ताजा खबर
दो रोटी और एक गिलास पानी ! इस जुगलबंदी का कोई तोड़ नहीं ! यह दौर है बंदी और छंटनी का मंत्री की पत्नी ने जंगल की जमीन पर बनाया रिसार्ट !
बदल गई अमदाबाद की हवा

 गांधीनगर. देश के प्रदूषित शहरों की सूची में अमदाबाद का 75 वां स्थान है जबकि एक साल पहले यह 66वें स्थान पर था। केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड द्वारा हाल ही में कराए गए सर्वेक्षण के अनुसार पिछवे नौ सालों में वायु प्रदूषण कम करने में अमदाबाद सफल रहा है।

केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड द्वारा देश के 85 शहरों में वायु प्रदूषण की निगरानी रखी जाती है। वर्ष 2001 में प्रदूषित शहरों की सूची में अमदाबाद का नंबर चौथा था लेकिन प्रदूषण कम करने के लिए उठाए गए कारगर कदमों के कारण वर्ष 2005 में 13वां,2006 में 43 और 2007 में 66 वे स्थान पर पहुंच गया । हाल की रिपोर्ट में प्रदूषित शहरों की सूची में 75वें स्थान पर पहुंच गया है।
भूरेलाल समिति के नाम से मशहूर एनवायर्नमेंट पोलुशन एथॉरिटी ने अमदाबाद में प्रदूषण कम करने की दिशा में उठाए गए कदमों की सराहना की है। बोर्ड की रिपोर्ट में कहा गया है कि अमदाबाद में सस्पेंडेड पार्टिक्यूलेट मैटर्स और रिस्पिरेबल सस्पेंडेड पॉर्टिक्यूलेट मैटर्स घटाने के कारण यह संभव हो सका है।
वर्ष 2001 में एंबियंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग का परिणाम 198 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर था जो वर्ष 2008 में घटकर 80 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर हो गया। वर्ष 2009 में वह 75 के करीब रहा है। अहमदाबाद में 14 मॉनिटरिंग स्टेशनों से वायु की गुणवत्ता की निगरानी की जाती है। मानक के तौर पर सल्फर डाय-ऑक्साइड और ऑक्साइड ऑफ नाइट्रोजन की मात्र जानी जाती है।
कैसे घटा वायु प्रदूषण
शहर में 75 सीएनजी स्टेशन।
566 बसें सीएनजी।
गांधीनगर की 155 बसें सीएनजी।
44000 रिक्शे सीएनजी किए गए।
जांच के लिए 125 पीयूसी स्टेशन।
258 उद्योगों में नेचुरल गैस।
बीआरटीएस का अमल।
ब्रिज और मार्गो का चौड़ीकरण।
सॉलिड वेस्ट का उचित निकाल।
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण Dainik Bhaskar
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.