जनादेश
महिला उद्यमियों के लिये एक प्रेरणा हैं अनामिका राय

अखंड प्रताप सिंह

लखनऊ. राजधानी में बमुश्किल दो सालों में महिला उद्यमी अनामिका राय ने अपनी मेहनत और लगन से एक मिसाल कायम की है. इतने कम समय में बरिस्ता के दो आउटलेट, लैक्मे सलून की पांच शाखाएं और अपने अपरेल ब्रांड इंडियन सिग्नोरा के तीन स्टोर खोलना एक सपना सरीखा लगता है जिसको सच कर दिखाया है अनामिका राय ने. कविता में रुचि रखने वाली अनामिका का 'अनामिका' नाम से एक काव्य संग्रह भी प्रकाशित हो चुका है. अपनी इस यात्रा के बारे में अनामिका ने विस्तार से बातचीत की- 

-आम तौर पर यह देखा गया है महिलाएं बिज़नेस में बहुत कम आती हैं, आप कैसे आ गईं?

--आम तौर  पर जो होता आया हो उसको ख़ास बनाने के लिए अलग और ख़ास करना होता है जिसकी निरन्तर कोशिस में मैं लगी हूँ,जिसके लिए हर दिन कुछ नया अपने बिजनेस के माध्यम और समाज के सहयोग से करती आ रही हूं.

-आपके परिवार के लोगों ने इसे किस तरह लिया?

--परिवार के सभी लोगों ने सकारात्मक सहयोग किया और हर दिन कुछ नया करने और आगे बढ़ने के जुनून के लिए प्रोत्साहित करते रहते हैं जिसके फलस्वरूप सबसे कम उम्र में किसी कम्पनी की सीएमडी बनी और अपनी कम्पनी को सफलता के नए आयाम तक पहुंचाया. हिंदुस्तान यूनिलीवर से जुड़ने के एक साल के अंदर ही कंपनी ने मुझे सम्मानित भी किया.

-अभी आप किस-किस तरह के बिज़नेस में हैं?

--जैसा कि मैंने आपको बताया की निरन्तर कुछ नया करने की सोच के साथ मैं काम करती रहती हूं. इसी वजह से किसी एक क्षेत्र में ही नहीं बल्कि अलग-अलग फ़ील्ड में कार्य कर रही हूं. भारत की नम्बर एक कम्पनी हिंदुस्तान यूनिलीवर के साथ लैक्मे सलून के पांच सेंटर चला रही हूं. फिर से एक बार भारत में कॉफ़ी पीने के बढ़ते चलन को देखते हुए इस क्षेत्र की बड़ी कम्पनी "बरिस्ता" के साथ प्रदेश स्तर पर अनुबंध किया जिसके अभी दो आउटलेट्स लखनऊ के हज़रतगंज और उमराव मॉल महानगर में खुले हैं. जल्द ही प्रदेश के अन्‍य शहरों में भी इसके आउटलेट्स खोले जाएंगे. महिला हूं तो महिलाओं से जुड़े क्षेत्र आकर्षित करते हैं जिसकी वजह से अपना ख़ुद का एक परिधानों का ब्राण्ड "द इंडियन सिग्नोरा" नाम से शुरू किया जिसके अभी तक प्रदेश में तीन आउटलेट्स सफलतापूर्वक चल रहे हैं जिसको भविष्य में प्रदेश के बाहर ले जाने की भी योजना है.

-बिजनेस में आपकी सफलता का राज क्या है?

--मेरे किसी भी कार्य की सफलता का कोई राज नहीं है, बस रोज़ एक नयी सोच के साथ आगे बढ़ना और हमेशा किसी भी परिस्थिति में धैर्य रखना, सकारात्मक बने रहना और किसी भी वजह से किसी का दिल ना दुखे ये हमेशा ध्यान में रहता है इसलिए किसी भी विवाद में  ना पड़ते हुए निरन्तर आगे बढ़ने की सोच रहती है.

-आपकी भविष्‍य की क्या योजनाएं हैं?

--अपनी कम्पनी को और ऊंचाइयों पर ले जाना. जिसमें भविष्य में लक्मे,बरिस्ता,सिग्नोरा को और विस्तार देना शामिल है. 

-आपका सपना क्या है?

--सपना यही है कि नई सोच के साथ निरंतर ख़ुद को स्थापित करने के प्रयास में लगी रहूं और समाज के लिए जो बन पड़े वो करूं.

-बिजनेस में रहते हुए समाज में आपका क्या योगदान रहा है?

--मेरा बिजनेस समाज से सीधा जुड़ा हुआ है जिसकी वजह से समाज में कुछ भी अच्छा करने  के लिए जो मेरे से बन पड़ता है वो मैं निरन्तर करती रहती हूं और भविष्य में जो भी मौक़े आएंगे उसमें बड़ चढ़ कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराऊंगी.

-आज के युवा वर्ग के लिए आपकी तरफ से कोई टिप्स?

--बस हमेशा सकारात्मक बने रहें.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :