जनादेश
क्या कोरोना को रोकने में कामयाब हो पाएगा देश ?

सुशील मोहपात्रा 

नई दिल्ली .क्या कोरोना से लड़ने के लिए हम तैयार है . सरकार कह रही है कि तैयार है लेकिन सवाल यह है कि जब विकसित देश नहीं लड़ पा रहे हैं तो क्या भारत लड़ पाएगी? अभी हमारे सामने कम केस है इसीलिए भारत के लोगों के लिए दिक्कतें नहीं हो रही है. जिन लोगों को कोरोन हुई है उनको आराम से अस्पताल में बेड मिल जा रही है.महाराष्ट्र सरकार ने कहा है कि 7000 से भी ज्यादा बेड तैयार कर दिए गए हैं. महाराष्ट्र का जनसंख्या 12 करोड़ से भी ज्यादा है. मान लीजिये की महाराष्ट्र में 0.2 लोग कोरोना से संक्रमित होते हैं तो फिर महाराष्ट्र में अकेले 240000 लोग इस वायरस से शिकार हो सकते हैं. 240000 में से अगर सिर्फ दस प्रतिशत लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा तो 24000 लोगों को अस्पताल में बेड चाहिए होगा तो उस स्थिति में क्या होगा. यह प्रतिशत बहुत कम है.आगे-पीछे भी हो सकता है. इटली और स्पेन की अंकेडे आप देखेंगे तो डर जाएंगे


इटली में एक लाख में करीब 78 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं. स्पेन में एक लाख में 46 लोग इस वायरस से शिकार हुए हैं. इटली और स्पेन के साथ भारत का तुलना नहीं करना चाहिए नहीं तो जो आंकड़े सामने आएंगे वो भयाभय होगा लेकिन फिर भी हर स्थिति के लिए भारत को तैयार रहने की जरूरत है. इटली और स्पेन भी कभी उम्मीद नहीं कर रहे थे कि इतने सारे लोग संक्रमित हो जाएंगे. एक दिन में यानी 20 मार्च को इटली में 627 लोगों की मौत हुई है जब कि 5986 नए केस सामने आए हैं. इटली की जनसंख्या कुलमिलाकर सिर्फ 6 करोड़ है जो भारत से करीब 21 गुना कम है. तो अगर इटली की तरह भारत इस वायरस से संक्रमित होता है तो कितने लोग संक्रमित होंगे उसका अंदाज़ आप खुद लगा लीजिये.इटली में हेल्थ वर्कर्स भी कोरोना वायरस का शिकार हो रहे हैं. 17 मार्च तक इटली में 2629 हेल्थ वर्कर्स संक्रमित हुए थे और यह यह आंकड़े चीन से दोगुना है.


इटली के Lombardy इलाके में यह वायरस सबसे ज्यादा कोहराम मचाया है. इस इलाके में 20 प्रतिशत फैमिली डॉक्टर वायरस से संक्रमित हुए हैं. कई डॉक्टर की मौत भी हो चुकी है. इटली में जिन हेल्थ वर्कर के टेस्ट पॉजिटिव पाया जा रहा उनके संपर्क में आएं दूसरे डॉक्टरों को भी 14 दिनों तक अलग रखा जा रहा है और वो डॉक्टर रोगियों की ट्रीटमेंट नहीं कर पाए रहे हैं. एक तो रोगी बढ़ रहे हैं और डॉक्टर भी कम हो रहे हैं. यह सब भारत के साथ भी हो सकते है..भारत को तैयार रहने की जरूरत है. इटली की स्थिति काफी खराब है लेकिन इटली फिर भी लड़ रहा है. इटली ने कई कदम उठाया है लेकिन फिर भी यह वायरस कम होने की नाम नहीं ले रहा है. करीब दो हफ्ते हो गए हैं पूरी इटली में लॉक डाउन है. पुलिस पेट्रोलिंग कर रही है. इसे बावजूद भी रोज ज्यादा से ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं. नार्थ इटली के बाद अब इटली सरकार को यह डर है कि साउथ इटली के लोग भी धीरे धीरे इस वायरस का शिकार होंगे. इटली सरकार यह उम्मीद कर रही थी कि लॉक डाउन के बाद संख्या कम होगी लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है. सोचिए अगर लॉक डाउन नहीं हुआ होता तो इटली का क्या हाल होता ?

इटली की आर्थिक स्थिति भी खराब होते जा रही है. इटली ने यूरोपियन यूनियन से मदद मांगी है लेकिन फिर भी अपने लोगों को आर्थिक मदद देने में पीछे नहीं हट रही है. लोगों को मदद करने के लिए इटली सरकार ने 25 मिलियन यूरो का बजट सैंक्शन की है. इटली सरकार मजदूरों को मदद कर रही है. कोई भी इंडस्ट्री बंद न हो और लोगों की नौकरी न जाये उस के लिए भी मदद कर रही है..इटली में जो टूर गाइड थे उनकी काम ठप हो गया है..इटली सरकार उन्हें मार्च महीने में 600 यूरो देने की घोषणा की है. इटली सरकार ने कहा है कि दो महीने तक किसी की भी नौकरी नहीं जाएगी. जिन लोगों को कम तंखा मिल रही उन्हें इटली सरकार 100 यूरो की बोनस भी दे रही है. इटली में स्कूल सब बंद है. अब बच्चे सब घर में है. बच्चों की खयाल रखने के लिए इटली सरकार 600 यूरो की वाउचर भी दे रही है ताकि लोग आया को नियुक्ति कर सके. इटली में कई टैक्स और इन्शुरन्स पेमेंट भी माफ कर दिए गए हैं. अगर भारत ऐसी स्थिति आती है तो भारत सरकार को भी तैयार रहना चाहिए.


अपने आप को सबसे शक्तिशाली देश कहने वाला अमेरिका इस वायरस के सामने बेवस नज़र आ रही है. अमेरिका में 20 हज़ार के करीब लोग इस वायरस से शिकार हुए हैं और 280 के करीब लोगों की मौत हो गई है. न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर के हिसाब से अमेरिका में वेंटिलेटर की कमी हो गई है. अमरीका और यूरोपियन कंपनी जो वेंटिलेटर बनाते थे वो भी हाथ खड़े कर दिए हैं. उनका कहना है कि इतने जल्दी वो मांग को पूरा नहीं कर सकते हैं. वेंटिलेटर इम्पोर्ट भी नहीं हो रही है. एक्सपोर्ट करने वाले देश एक्सपोर्ट करना बंद कर दिए हैं क्यों कि उन्हें भी वेंटिलेटर की जरूरत है. CNN के खबर के हिसाब से जनवरी के महीने में अमेरिका के इंटेकलिजेंस डिपार्टमेंट ने चीन के कोरोना वायरस को को लेकर सचेत कर दिया था लेकिन ट्रम्प सरकार ने इसे गंभीरता से नहीं लिया. अगर उस समय कदम उठाये गए होते तो अब यह हाल नहीं होता. अमेरिका के सीनेट में एक ट्रिलियन रेस्क्यू प्लान को लेकर डिबेट चल रही है.

कोरोना वायरस की कहर को रोकने के लिए जर्मनी और दक्षिण कोरिया बहुत शानदार काम किये हैं. यहां संक्रमित केस ज्यादा है लेकिन मृत्यदर बहुत कम है. जर्मनी में 20 हज़ार के करीब लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं लेकिन वहां सिर्फ 70 के करीब लोगों की मौत हुई है जो बहुत कम है. जर्मनी में कुलमिलाकर जीतने केस हैं लगभग उतनी केस ईरान में है..ईरान में कुलमिलाकर 19700 के करीब केस सामने आए हैं लेकिन 1435 के करीब लोगों की मौत हो चुकी है. इसे अंदाज़ लगाया जा सकता है कि मृत्यदर रोकने के लिए जर्मनी कितना शानदार काम किया है. दक्षिण कोरिया में 8799 के करीब लोग संक्रमित हुए हैं अब तक सिर्फ 102 लोगों की मौत हुई है.


जो कदम यह दोनों देश उठाये हैं उस में से एक है ज्यादा से ज्यादा लोगों की टेस्ट करवाना.कोरोना वायरस के टेस्ट करने के मामले जर्मनी सबसे आगे हैं. एक हफ्ते में जर्मनी 160000 से भी ज्यादा टेस्ट कराती है. इतने टेस्ट किसी भी यूरोपियन देश में नहीं हो रहे हैं. दक्षिण कोरिया भी हफ्ते में 110000 से भी ज्यादा टेस्ट करवा रही है इसे यह फायदा हुआ है कि वायरस के बारे में पहले पता चल जाता है. अगर लोगों के अंदर लक्षण नहीं है तब भी टेस्ट किया जा रहा है ताकि बीमारी के बारे में पहले पता चल जाये इलाज जल्दी शुरू हो जाए.जर्मनी में मृत्यदर कम होने की और एक वजह भी है. जर्मनी में ज्यादा से ज्यादा कम उम्र के लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं. कुलमिलाकर जीतने लोग संक्रमित हुए हैं उस में से 80 प्रतिशत की उम्र 60 साल से नीचे है.


सरकार के साथ साथ भारत के लोगों को भी कई कदम उठाने की जरूरत है. अगर इस वायरस को रोकना है तो भारत में जर्मनी की तरह ज्यादा से ज्यादा टेस्ट करवाने की जरूरत है. जर्मनी की जनसंख्या में 8.5 करोड़ के करीब है और हफ्ते में 160000 से भी ज्यादा टेस्ट हो रहे हैं तो आप अंदाजा लगाइए की भारत में 130 करोड़ लोग रहते हैं तो एक हफ्ते में कितने टेस्ट होना चाहिए. अगर जर्मनी के साथ तुलना की जाए तो भारत को हफ्ते में करीब ढाई करोड़ लोगों की टेस्ट होनी चाहिए. भारत में इतना टेस्ट नहीं सकता क्यों कि हमारे पास इतने लैब नहीं है लेकिन फिर ज्यादा से ज्यादा टेस्ट करवाने की जरूरत है.

भारत में 65 साल से ज्यादा उम्र लोगों को बाहर निकलने की जरूरत नहीं है. जो लोग पहले भी हाइपरटेंशन,मधुमेह जैसे बीमारी की शिकार हैं तो उन्हें कुछ महीने के लिए पूरी तरह बाहर जाना बंद कर देना चाहिए. लोगों से दूर रहना चाहिए. सरकार और डॉक्टर जो सलाह दे रहे हैं उसे पूरी तरह मानना चाहिए. गांव के लोगों को ज्यादा सतर्क होने की जरूरत है. अब लोग शहर से गांव के तरफ लौटने लगे हैं ऐसे में सतर्कता बरतने की जरूरत है. अगर कोई लक्षण है तो अलग रहने की जरूरत है,जल्द से जल्द टेस्ट करवाना चाहिए. गांव में फैलने जाने के बाद रोकना मुश्किल हो सकता है. अगर भारत में यह वायरस ज्यादा से ज्यादा लोगों को संक्रमित करता है तो कई लाख लोगों की नौकरी जाएगी,लोगों को बिना तंखा के काम करना पड़ेगा, मजदूरों को मजदूरी नहीं मिलेगी. ऐसे में दूसरे देशों की तरह भारत को भी ऐसे स्थिति से निपटने के लिए कदम उठाना चाहिए. लोगों को आर्थिक मदद करने के लिए तैयार रहना चाहिए.लेखक एनडीटीवी के पत्रकार हैं . 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :