ताजा खबर
एनडीटीवी को घेरने की कोशिशे और तेज वे भी लड़ाई के लिए तैयार है ! छात्र नेताओं को जेल में यातना ! मेधा पाटकर और सुनीलम गिरफ्तार !
आदर्श में तो गडकरी भी

नई दिल्‍ली. केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए. राजा को मंत्रिमंडल से निकाल बाहर करने के लिए शुरू हुई विपक्ष की मुहिम बुधवार को और तेज हो गई। लोकसभा में इस मांग को लेकर जहां विपक्ष ने हंगामा किया, वहीं तमिलनाडु में राजा की विरोधी एआईएडीएमके अध्‍यक्ष जे. जयललिता ने भी इसके लिए मुहिम छेड़ दी है। उधर,
अशोक चव्हाण और कलमाड़ी के इस्तीफे से तिलमिलाई कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष नितिन गडकरी के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए गडकरी पर आदर्श सोसाइटी में दूसरे के नाम से फ्लैट खरीदने का आरोप लगाया है। कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष तिवारी ने आरोप लगाते हुए कहा है कि अजय संचेती और नितिन गडकरी ने संचेती के नाम पर मुंबई के कोलाबा इलाके में मौजूद आदर्श हाउसिंग सोसाइटी में फ्लैट लिया है। यह सोसाइटी शहीद सैनिकों के परिजनों या अदम्‍य वीरता दिखाने वाले सैनिकों को रिहाइश देने के नाम पर बनी है। पर इसमें कई नेताओं, अफसरों और पूर्व सेनाध्‍यक्षों ने भी फ्लैट ले रखे हैं।
मनीष तिवारी ने यह आरोप भी लगाया कि गडकरी और संचेती की मिलीभगत के चलते झारखंड में शिबू सोरेन की सरकार गई थी। वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता ने सुधांशु मित्तल के साथ नितिन गडकरी की सांठगांठ होने का आरोप लगाया है। कॉमनवेल्थ खेलों में कथित तौर पर हुए घपलों में बीजेपी के नेता सुधांशु मित्तल का नाम आया था।
अजय संचेती भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य हैं। संचेती के बारे में कहा जाता है कि वह बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी के करीबी हैं। नागपुर की कंस्ट्रक्शन कंपनी एसएमएस इन्फ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के मालिक अजय संचेती के ड्राइवर सुधाकर मडके के नाम आदर्श हाउसिंग सोसाइटी में एक फ्लैट है। 50 साल के मडके को उनकी कम आय के आधार पर फ्लैट का आवंटित किया गया था। लेकिन संचेती के विरोधियों का मानना है कि इस फ्लैट पर अप्रत्यक्ष रूप से कब्जा नितिन गडकरी का ही है। अजय पर यह आरोप भी है कि उन्होंने झारखंड में झारखंड मुक्ति मोर्चा और बीजेपी की सरकार बनवाने में अहम भूमिका निभाई थी। हालांकि, बीजेपी इस आरोप का जोरदार खंडन कर चुकी है।  
उधर, लोकसभा में संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन, बुधवार को भी विपक्षी नेताओं ने सरकार से वही पुराना सवाल पूछा कि राजा को क्‍यों छोड़ा जा रहा है। विपक्ष ने सदन में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर तत्‍काल चर्चा की मांग की और तमाम घोटालों की जांच के लिए संयुक्‍त संसदीय समिति बनाने के लिए कहा। इस पर हुए हंगामे के चलते सदन की कार्यवाही रोकनी पड़ी।
राजा पर 2जी स्‍पेक्‍ट्रम आवंटन में धांधली के चलते सरकारी खजाने को 1.7 लाख करोड़ रुपये की चपत लगाने का आरोप है। नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने 2008 में सस्‍ते में 2जी स्‍पेक्‍ट्रम बेचने के लिए निजी तौर पर राजा को जिम्‍मेदार बताया है। सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि राजा ने प्रधानमंत्री और कानून व वित्‍त मंत्रालयों की सलाह की अनदेखी करते हुए चुनिंदा कंपनियों को औने-पौने दाम पर 2जी स्‍पेक्‍ट्रम के लाइसेंस बेच दिए। राजा ने दूरसंचार आयोग की सिफारिशों की भी अनदेखी की। सीएजी के मुताबिक जनवरी 2008 में जो 122 नए लाइसेंस जारी किए गए, उनमें से कम से कम 85 लाइसेंस उन 12 कंपनियों को बेचे गए जो पैमाने पर खरी नहीं उतरती थीं। सीएजी विनोद राय ने एक निजी टीवी चैनल से कहा, '2जी स्‍पेक्‍ट्रम घोटाला बेहद गंभीर है।'विपक्ष सीडब्‍लयूजी और आदर्श हाउसिंग सोसायटी घोटाले के लिए भी सरकार को निशाने पर ले रहा है। पर इन दो घोटालों में नाम आने के बाद कांग्रेस ने अशोक चव्‍हाण और सुरेश कलमाड़ी को क्रमश: महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस संसदीय दल के सचिव पद से हटा दिया है। लेकिन राजा के खिलाफ कांग्रेस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।
डीएमके नेता राजा की बर्खास्‍तगी के लिए बुधवार को जयललिता भी मैदान में आ गईं। उन्‍होंने तमिलनाडु की जनता से अपील की कि वे एक लाइन का टेलीग्राम भेज कर राष्‍ट्रपति से राजा को हटाने की मांग करें। उन्‍होंने कहा कि राजा को तत्‍काल बर्खास्‍त किया जाना चाहिए। लेकिन डीएमके नेता करुणानिधि ने साफ कह दिया है कि पार्टी नैतिक आधार पर राजा को इस्‍तीफा देने के लिए नहीं कहेगी।

 

email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण Dainik Bhaskar
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.