चुनाव लड़ना चाहती थी मृदुला सिन्हा

भाजपा के कुशासन से सब त्रस्त है-अखिलेश संजय जायसवाल बहुत नाराज हैं आभार हरिवंश का जिन्होंने देश को जगा दिया ! एचआइवी के शिकंजे में पटना जिला क्‍या अपनी सिफारिशों को लागू करेंगे प्रधानमंत्री ? देशबंधु और ललित सुरजन ! शेहला राशिद मामले की पूरी कहानी। खमीरी खानों की खूबी और खुमार तो हैदराबाद का नाम बदलेगा ! शीतल आमटे ने क्यों की आत्महत्या ? रिकॉड बनाने की दहलीज पर सुशील पूरे देश में किसानों का शाहीनबाग बन रहा है- दीपंकर क्या यह किसानों का शाहीन बाग है ? जमीन से जुड़े सितारे माले ने शहीदों को याद किया जब सत्तापक्ष की बोलती बंद कर दी राबड़ी ने क्या नंदकुमार साय का पुनर्वास होगा पंजाब को समझने की जरुरत है सरकार को नीतीश कुमार और थेथरोलॉजी ! एक हेक्टेयर में कीवी लगाकर 25 लाख साल कमाएं

चुनाव लड़ना चाहती थी मृदुला सिन्हा

आलोक कुमार 

मुजफ्फरपुर.गोवा की पूर्व राज्यपाल थीं मृदुला सिन्हा. उनका निधन हो गया.बिहार के मुजफ्फरपुर जिला के  ग्राम छपरा की निवासी थीं.2014 से 2016 तक गोवा के राज्यपाल पद पर कार्यशील थीं.वे एक सुविख्यात हिन्दी लेखिका के साथ-साथ भारतीय जनता पार्टी की केन्द्रीय कार्यसमिति की सदस्य भी थीं.इससे पूर्व वे पाँचवाँ स्तम्भ के नाम से एक सामाजिक पत्रिका निकालती रही थीं.

मृदुला सिन्हा का जन्म श्रीमती अनुपा देवी व बाबू छबीले सिंह के यहाँ 27 नवम्बर 1942 को हिन्दू पंचांग के अनुसार राम-विवाह के शुभ दिन बिहार राज्य में मुजफ्फरपुर जिले के छपरा गाँव में हुआ था. मनोविज्ञान में एम०ए० करने के बाद उन्होंने बी०एड० किया और मुजफ्फरपुर के एक कॉलेज में प्रवक्ता हो गयीं.कुछ समय तक मोतिहारी के एक विद्यालय में प्रिंसिपल भी रहीं. किन्तु अचानक उनका मन वहाँ भी न लगा और नौकरी को सदा के लिये अलविदा कहके उन्होंने हिन्दी साहित्य की सेवा के लिये स्वयं को समर्पित कर दिया.उनके पति डॉ॰ रामकृपाल सिन्हा, जो विवाह के वक़्त किसी कॉलेज में अंग्रेजी के प्रवक्ता हुआ करते थे, जब बिहार सरकार में मंत्री हो गये तो मृदुला जी ने भी साहित्य के साथ-साथ राजनीति की सेवा शुरू कर दी.आज तक यह सिलसिला लगातार जारी रखा.


भाजपा की वरिष्‍ठ नेत्री और गोवा की पूर्व राज्‍यपाल मृदुला सिन्‍हा का आज बुधवार, 18 नवंबर को दिल्‍ली में निधन हो गया है. वो बिहार के मुजफ्फरपुर की रहनेवाली थीं.वह 2014 से 2019 तक गोवा की राज्‍यपाल रहीं. मृदुला सिन्‍हा संवेदनशील नेत्री होने के साथ-साथ प्रसिद्ध साहित्‍यकार भी थीं. दीपावली के दिन उन्‍हें हार्ट अटैक आया था. इसके एक दिन पहले ही उन्होंने बिहार के पूर्व डिप्‍टी सीएम सुशील कुमार मोदी से बिहार चुनाव में भाजपा की बड़ी जीत और संगठन की मजबूती पर लंबी बातचीत की थी.

उनके निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष जेपी नड्डा, बिहार के सीएम नीतीश कुमार, डिप्‍टी सीएम रेणु देवी, पूर्व डिप्‍टी सीएम सुशील कुमार मोदी, भाजपा के वरिष्‍ठ नेता व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री मंगल पांडेय, भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष डॉ संजय जायसवाल ने ट्वीट कर गहरी शोक संवेदना व्‍यक्‍त की है.



सुशील मोदी ने मृदुला सिन्‍हा के निधन पर गहरी शोक संवेदना व्‍यक्‍त किया है.सुशील का कहना है उनके निधन पर व्‍यक्तिगत तौर पर काफी मर्माहत हूं.  मृदुला जी और उनके पति राम कृपाल जी ने 13 नवंबर छोटी दीपावली के दिन उन्‍हें फोन किया था.उन्‍होंने दीपावली और बिहार विधान सभा चुनाव में भाजपा की बड़ी जीत पर बधाई दी थी.संगठन की मजबूती और बिहार चुनाव पर उन्‍होंने लंबी बातचीत की.इसके बाद 14 नवंबर दीपावली के दिन उन्‍हें हार्ट अटैक आया था. तब से लगातार वे दिल्‍ली के एक अस्‍पताल में भर्ती थीं.आज बुधवार, 18 नवंबर को मल्‍टी आर्गेन फेल्‍योर के कारण अपराह्न 3:30 पर उन्‍होंने अंतिम सांस ली.



मृदुला सिन्‍हा 72 वर्ष की उम्र में 31 अगस्‍त 2014 को गोवा के राज्‍यपाल के रुप में पद और गोपनीयता की शपथ ली थी.गोवा रवाना होने से पूर्व बताया था कि वे 2014 में  बिहार के वैशाली  सीट से पार्टी के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती थीं. मगर पार्टी ने यह सीट तत्‍कालीन लोजपा प्रमुख राम‍ विलास पासवान के लिए छोड़ दी थी. तब चर्चा थी कि पार्टी अगर केंद्र में सत्‍ता में आएगी तो उन्‍हें महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी दी जा सकती है.अगस्‍त 2014 में गोवा का राज्‍यपाल बनाए जाने पर उन्‍होंने खुशी व्‍यक्‍त कर कहा था कि खुश हूं कि पार्टी ने मेरी निष्‍ठा की कद्र की.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि गोवा की पूर्व राज्यपाल व वरिष्ठ भाजपा नेता  मृदुला सिन्हा जी का निधन बहुत दुःखद है. उन्होंने जीवन पर्यन्त राष्ट्र, समाज और संगठन के लिए काम किया. वह एक निपुण लेखिका भी थी, जिन्हें उनके लेखन के लिए भी सदैव याद किया जाएगा.उनके परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूँ.ॐ शान्ति


बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा है कि मृदुला सिन्‍हा प्रख्‍यात लेखिका और कुशल प्रशासक रहीं. उन्‍होंने विभिन्‍न विषयों पर दर्जनों पुस्‍तकों की रचना की थी.वे जेपी आंदोलन में भी सक्रिय रुप से जुड़ी रहीं थीं. गोवा के राज्‍यपाल के रुप में उनका कार्य अविस्‍मरणीय रहा.उनके निधन के समाचार से मुझे बेहद दुख पहुंचा है. उनके निधन से सामाजिक, राजनीतिक एवं साहित्‍य जगत को अपूरणीय क्षति पहुंची है.ईश्‍वर दिवंगत की आत्‍मा की चिर शांति और परिजनों को इस दुख की घड़ी में धैर्य धारण करने की श‍क्ति प्रदान करें.


उप मुख्यमंत्री रेणु देवी ने कहा कि प्रख्यात साहित्यकार, गोवा की पूर्व राज्यपाल मेरी अभिभावक आदरणीया मृदुला सिन्हा जी के निधन के दुखद खबर से अत्यंत मर्माहत हूँ.उनका निधन देश के साहित्य और राजनीतिक जगत में अपूरणीय क्षति है. ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें एवम उन्हें अपने श्री चरणों मे स्थान दें. 


गोवा की पूर्व राज्यपाल एवं लेखिका मृदुला सिन्हा जी के निधन की खबर अत्यंत दुःखद है.नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने उनको भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके शोकाकुल परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूँ। शत-शत नमन.

 गोवा की पूर्व राज्यपाल मृदुला सिन्हा के निधन पर हम पार्टी के प्रमुख व पूर्वी मुख्‍यमंत्री जीतन राम मांझी, लघु जल संसाधन मंत्री संतोष सुमन व पार्टी प्रवक्ता दानिश रिजवान ने भी गहरी शोक संवेदना व्‍यक्‍त की है.भवन निर्माण मंत्री  डॉ.अशोक चौधरी ने कहा कि गोवा की पूर्व राज्यपाल व लेखिका श्रीमती मृदुला सिन्हा जी के निधन का दुःखद समाचार प्राप्त हुआ। साहित्य लेखन में आपके अविस्मरणीय योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा.मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ कि आपकी आत्मा को श्री चरणों में स्थान दें एवं परिजनों को संबल प्रदान करें. 


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :