ताजा खबर
राहुल गांधी अमेठी सीट छोड़ेंगे ? सत्यदेव त्रिपाठी को निपटाने में जुटे राजबब्बर ! एक ढोंगी बाबा के सामने बेबस सरकार डेरा सच्चा सौदा का यह कैसा सफ़र
सबसे लोकप्रिय नेता जसवंत सिंह

 पंकज शुक्ला

नई दिल्ली, अगस्त- भले ही वे पार्टी से निकाल दिए गए हो मगर जसवंत सिंह खास तौर पर अमेरिका में अब भी भाजपा के सबसे लोकप्रिय नेता माने जाते हैं।भाजपा का कोई और ऐसा नेता अटल बिहारी वाजपेयी के अलावा नहीं हैं जिसे अमेरिका सहित सभी महत्वपूर्ण देशों में इतनी पहचान और इज्जत हासिल हो। यह प्रतिष्ठ जसवंत सिंह ने अपने अध्ययन और खास तौर पर इतिहास के अध्ययन से कमाई है। कम लोगों को पता होगा कि जसवंत सिंह आज भी अमेरिका के हावर्ड विश्वविद्यालय के केनेडी स्कूल में भारतीय इतिहास के फैलो हैं और ऑक्सफॉर्ड विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर हैें। नवंबर 2006 में जब वे राज्यसभा में प्रतिपक्ष के नेता थे तब ऑक्सफॉर्ड विश्वविद्यालय के चांसलर क्रिस पैटन ने दिल्ली आ कर उनसे अपना ज्ञान ऑक्सफॉर्ड के छात्रों के बीच बांटने का अनुरोध किया था। विश्वविद्यालय के गजट में जसवंत सिंह के सम्मान में दो पन्ने का लेख हैं। जसवंत सिंह आस्ट्रिया और स्विटजरलैंड दोनों देशों में सुरक्षा सलाहकार समितियों के आमंत्रित सदस्य के तौर पर शामिल हैें। उतना ही नहीं हावर्ड विश्वविद्यालय में जब उनका नाम प्रचारित हुआ तो अमेरिका की स्टेैंडफोर्ड, प्रिस्टर्न, टफ्ट्स और बकर्ले विश्वविद्यालयों में भी उन्हें कई बार व्याख्यान देने के लिए बुलाया। अमेरिका में एतिहासिक अध्ययन और पुस्तकें लिखना राजनैतिक लोगों के लिए नई बात नहीं हैं मगर भारत में जसवंत सिंह को एक सच कहना भारी पड़ गया। हाल में ही जसवंत सिंह जब अमेरिका गए थे तो वहां के प्रतिष्ठित इंडियाना विश्वविद्यालय ने उन्हें सम्मानित किया था और शहर के सबसे बड़े होटल के सबसे महंगे कमरे में ठहराया था मगर जसवंत सिंह को शाही तामझाम पसंद नहीं आया और वे थोड़ी दूर एक सरायनुमा होटल में रहने चले गए। पिछले दो वर्षों में विदेशों से आए व्याख्यान के 20 निमंत्रण तो उन्होंने अपनी राजनैतिक व्यस्तताओं के कारण ठुकरा दिए। इनमें से सबसे प्रमुख लंदन के इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्टे्रटजिक स्टडीज लंदन और आस्टे्रलिया के सबसे बड़े विश्वविद्यालय से आया था। आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री केबीन रड ने तो उन्हें खुद फोन कर के आमंत्रित किया था। इतना ही नहीं जब संयुक्त राष्ट्र के पिछले महासचिव कॉफी अन्नान रिटायर होने वाले थे और उनका उत्तराधिकारी चुना जाना था तो अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने जसवंत सिंह से फोन कर के पूछा था कि क्या संयुक्त राष्ट्र का महासचिव बनने में उनकी कोई रुचि हैं? जसवंत सिंह ने उस समय भी कहा था कि अगर वे भारतीय शशि थरूर को समर्थन दे सके तो इससे भारत की प्रतिष्ठा बढ़ेगी। शशि थरूर काफी कुछ वामपंथी विचारों के लिए जाने जाते हैं और इसीलिए अमेरिका ने उनका समर्थन नहीं किया। अब शशि थरूर भारत के विदेश राज्य मंत्री हैं।

email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.