ताजा खबर
माणिक सरकार का प्रतिबंधित भाषण 'जो अंग्रेजों का साथ दे रहे थे वे राष्ट्रवादी हो गए ' अखिलेश की गिरफ़्तारी , सड़क पर समाजवादी अडानी को लेकर ' द गॉर्डियन ' का धमाका !
सबुज रंग छीट मगाय द....
 चंचल 
            आज भावना मिलने आयी थी . हम लोग जब भी मिलते हैं खाने बनाने पर उलझे रहते हैं . आज विषय बदल गया . छीट पर चला गया . भावना को नहीं मालुम की छीट क्या है . सहज और सरल तरीके से हमने बताया कि यह अक्टूबर महीना है बापू का जन्मदिन चल रहा है .खादी पर छूट होगी . वहाँ खादी की छीट खरीदो और खुद सिलो . 'मै सिलूं ? पूरी जोकर लगूंगी ' तो क्या हुआ कुछ तो लगोगी . देखिये क्या होता है . 
        बहुत सारी महिलायें हमारी दोस्त हैं .वो किसी भी उम्र की हों इससे कोइ मतलब नहीं . इनमे से कईयों के पास कमाल का जज्बा है . उनसे कहता हूँ चलिए इस महीने खादी की छीट पर आइये . साड़ी ,कुर्ती .ब्लाउज .दुपट्टा आदि आदि . खरीदिए और पहन कर ब कायदे सड़क पर उतारिये . बिंदास . दीजिए चुनौती उन घरानों को जो देश को लूट रहे हैं . अखबार के पन्नों और डब्बे के लिपेपुते चेहरों को जो झूठ बोल कर 'सिंथेटिक कपड़ों' का विज्ञापन करते हैं . अपनी जेब भरते हैं और सौकीन मिजाज लोगों के 'स्किन ' को बर्बाद करते हैं . खादी में स्वाभिमान है उस स्वाभिमान को राष्ट्रीय चरित्र बनाने हमें गर्व होगा . खादी से जुड़े चौवालीस लाख परिवार के हाथ मजबूत होंगे . यह एक घराने की बपौती नहीं है . इस तरह हम छोटी -छोटी चीजों को उठा कर खुद में स्वाभिमान और राष्ट्र को समर्थवान बना सकते हैं . 
        एक दिन किसी अति 'बड़ी पार्टी ' में जहां एक से बढ़ कर एक प्रदर्शन होते हैं वहाँ खादी के 'रफ त्रेक्चार 'के साथ अपने खादी लिबास में  पहुंचिए . .... यह पार्टी के 'एथिक 'में ' इरर ' होगा . यहीं न ? खादी कहता है -'इरर इज आवर ब्यूटी ' 
     भावना ने पूछा -ते छीट होता क्या है ? हमने कहा रुको ,और हमने 'कादम्बनी ' का वह नया अंक उसे सौंप दिया जिसे हमारे मित्र राजीव कटारा ने हमें दिया था . उसके आख़िरी पन्ने पर हमारे 'पुराने ' मित्र इब्बार रब्बी ने छीट पर लिखा है . और जो उन्होंने नहीं लिखा उसे हम बता रहे हैं . छीट हमारा इतिहास है . सौंदर्यबोध का अदभुत उदाहरण . भारत कापसे बुनता था , उस पर छपाई करता था . उस छपाई को छीट कहते थे वह छीट सारी दुनिया में व्यापार देती रही . हम खुशहाल रहे . इसे अंग्रेजों ने तबाह किया . हमें सेंथेटिक की तरफ ले गए .गांधी जी ने उसका जवाब दिया . आज वो हथियार आपके हाथ में है .उसे उठा कर चलिए न दो कदम.  
 
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.