जवानो के मतदान पर उठा सवाल ,शिकायत करेंगे विवेक तन्खा

दुनिया के सबसे बड़े कोविड टीकाकरण की शुरुआत पत्रकार पर भड़के नीतीश कुमार डिंपल यादव का जन्म दिन मनाया गया हिंदुत्व का नया चेहरा बनते योगी ! किसानों के समर्थन में उतरी कांग्रेस अमेरिकी पार्लियामेंट पर हमला और भारत बर्फ़ पर गाड़ी और याद आई नानी ! तितलियों का काम भी हम ही करेंगे ? किसान कानून-खतरे में सुप्रीम कोर्ट की साख डेमोक्रेटिक पार्टी ट्विटर, फ़ेसबुक के सामने बौनी पड़ गई ! ब्लू लैगून की ब्रुक शील्ड्स याद है ? मध्य प्रदेश में ये क्या हो रहा है ? आज खिचड़ी है लूसी कुरियन परिचय की मोहताज नहीं वूमेन हेल्पलाइन को बंद करने पर सरकार से जवाब तलब रूपेश सिंह हत्याकांड पर सीएम नीतीश सख्त महान दल समाजवादी पार्टी के साथ कभी छुपा कर पढ़ते थे कुशवाहा कांत की किताबें समाजवादी युवा घेरा कार्यक्रम आयोजित हुआ बेतिया माडल के चर्चे

जवानो के मतदान पर उठा सवाल ,शिकायत करेंगे विवेक तन्खा

पंकज चतुर्वेदी 

नई दिल्ली . मध्य प्रदेश में जबलपुर के कैंट क्षेत्र में सेना के जवानों द्वारा किया गया मतदान विवादों में घिरता दिख रहा है. मामले में कांग्रेस प्रत्याशी और अधिवक्ता विवेक तन्खा ने जबलपुर मे अस्थाई तौर पर निवास करने आए सैनिको के वोटर आईडी कार्ड बनाए जाने की प्रक्रिया पर सवाल उठाए हैं.


दरअसल, विवेक तन्खा ने प्रकिया पर वोटर रजिस्ट्रेशन एक्ट के उल्लंघन का आरोप लगाया है. और सेना के वरिष्ट अधिकारियों पर बीजेपी के साथ सांठगांठ करने का भी आरोप लगाया. तन्खा के अनुसार उन्होंने उन साक्ष्यों को भी इकठ्ठा किया है जिसमें सेना के वाहन का उपयोग कर सैनिकों को मतदान केंद्रों तक ले जाकर वोटिंग कराई गई है. तन्खा का कहना है कि इसकी शिकायत वे निर्वाचन आयोग से करेंगे और जरूरत पड़ने पर अदालत का दरवाजा भी खटखटाएंगे.


भारतीय सेना ने आरोप लगाया है कि कुछ लोग सोशल मीडिया पर सेना के जवानों पर फर्जी वोटिंग करने का आरोप लगा रहे हैं। जिससे भारतीय सेना की बदनामी हो रही है और सेना की छवि धूमिल हो रही है. भारतीय सेना का आरोप है कि जबलपुर के केंट क्षेत्र के पोलिंग बूथ में तैयार किये गए इस वीडियो में सेना के जवानों को गलत ढंग से पेश किया गया है. उन्हें किसी पार्टी का कार्यकर्ता बताया जा रहा है जो कि पूरी तरह से गलत है। भारतीय सेना के जवानों के द्वारा ऐसा कोई भी काम नहीं किया गया है. केंट थाना में भारतीय सेना के अधिकारियों ने एक लिखित शिकायत दी है और सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो को जारी करने वालों के खिलाफ कार्यवाही करने का निवेदन किया गया है. जबलपुर एसपी निमिष अग्रवाल ने सेना के इस आवेदन पर अपनी जांच प्रारंभ कर दी है और ऐसे भड़काने वाले वीडियो वायरल करने वालों को जल्द गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया है.


स्थानीय लोगों ने सेना के जवानों के द्वारा वोटिंग करने पर जताई थी आपत्ति


मामला कुछ यूं है कि 29 अप्रैल को जबलपुर संसदीय सीट के लिए मतदान हुआ था.इस दिन केंट क्षेत्र के एक पोलिंग बूथ पर सेना के जवानों के द्वारा मतदान किया जा रहा था. मौके पर मौजूद स्थानीय लोगों ने सेना के जवानों के द्वारा वोटिंग किये जाने पर आपत्ति जतायी थी.साथ ही आरोप लगाया था कि जवान खुले तौर पर किसी पार्टी विशेष को वोट देने की बात कह रहे हैं. इस दौरान स्थानीय लोगों और सेना के जवानों के बीच तनाव की स्थिति बन गयी थी, लेकिन मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों ने तुरंत बीच बचाव कर मामले को ख़त्म कर दिया था. यह मामला एक बार फिर तब चर्चा में आया जब इस विवाद का एक वीडियो वायरल हो गया, जिसमें सेना के जवानों पर फर्जी वोटिंग का आरोप लगाया गया .


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :