जनादेश

प्याज बिन पकवान सोनभद्र नरसंहार के तो कई खलनायक हैं ! टंडन तो प्रदर्शन करने गए और मुलायम से रसगुल्ला खाकर लौटे ! यूपी में नरसंहार के बाद गरमाई राजनीति ,प्रियंका गांधी गिरफ्तार राजेश खन्ना को स्टार बनते देखा है नए भारत में मुसलमानों पर बढ़ता हमला ! अब खबर तो लिखते हैं पर पक्ष नहीं देते ! पोटा पर सोटा तो भाजपा ने ही चलाया था ! वर्षा वन अगुम्बे की एक और कथा! देवगौड़ा ने लालू से हिसाब बराबर किया ! शाह का मिशन कश्मीर बहुत खतरनाक है समाजवादी हार गए, समाजवाद जिंदाबाद! यूपी में पचहत्तर हजार ताल तालाब पाट दिए बरसात में उडुपी के रास्ते पर देवताओं के देश में कोंकण की बरसात में हमने तो कलियां मांगी कांटो का .... अब सिर्फ सूचना देते हैं हिंदी अख़बार ! नीतीश हटाओ, भविष्य बचाओ यात्रा शुरू बिहार में फिर पड़ेगा सूखा

कोवलम के समुंद्र तट को घेरते होटल रिसार्ट

अंबरीश कुमार 

देवताओं के अपने देश यानी केरल का समूचे विश्व में मशहूर कोवलम समुंद्र तट खतरे में है.गोवा समेत यह देश के सबसे खूबसूरत समुंद्र तटों में से एक है जहां पर साल भर सैलानियों का जमावड़ा लगा रहता है .जैसा सभी समुंद्र तटों का इतिहास है यह भी मछुवारों का गांव रहा जो अब आलिशान रिसार्ट ,होटलों और रेस्तराओं की भीड़ में में बदल चुका है.बाजार इस समुंद्र तट को लील रहा है .प्रकृत के इस अनोखे समुंद्र तट पर अब समुंद्र की हदबंदी कर दी गई ।बगल के राज्य तमिलनाडु में समुंद्र तट के नियम कायदे काफी कड़े है और कोई भी निर्माण पांच सौ मीटर के भीतर नहीं हो सकता जिसका उदाहरण चेन्नई के मैरिना समुंद्र तट से लेकर महाबलीपुरम तक में देखा जा सकता है.पर केरल की ताकतवर होटल लाबी ने अपने राज्य में इन नियम कायदों को ताक पर रखकर निर्माण कर डाला है .केरल का पर्यटन विभाग का नारा है देवताओं का अपना देश .पर देवताओं के इस देश में सबसे मशहूर समुंद्र तट का समुंद्री पर्यावरण संकट में है और इसके चलते कभी भी कोई बड़ा हादसा भी हो सकता है ।

केरल की राजधानी तिरुअनंतपुरम में कई समुंद्री तट हैं जिनमें से एक कोवलम तट हैं.रेतीले तटों पर लहराते नारियल के पेड़ों को देखकर ऐसा लगता है मनो आप कोई पिक्चर पोस्ट कार्ड देख रहे हों .यहाँ लहराता समुंद्र है ,नारियल के घने जंगल है तो हरे भरे जंगलों के बीच बैक वाटर और ख़ूबसूरत लैगून भी हैं.कोवलम बीच के पास तीन और तट भी हैं जिनमें से दक्षिणतम छोर पर स्थित लाइट हाउस बीच सबसे अधिक प्रसिद्ध है.इस समुंद्र तट पर अब समुंद्र की जगह कम होती जा रही है और होटल ,रेस्तरां बढ़ते जा रहे है .विदेशी सैलानी इस तट पर सबसे ज्यादा नजर आएंगे क्योकि यही पर सूरज की किरणों के बदलते कोणों के साथ ही पानी रंग बदलता नजर आता है ।समुंद्र तट पर आते ही बाई तरफ नारियल से घिरी पहाड़ियों पर पुराना लाइट हाउस है जिसकी रौशनी शाम ढलते ही घुमने लगती है.रात में अरब सागर की स्याह लहरों पर जब इस लाइट हाउस की रौशनी पड़ती है तो लगता है कोई जहाज दिशा पहचान कर इधर ही आ रहा है .शाम को सूर्यास्त का अद्भुत नजारा इन सुंदरा तटों पर दिखता है.और शाम के बाद तट पर फैलता बाजार आबाद हो जाता है.अरब सागर की ओर खुले इन रिसार्ट ,होटल और रेस्तरां में सीजन के समय शाम से ही सीटे भर जाती है जिनमे विदेशियों की भी बड़ी संख्या होती है.दिन में लाइन से लगी छतरियों के नीचे ये विदेशी बिकनी में धूप सेकते नजर आते है तो सत्तर -अस्सी दशक का गोवा का कलंगूट याद आ जाता है जो हिप्पियों के चलते इस कदर बदनाम हुआ कि वहां अपसंस्कृति से बचने के लिए नग्न होने पर रोक लगा दी गई और आज भी वहा इस तरह के बोर्ड नजर आते है.कोवलम के समुंद्र तटों पर भी कुछ हद तक विदेशियों का यह असर महसूस किया जा सकता है जो विदेशों में तो आम है पर दक्षिण भारत के इस अंचल में लोगों को अटपटा लगता है .पर्यटन को केरल सरकार काफी बढ़ावा देती है तो उसे इस दिशा में भी सोचना चाहिए ताकि परिवार के साथ जाने वालों को किसी अप्रिय स्थिति का सामना न करना पड़े .

बंगाल से आए उज्जवल चटर्जी ने कहा - पर्यटन विभाग को यह सोचना चाहिए कि यह जगह गोवा से कुछ अलग है ,यहां तीर्थ यात्रा वाले पर्यटक भी बड़ी संख्या में आते है जो कन्याकुमारी जाते है ,पद्मनाभम स्वामी के मंदिर में दर्शन करने आते है .जबकि गोवा का पर्यटक पूरी तरह मौज मस्ती के लिए जाता है इस वजह से इन समुन्द्र तटों पर लोग एक सीमा तक ही बेपर्दा हो यह जरुर ध्यान रखना चाहिए .

दरअसल केरल के इन समुंद्री तटों पर देश के विभिन्न हिस्सों से आने वाले ज्यादातर पर्यटक धार्मिक रुझान वाले होते है क्योकि वे मदुरै ,रामेश्वरम,सबरीमाला ,कन्याकुमारी जैसी जगहों से यहाँ पहुँचते है जो तिरुअनंतपुरम से तीन चार सौ किलोमीटर के दायरेमें है .इन पर्यटकों में उत्तर भारत खासकर उत्तर प्रदेश ,बंगाल ,और गुजरात के ज्यादातर पर्यटक होते है.कन्याकुमारी में स्वामी विवेकानंद की वजह से बंगाली पर्यटक बड़ी संख्या में आते है और कन्याकुमारी के बाद उन्हें सबसे करीब लगभग अस्सी किलोमीटर पर तिरुअनंतपुरम आना ज्यादा सुविधाजनक लगता है.

इस शहर का इतिहास भी काफी रोचक है .अनंतवरम तिरुअनंतपुरम का प्राचीन पौराणिक नाम है जिसका उल्लेख ब्रह्मांडपुराण और महाभारत में मिलता है.18वीं शताब्दी में त्रावनकोर के महाराजा ने जब इसे अपनी राजधानी बनाया तभी से तिरुअनंतपुरम का महत्त्व बढ़ा.यहाँ के लोगों के मुताबिक 1994-95 के दौरान भारी मात्रा में स्वर्ण आयात होने के कारण तिरुअनंतपुरम 'स्वर्णिम द्वार' कहा गया है.इस शहर का नाम शेषनाग अनंत के नाम पर पड़ा जिनके ऊपर पद्मनाभस्वामी (भगवान विष्णु) विश्राम करते हैं.तिरुवनंतपुरम, एक प्राचीन नगर है जिसका इतिहास 1000 ईसा पूर्व से शुरू होता है.पद्मनाभस्वामी मंदिर की वजह से यहाँ भारी संख्या में तीर्थ यात्री पहुँचते है .इसके बाद कुछ अन्य पर्यटन स्थलों को छोड़कर ज्यादातर सैलानी कोवलम समुंद्र तट का रुख करते है जो शहर से सोलह किलोमीटर की दूरी पर है .उससे पहले करीब आठ किलोमीटर पर शंखमुघम समुंद्र तट पड़ता है जहाँ सैलानी इकठ्ठा होते है पर यहां अरब सागर की सीधी लहरें काफी खतरनाक नजर आती है और यह समुंद्र तट नहाने के लिहाज से सुरक्षित नहीं है .इसलिए सैलानियों को कोवलम का समुंद्र तट ज्यादा भाता है .

कोवलम के रास्ते में परशुराम का मंदिर पड़ता है जो काफी प्राचीन है .कहा जाता है कि परशुराम के फरसे की वजह से ह केरल बना जो उन्होंने एक बार क्रोधित होकर फेंका था और समुंद्र पीछे हट गया तभी केरल का आकर फरसे की तरह माना जाता है ।पर यह सब धार्मिक किवदंतियां है .बहर्हार इस मंदिर के कुछ ही आगे बढ़ने पर नारियल के पेड़ों से घिरे बैक वाटर का भी नजारा दिख जाता है .बैक वाटर में नाव से घुमाने वाले बहुत से निजी आपरेटर है जो सौ रुपए प्रति व्यक्ति के हिसाब से घंटे भर सैर कराते है .इस सैर में प्राकृतिक दृश्य देखते बनता है .हरियाली ऎसी की आंखे बंद होने का नाम न ले .नारियल के घने जंगलों में सुपारी के लंबे दरख्त और बीच बीच में केलों के बगीचे का हरापन काफी लुभाता है .शाम से कुछ पहले कोवलम के लाइट हाउस बीच पर पहुंचे तो दहकता हुआ सूरज नीचे आने की तैयारी कर रहा था .लाइट हाउस के पास ही तक वहां जाता है कि उसके आगे वहां का रास्ता नहीं है और कुली सामान लेकर रिसार्ट तक पहुंचाता है .इसी से पता चल जाता है कि इस तट पर बने रिसार्ट और होटल बाद के निर्माण है .इस समुंद्र तट पर पहले जो भी रेस्तरां झोपड़ी के रूप में थे वे अब पक्के निर्माण में बदल चुके है .केरल सरकार के एक वरिष्ठ अफसर ने नाम न देने की शर्त पर कहा -कोवलम के लाइट हाउस समुन्द्र तट पर जो पैदल पक्का रास्ता बनवाया गया है उसके चलते अतिक्रमण रुक गया है क्योकि कोई भी इस रास्ते को पर कर समुंद्र तट पर नहीं जा सकता वर्ना कई निर्माण तो लहरों के किनारे हो जाता .उन्होंने भी माना कि इस समुन्द्र तट पर बहुत ज्यादा अतिक्रमण कुछ सालों में हुआ है जो तटीय नियम कायदों का सीधा उलंघन है ।तमिलनाडु के सामाजिक कर्यकर्ता प्रदीप कुमार ने कहा - तमिलनाडु के मुकाबले केरल में तटीय नियम कानून का जमकर उलंघन किया जा रहा है जिसका सबसे महत्वपूर्ण उदाहरण कोवलम के समुंद्र तट है जहाँ पचास मीटर की दूरी पर निर्माण मिल जाएगा .दूसरी तरफ तमिलनाडु में चाहे मैरिना बीच हो या कोई अन्य बीच सभी जगह पांच सौ मीटर तक किसी भी तरह का निर्माण न करने का नियम कड़ाई से लागू है .केरल में जो हो रहा है वह खतरनाक भी है सौ मीटर पर बने होटल और रिसार्ट खतरनाक है .कभी भी कोई सुनामी आई तो बड़े पैमाने पर जान माल का नुकसान हो सकता है .

कोवलम में रात होते ही तट पर माहौल रंगीन हो जाता है .तट सी लगी हुई सड़क रौशनी में डूब जाती है तो समुन्द्र की तरफ खुले हुए रेस्तरां आबाद हो जाते है ।हर रेस्तरां के सामने समुंद्री जीवों का छोटा सा बाजार खुल जाता है जिसमे तरह तरह की मछलियाँ ,झींगे ,केकड़े ,लोबस्टर आदि होते है जिन्हें देखकर सैलानी अपना आर्डर देते है .यह विदेशों में तो लोकप्रिय है ही अब देश में भी शुरू हो गया है .हर रेस्तरां में अंग्रेजी संगीत के साथ मदिरा का दौर शुरू हो जाता है जिसके चलते कई पर्यटक ग्लास लेकर समुंद्री लहरों के सामने ही बैठ जातें है .नौजवानों का समूह ऐसे में रेत पर ही अपनी महफ़िल सजा लेता है.कोवलम क इस तट पर काफी देर तक सैलानी जमे रहते है .

२९ जनवरी २०१२ को जनसत्ता में प्रकाशित लेख 

फोटो -अंबर कुमार


Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :