जनादेश

बाबा रामदेव का ट्विटर पर क्यों हुआ विरोध ? जेएनयू के छात्र यूं नहीं सड़क पर हैं गुदड़ी के लाल थे वशिष्ठ नारायण सिंह नहीं रहे अब्दुल जब्बार भाई नहीं रहे अब्दुल जब्बार भाई ध्यान से देखिये ,ये फोटो देश के महान गणितज्ञ की है ! नेपाल में शुरू हुआ चीन का विरोध जेएनयू में यह सब क्यों हो रहा है. कानून के राज को 'एक झटका' यह फैसला दिक्कत पैदा कर सकता है ! मेरे मित्र टीएन शेषन ! मोदी सरकार के समर्थन का यह कीमत मिली - तवलीन फैसला विसंगतियों से भरा- भाकपा (माले) तथ्यों से धराशाही हुए सियासत के तर्क! आरटीआई की धार भोथरी करती सरकार ! शाहनजफ़ इमामबाड़ा में ईद-ए-ज़हरा ! भाषा को रामनामी से मत ढकिये ! पर रात का खीरा तो पीड़ा ! नीतीश कुमार के दावे हवा-हवाई झारखंड चुनाव में बिखर रही हैं गंठबंधन की गांठें

राजकुमार से सन्यासी तक का सफर

अनिल कुमार सिंह 

धर्मपथ- सनातन के इतिहास में हमारी कई पीढ़ियों ने देखा और उस समय को जिया है जिसमें भारत के समृद्ध इतिहास मे कई तपस्वियों,साधकों और समाज-सुधारकों को स्थान मिला है.भारत में कई राजा-राजकुमार हुए जिन्होंने भौतिक सम्पदा त्याग कर वनखंड की राह थामी और समाज का उद्धार किया.इन राजवंशी संतों का भारत के निर्माण में,आध्यात्मिक प्रचुर-सम्पदा की बढ़ोत्तरी में महती योगदान है.

आज हम सामयिक काल के एक ऐसे संत का परिचय दे रहे हैं जिनका जन्म मप्र में स्थित नरसिंहगढ़ राजपरिवार में हुआ.नरसिंहगढ़ के महाराज भानुप्रकाश सिंह जी के घर सबसे छोटे पुत्र के रूप में राजकुमार यशोवर्धन सिंह का जन्म हुआ.


” तन मारा , मन बस किया,सोधा सकल सरीर ।

काया को कफनी किया,वाको नाम फकीर ।। “

नरसिंहगढ़ रियासत जो मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले में स्थित है के महाराज भानुप्रकाश सिंह जी के पुत्र महाराज कुमार यशोवर्धन सिंह जो मात्र 22 वर्ष की उम्र में सन्यास पथ की ओर अग्रसर हुए और उत्तरप्रदेश में गंगा किनारे स्थित अघोर पीठ के स्थापक अवधूत भगवान राम जी से दीक्षित हो सन्यासी बन गये.

कीनारामी गुरु परंपरा में पथ पर चले


कीनारामी औघड़ साधुओं की परंपरा में पूज्य संत अवधूत भगवान राम जी से दीक्षा प्राप्त कर यशोवर्धन जी ने सन्यास ग्रहण किया और औघड़ गुरुपद संभव राम का नाम इन्हें गुरुदेव ने दिया.अवधूत भगवान राम जी के देहत्याग के उपरांत गुरु की वसीयत के अनुसार अघोर पीठ,पड़ाव,वाराणसी का पीठाधीश्वर घोषित किया गया,जिस पर आसीन हो ये गुरु के जनकल्याण के कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं .

बचपन से 22 वर्ष का होने तक ये राजपरिवार की परंपराओं के अनुसार पले-बढ़े,सन्यासी बनने के बाद सन्यास के कठिन मार्ग पर गुरु-निर्देशन में चलना समाज के सामने एक प्रमाण है गुरु-भक्ति का,गुरु की सेवा करते हुए ये सन्यास पथ पर चलते रहे और सन 1992 में गुरु के शरीर अवसान उपरांत पीठाधीश्वर बने.वर्तमान में गुरुपद संभव राम जी पड़ाव स्थित मुख्यालय के अलावा देश भर में स्थित आश्रमों का कार्य देख रहे हैं,अवधूत भगवान राम जी के चलाये कार्यों को जिनमें कुष्ठ रोगियों का इलाज एवं आश्रम के 19 सूत्रीय कार्यों का संचालन शामिल है सुचारु रूप में आगे बढ़ा रहे हैं .जशपुर में स्थित सोगड़ा आश्रम में चाय उत्पादन का कार्य सभी वैज्ञानिकों को चौंकाने वाला और वनवासियों की सेवा का एक अनुकरणीय उदाहरण है.


Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :