ताजा खबर
बिगड़े जदयू-राजद के रिश्ते नीतीश ने क्यों बनायी अखिलेश से दूरी ! पूर्वांचल में तो डगमगा रही है भाजपा सीएम नहीं तो पीएम बनेंगे !
बंद नही होगा ओबामा का विमान

 अभिषेक रावत

नई दिल्ली.अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की भारत यात्रा के दौरान उनका अत्याधुनिक विमान एयरफोर्स वन पर दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर दो दिन में ही लगभग 146 करोड़ रुपए का इंधन खर्च हो जाएगा। दुनिया में एयर टरबाइन फ्यूल (एटीएफ, विमान ईंधन) के आसमान छूते दामों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा का विशेष विमान एयरफोर्स वन का एक इंजन भारत दौरे के दौरान चौबीसों घंटे चालू रखा जाएगा।
खुफिया एजेंसियों के सूत्रों के मुताबिक अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे के मद्देनजर अमेरिकी खुफिया एजेंसियां उनकी सुरक्षा को लेकर किसी प्रकार का कोई खतरा नहीं उठाना चाहती हैं। यही कारण है कि जिस अत्याधुनिक विमान एयरफोर्स वन में सवार होकर ओबामा भारत आएंगे, उसका एक इंजन हमेशा इस लिए चालू रखा जाएगा।
हर आशंकित खतरे को ध्यान में रखते हुए अमेरिकी खुफिया एजेंसियां ऐसा कदम उठाएंगी। इस विमान के इंजन को 24 घंटे चालू रखने में लगभग 7३ करोड़ रुपए का विमान ईंधन खर्च हो जाएगा। इस हिसाब से विमान इंजन के 48 घंटे स्टार्ट रहने पर लगभग 146 करोड़ का ईंधन खर्च होगा।
ओबामा के इस विशेष विमान के लिए आईजीआई एयरपोर्ट पर बकायदा एक सुरक्षित स्थान को चिन्हित किया गया है, जहां इसे रखा जाएगा। उस स्थान की निगरानी व देखरेख की जिम्मेदारी अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों के हवाले रहेगी। भारतीय सुरक्षा एजेंसियां सिर्फ बाहरी घेरे में ही तैनात रहेंगी और अमेरिकी खुफिया अधिकारियों के दिशा-निर्देश पर ही काम करेंगी।
आईजीआई एयरपोर्ट के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इंजन के 24 घंटे चालू रहने के दौरान विमान में पायलट व को-पायलट के साथ अन्य टेक्निकल स्टाफ भी तैनात रहता है। एयरफोर्स वन विमान में एक घंटे में लगभग 68,000 अमेरिकी डॉलर की ईंधन की खपत हो जाती है। बताते चलें कि विमान ईंधन के दाम वर्ष 2002 के बाद लगभग 20 प्रतिशत बढ़ चुके हैं।
अत्याधुनिक है एयर फोर्स वन
अमेरिकी राष्ट्रपति को सुरक्षित ले जाने के लिए एयरफोर्स वन विमान को खास तौर से बनाया गया है। इसका इस्तेमाल 1953 के बाद से एयरफोर्स वन को रूप दिया गया। इस विमान की खासियत इसकी संचार प्रणाली है, जिसका नेटवर्क किसी भी परिस्थिति में फेल नहीं हो सकता।
इस विमान में राष्ट्रपति का ऑफिस, उनके रहने की जगह, कान्फ्रेन्स रूम आदि की भी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा, उनका स्टाफ और उसका ऑफिस तथा पत्रकारों के लिए भी व्यवस्था की गई है।
एक तरीके से यह सिर्फ एक विमान नहीं, बल्कि चलता-फिरता अमेरिकी रास्ट्रपति का ऑफिस व घर है। इस विमान तमाम तरीके की अत्याधुनिक संचार व बचाव प्रणाली लगाई गई है। एक बार ईंधन भरने के बाद यह विमान आधी दुनिया का चक्कर लगा सकता है।
 
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण Dainik Bhaskar
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.