्य सिंधिया इस पद पर इसलिए आना चाहते हैं ताकि पार्टी पर अपनी पकड़ मजबूत कर सकें.


राजनीतिक विश्लेषक साजी थॉमस कहते हैं कि सिंधिया खुद को मन ही मन मुख्यमंत्री पद का दावेदार मानते हैं. विधानसभा चुनाव जीतने में उनकी जबरदस्त भूमिका को नकारा भी नहीं जा सकता है. यही कारण है कि उनको अब भी यह उम्मीद है कि अगर किसी वजह से कमलनाथ की कुर्सी खतरे में पड़ी तो उन्हें प्रदेश की गद्दी पर बैठने का मौका मिल सकता है. उधर, कमलनाथ दिग्विजय और सिंधिया समर्थक विधायकों के बीच संतुलन साधने का प्रयास लगातार कर रहे हैं लेकिन उनको इसमें कामयाबी नहीं मिल सकी है. उधर, भाजपा भी इन घटनाक्रम पर नजर रखे हुए है. सिंधिया के अलावा सिंघार को भी राहुल गांधी का करीबी माना जाता है. उन्होंने जिस तरह खुलकर दिग्विजय सिंह के खिलाफ बयानबाजी की उसके बाद भी उनके खिलाफ कोई कार्रवाई न होना यह बताता है कि उन्हें ऊपर से अभयदान मिला हुआ है.

प्रदेश में अगले वर्ष राज्यसभा की तीन सीटों पर भी चुनाव होने हैं और कुछ जानकार इस पूरे झगड़े को उससे भी जोड़कर देखते हैं. ऐसे में आने वाले दिनों में मध्य प्रदेश कांग्रेस प्रमुख पद की लड़ाई दिलचस्प होती नजर आ रही है. 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :