बीजेपी और जेडीयू के बीच तकरार का फायदा किसको ?

पार्टी की खिचड़ी और सरकार की तहरी ! नशामुक्ति ब्रांड एंबेसडर बन गयी हैं ज्योति पासवान पर स्वास्थ्य मंत्री को नहीं मिला कोरोना का टीका लक्ष्मण ने कहा वैक्सीन से कोई दिक्कत नहीं आई चंपारण से खादी को मंत्र मान लिया दुनिया के सबसे बड़े कोविड टीकाकरण की शुरुआत पत्रकार पर भड़के नीतीश कुमार डिंपल यादव का जन्म दिन मनाया गया हिंदुत्व का नया चेहरा बनते योगी ! किसानों के समर्थन में उतरी कांग्रेस अमेरिकी पार्लियामेंट पर हमला और भारत बर्फ़ पर गाड़ी और याद आई नानी ! तितलियों का काम भी हम ही करेंगे ? किसान कानून-खतरे में सुप्रीम कोर्ट की साख डेमोक्रेटिक पार्टी ट्विटर, फ़ेसबुक के सामने बौनी पड़ गई ! ब्लू लैगून की ब्रुक शील्ड्स याद है ? मध्य प्रदेश में ये क्या हो रहा है ? आज खिचड़ी है लूसी कुरियन परिचय की मोहताज नहीं वूमेन हेल्पलाइन को बंद करने पर सरकार से जवाब तलब

बीजेपी और जेडीयू के बीच तकरार का फायदा किसको ?

आलोक कुमार

पटना.राजद के बाद जदयू में गये और जदयू से राजद में आने वाले पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी और पूर्व मंत्री श्याम रजक ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने कहा है कि अगर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को सीएम बना दें, तो पार्टी उनको 2024 में प्रधानमंत्री के लिए समर्थन देगी. साथ ही कहा कि नीतीश को विपक्ष का नेतृत्व करना चाहिए.वहीं राजद नेता श्याम रजक ने कहा है कि जदयू के विधायकों में भाजपा की कार्यशैली से काफी नाराजगी है और जदयू के 17 विधायक राजद के संपर्क में हैं. उन्होंने कहा कि ये जदयू विधायक जल्दी ही राजद में शामिल होंगे.इन दोनों नेताओं का दावा हवा-हवाई साबित हो रही है.राजद ने कहा कि दोनों बड़े नेताओं का बयान व दावा व्यक्तिगत है.


बिहार की उप मुख्यमंत्री रेणु देवी ने उदय नारायण के बयान पर कहा कि मेरा घर मजबूत है. कोई तोड़ नहीं सकता. मेरा मुखिया मजबूत है. साथ-साथ पूरा घर मजबूत है. इसे कौन तोड़ेगा. आरजेडी क्यों परेशान है ये वहीं जाने.बिहार में एनडीए के बीच सबकुछ ठीक चल रहा है. बिहार में अच्छा काम हो रहा है, बिहार का काम हो रहा है. बिहार के विकास का काम हो रहा है.



बता दें कि बिहार में नई सरकार का गठन हो चुका है, लेकिन अभी तक कैबिनेट का विस्तार नहीं हुआ है. ऐसे में माना जा रहा है कि बिहार में सत्ता चला रहे एनडीए गठबंधन में चीजें ठीक नहीं चल रही हैं.अरुणाचल प्रदेश में जदयू के छह विधायकों के भाजपा में शामिल होने के बाद से ही राजनीतिक गलियारों में बिहार सरकार को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई है. इसी बीच राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने कहा है कि अगर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को सीएम बना दें, तो पार्टी उनको 2024 में प्रधानमंत्री के लिए समर्थन देगी.साथ ही कहा कि नीतीश को विपक्ष का नेतृत्व करना चाहिए.



बिहार में भाजपा ने ज्यादा सीटें हासिल करने के बाद नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री की गद्दी पर जरूर बैठा दिया है, लेकिन नीतीश को अरुणाचल में हुए घटनाक्रम के बाद इस बात की आहट होना शुरू हो गया है कि कहीं भाजपा उन्हें पीछे का दरवाजा ना दिखा दे. यही वजह है कि राजद को अब सरकार बनाने की संभावना नजर आने लगी है.



इस कारण ही पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने मुख्यंमत्री नीतीश कुमार को बड़ा ऑफर दिया और कहा कि अगर नीतीश कुमार तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमंत्री बना दें, तो उनको 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री के लिए विपक्षी पार्टियां समर्थन कर सकती हैं.

चौधरी ने कहा, भाजपा छोटे दलों को पसंद नहीं करती और उन्हें नष्ट करना चाहती है. भाजपा चाहती है कि जदयू एनडीए छोड़ दे. हम नीतीश कुमार से एनडीए छोड़ने, महागठबंधन में शामिल होने और तेजस्वी यादव को सीएम बनाने की अपील करते हैं.उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में प्रवेश करना चाहिए और विपक्ष का नेतृत्व करना चाहिए.

कुल मिलाकर राजद ने अभी तक बिहार में सरकार बनाने की उम्मीद नहीं छोड़ी है. राजद एक बार फिर नीतीश कुमार संग सरकार बनाने को तैयार नजर आ रही है.इसके लिए पार्टी नीतीश कुमार को दिल्ली तक भेजने के लिए तैयार है. हालांकि, राजद के इस ऑफर के पीछे की वजह एनडीए में जदयू और भाजपा के बीच रिश्तों का तनावपूर्ण होना है.



नीतीश सरकार में मंत्री रह चुके हैं और मौजूदा समय में राजद नेता श्याम रजक का कहना है कि जदयू विधायकों में भाजपा को लेकर काफी गुस्सा है. इस कारण जदयू के 17 विधायक पार्टी छोड़कर राजद में शामिल होना चाहते हैं मगर दलबदल कानून के तहत इन विधायकों की सदस्यता रद्द होने का खतरा है. इस कारण इन विधायकों की संख्या बढ़ाने की कोशिश की जा रही है.

उन्होंने कहा कि यदि जदयू के करीब 26 विधायक पार्टी छोड़कर राजद की सदस्यता लेते हैं तो उनकी सदस्यता पर कोई खतरा नहीं रहेगा.श्याम रजक ने दावा किया कि अरुणाचल प्रदेश में हुई घटना के कारण इन विधायकों में नाराजगी है और बिहार में साफ तौर पर दिख रहा है कि भाजपा नीतीश कुमार पर पूरी तरह हावी हो चुकी है.इस कारण नीतीश कुमार की दिक्कतें लगातार बढ़ती जा रही हैं.


बिहार में 243 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनाव में एनडीए गठबंधन को 125 सीटों पर जीत हासिल हुई.एनडीए में भाजपा को 74 सीटों पर जीत मिली, वहीं जदयू को 43 सीटों से ही संतोष करना पड़ा. दूसरी तरफ, तेजस्वी यादव के नेतृत्व में राजद 75 सीटें जीतकर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है.भाजपा ने ज्यादा सीटें जीतने के बाद भी नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाया.इसके पीछे की वजह नीतीश के चेहरे पर चुनाव लड़ना था.हालांकि, अब भाजपा चाहती है कि ज्यादा सीटों की वजह से कैबिनेट में उसकी भागीदारी अधिक हो, इस बात को लेकर भी विवाद है. 

इस पर पूर्व मंत्री नीरज कुमार ने के वरीय नेता व पूर्व मंत्री ने  पर सीधा तंज कसा है.उन्होंने कविता के माध्यम से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव पर निशाना साधते हुए उन्हें फिर मचिया का दूत बताया.नीरज ने पूर्व मंत्री श्याम रजक को भी कविता के घेरे में लिया है.प्रकट भए मचिया के दूत, चढ़ा जैसे सत्ता का भूत, चौधरी श्याम आगे-आगे, ऑफर बाँटे भागे-भागे,सीएम देकर पीएम ले लो, जनता की उम्मीदों से खेलो,मगर जिस दागी को त्यागी जनता, आखिर वो सीएम कैसे बनता,तुम सत्तालोलुप ठहरे बाबू, दिवास्वप्न पर रखो काबू,सीएम पीएम के सपने मत पालो, ज्योतिष से दिखवा लो.


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :