जनादेश

ऐसे सेनेटाइज करते हैं मजदूरों को मलेरिया क्षेत्र में कोरोना असर बहुत कम ? काम किसका नाम किसका पीएम के नाम दूसरे फंड की जरुरत क्या थी पैदल चला मजलूमों का कारवां ठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां! डरते डरते जो भी किया उसका स्वागत ! लॉक डाउन के बाद आगे क्या? सामाजिक नहीं, भौतिक दूरी हो ऐसे नहीं होगा संकट का समाधान कहीं उनका घर ही तो है ! इस लड़ाई में अंधविश्वास की कोई जगह नहीं यह भीड़ तो संकट का पहला बड़ा चेहरा है यूपी की राजनीति पर छाए रहे बेनी बाबू कोरोना, इटली और वेटिकन सिटी कोरोना के साये में निपट जाएंगे अखबार ? कोरोना के बाद बच पाएगा प्रिंट मीडिया ? कम्युनिटी किचन पहली जरुरत है कोरोना से बचने की कार्रवाई में केंद्र की चूक न्यूयार्क के गवर्नर को सुन तो लीजिए

मुख्यमंत्री पर जदयू भाजपा के बीच तकरार जारी

डा लीना

पटना. अगले बिहार विधानसभा चुनाव में अभी देर है, लेकिन मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा? इसको लेकर एनडीए के दो प्रमुख घटक दलों जदयू और भाजपा नेताओं के बयानबाजी से राज्य के सत्तारूढ़ गठबंधन के बीच विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है. अबकी बार केंद्रीय मंत्री रह चुके भाजपा के विधान पार्षद डॉ संजय पासवान ने मुख्यमंत्री पद पर भाजपा की दावेदारी जताई. उन्होंने तो मुख्यमंत्री का चेहरा भाजपा की ओर से कौन होना चाहिए यह भी बताया.  इसे लेकर जदयू के राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी त्यागी ने पासवान के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी. कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को खुद संज्ञान लेकर इस तरह के बयानबाजी पर रोक लगाना चाहिए. केसी त्यागी ने अमित शाह का हवाला देते हुए कहा कि बिहार में विधानसभा का चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही एनडीए लड़ेगा.  उन्होंने एनडीए के अन्य घटक दल लोजपा का भी हवाला दिया और कहा कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ा जाएगा.  

बुधवार को मीडिया से बातचीत में भाजपा के विधान पार्षद डॉ संजय पासवान ने मुख्यमंत्री पद पर भाजपा की दावेदारी जताई. कहा कि जनता अब भाजपा के किसी पिछड़े वर्ग के नेता को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती है. डा. पासवान ने कहा कि अब तक वह राज्य के लगभग 22 जिलों में भ्रमण कर चुके हैं. वहां की जनता से जो भी राय मिली उसे पार्टी के शीर्ष नेतृत्व तक पहुंचा चुके हैं. उन्होंने जोर देकर कहा कि न सिर्फ मैं बल्कि पार्टी के अधिसंख्य नेताओं को भी यह फीडबैक मिल रहा है और उन्होंने भी नेतृत्व को इससे अवगत कराया है. जनता से जिस तरह से फीडबैक मिल रहे हैं उससे भाजपा की ओर से उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी या केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय को मुख्यमंत्री के रूप में सामने रख चुनाव लड़ा जा सकता है. इसके अलावा उप मुख्यमंत्री का पद किसी सवर्ण या दलित या फिर दोनों को दिया जा सकता है.


जदयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने भाजपा नेता संजय पासवान के इसी बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है कि भाजपा एक अनुशासित पार्टी है. मुझे उम्मीद है कि संजय पासवान के गैर अनुशासित बयान पर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह संज्ञान लेंगे और आगे से इस तरह के बयान पर रोक लगाएंगे. केसी त्यागी ने कहा है कि अमित शाह ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि बिहार में विधानसभा का चुनाव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए लड़ेगा. एनडीए के घटकदल लोजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविलास पासवान और वर्तमान अध्यक्ष चिराग पासवान ने संयुक्त रूप से कहा है कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार में हमलोग चुनाव लड़ेंगे.


इधर संजय कुमार पासवान के बयान से भाजपा ने पल्ला झाड़ लिया है. पार्टी ने कहा है कि विधानसभा चुनाव एनडीए गठबंधन नीतीश कुमार के नेतृत्व में लड़ेगा. पार्टी प्रवक्ता डा. निखिल आनंद ने कहा है कि डा. संजय पासवान पार्टी के वरिष्ठ व सम्मानित नेता है. उन्होंने सिर्फ अपनी व्यक्तिगत भावना का उदगार किया है. उनका बयान पार्टी का आधिकारिक बयान नहीं है.

भाजपा ने डॉक्टर पासवान के बयान से भले ही पल्ला झाड़ लिया है, लेकिन सवाल उठता है कि बावजूद इसके जदयू प्रवक्ता केसी त्यागी ने अमित शाह को बयान पर संज्ञान लेने की बात क्यों कही? जाहिर है कि जदयू और भाजपा दोनों अपने नेताओं द्वारा अपनी-अपनी पार्टी की दावेदारी को लेकर बयानबाजी करने को हवा देती रहती है और अपने नेताओं को कुछ नहीं कहती. भले ही वह अपने सहयोगी दल को आश्वासन दें . गौरतलब है कि जदयू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने भी पिछले दिनों ही सीटों के बंटवारे को लेकर जदयू की अधिक सीटों पर दावेदारी वाला बयान दिया था और उस पर भी जदयू- भाजपा के बीच बयानबाजी से तनातनी का माहौल बना था जो कि अब भाजपा के संजय पासवान के बयान के बाद जारी है.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :