जनादेश

क्यों उछला बाजार ,जानना चाहेंगे ? असम में भी बढ़ने लगा कोरोना कोंकण में साबूदाने का स्वाद नेहरू अकेले रह गए कमल हासन ने क्या कहा पीएम से ट्रंप की जवाबी कार्रवाई का अर्थ क्या है डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कहा- हमें टारगेट ना करें काम खो चुके हैं 92.5 फीसदी मजदूर ट्रम्प ने जो गोलियां मांगी हैं उन्हें भारत ने अलग कर रखा है ! यूके कोई भारत जैसा देश थोड़े ही है फिर सौ साल बाद ? यह एक नई दुनिया का प्रवेश द्वार है महिलाओं ने भी दिखाई राह ! आखिर कही तो प्रतिकार होना था ! पश्चिम की दाल यह ऊटी की तरफ जाती सड़क है आज बाबूजी का जन्मदिन है जालंधर से हिमाचल घास पर बिखरे महुआ के फूल तो केरल में थम गई महामारी!

ताजमहल कारपोरेशन ने दर्शकों को गुदगुदाया

लखनऊ. राजधानी स्थित संगीत नाटक अकादमी में शुक्रवार को फूड कारपोरेशन ऑफ इंडिया के तत्‍वाधान में इंटर रीजनल कल्‍चरल प्रोग्राम नार्थ जोन का आयोजन किया गया. इस दौरान यहां एक नाटक का मंचन किया गया. जिसमें भ्रष्‍टाचार पर प्रहार करते हुए दिखाया गया कि कैसे एक बादशाह की ताजमहल बनवाने की हसरत पर अधिका‍री अपने भ्रष्‍टाचार की रोटियां सेंकते हैं. वहीं अपने सहायक के बार-बार चेतावनी देने पर भी बादशाह अधिकारियों द्वारा तैयार इस्‍टीमट और नक्‍शे को ठीक से नहीं देखते और इसके चलते बादशाह का ड्रीम प्रोजेक्‍ट भ्रष्‍टाचार की भेंट चढ़ जाता है. इस नाटक ने जहां एक संदेश दिया, वहीं दर्शकों को खूब गुदगुदाया. 

इस दौरान कार्यक्रम के मुख्‍य आयोजकों में से एक रेहान किदवई ने बताया कि नाटक आज के युग में संवाद का बेहतरीन माध्‍यम हैं. यह कार्यक्रम प्रतिभाओं को मंच पर लाकर क्षेत्रीय संस्‍कृति को बढ़ावा देने का सशक्‍त माध्‍यम है. 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :