जनादेश

ज्यादा जोगी मठ उजाड़ ! जगदानंद को लेकर रघुवंश ने लालू को लिखा पत्र कड़ाके की ठंढ से बचाती 'कांगड़ी ' यही समय है दही खाने का ! निर्भया के बहाने सेंगर को भी तो याद करें ! डॉक्टर को दवा कंपनियां क्या-क्या देती हैं ? एमपी के सरकारी परिसरों में शाखा पर रोक लगेगी ? एक थे सलविंदर सिंह मुख्यमंत्री पर जदयू भाजपा के बीच तकरार जारी वाम दल सड़क पर उतरे जाड़ों में गुलगुला नहीं गुड़ खाएं ! नए दुश्मन तलाशती यह राजनीति ! कलेक्टरों के खिलाफ कार्रवाई हो-सीबीआई यह दो हजार बीस का युवा आक्रोश है ! हम देखेंगे ,पर समझेंगे या नहीं ! फ़्रांसिसी उपनिवेश में कुछ दिन शाकुंभरी देवी के जंगल में काले पत्थरों से टकराती लहरे सेहत को फायदा पहुंचे ऐसा हलवा बनाएं ! भून कर बनाएं दाल ,जल्दी पचेगी

भाषा को रामनामी से मत ढकिये !

चंचल 

वाराणसी .काशी विश्वविद्यालय के वर्तमान समेत पिछले तीनो कुलपतियों के सोच से निर्मित छात्रों का चरित्र सामने आने लगा है . कल एक खबर मिली कि संस्कृत विभाग के कुछ छात्र कुलपति आवास पर धरना दे रहे थे कि उनके विभाग में एक मुसलमान फिरोज खान की नियुक्ति गलत की है . एक मुसलमान भारतीय प्राच्य बिद्या ,और संस्कृत कैसे पढ़ा सकता है ? कितने शर्म की बात है कि एक पढ़ालिखा विश्व विद्यालय का छात्र , यह बात बोल रहा है . अब ज्ञान ,विद्या , और भाषा मजहब के खांचे में जाकर खड़ी हो गई है . यह कुंठित सोच पोंगा पंथी सोच की पोषक है जिसने सबसे ज्यादा सनातन का ही नुकसान किया है .दस हजार हिंदुओं के बीच गर एक मुसलमान आ जाय तो दस हजार हिन्दू एक पल में टाट बाहर और मलेक्ष घोषित .

मित्र ! संस्कृत का कद मत घटाइए , यह ज्ञान विज्ञान की एक मजबूत भाषा है इसे मात्र चंदन और रामनामी से मत ढकिये . इसके प्रचार प्रसार में उठिये . आज भी इस देश मे एक गांव ऐसा है जहां केवल संस्कृत बोली जाती है . इस गांव में सारी जातियां हैं .आप संस्कृत को तबाह करने पर तुले हैं . इसी विश्व विद्यालय में एक महान विद्वान रहे हैं डॉ हजारी प्रसाद द्विवेदी उन्होंने रहीम के संस्कृत और ज्योतिष ज्ञान की जो तारीफ की है उसे पढ़िए . रहीम ने संस्कृत का प्रचार किया ठीक उसी तरह जैसे फिराक साहब ने उर्दू का .देश बनाइये दोस्त . छोटे छोटे टुकड़ों में तोड़िये मत .

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :