ताजा खबर
घर की देहरी लांघ स्टार प्रचारक बन गई डिंपल वह बेजान है और हम जानदार हैं ' मुलायम के लोग ' चले गए ! बिगड़े जदयू-राजद के रिश्ते
चली गईं रेशमा....

जयप्रकाश मानस 

पाकिस्तान की लोक गायिका रेशमा का निधन हो गया है। लोक गीतों के अलावा वो भारत में फ़िल्म 'हीरो' के 'लंबी जुदाई' गीत के लिए खास तौर से जानी जाती रही हैं । वो लंबे समय से गले के कैंसर से पीड़ित थीं। उन्होंने लाहौर के अस्पताल में रविवार की सुबह आखिरी सांस ली ।
राजस्थान के बीकानेर में जन्मी रेशमा एक बंजारा परिवार से संबंध रखती थीं और 1947 में विभाजन के समय उनका परिवार पाकिस्तान चला गया था। रेशमा पाकिस्तान के सबसे मशहूर लोक गायकों में से एक रही हैं। वो 1960 के दशक से ही पाकिस्तान टीवी पर गाने लगी थीं। इसके अलावा भारतीय फिल्मों में भी उनकी आवाज़ इस्तेमाल की गई।
उन्होंने देश विदेश में भी कई शो किए। उन्हें पाकिस्तान में तीसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान 'सितारा-ए-इम्तियाज़' से भी नवाज़ा गया था। पंजाबी लोक संगीत का बड़ा नाम रहीं रेशमा ने कई मशहूर गाने गाए जो पाकिस्तान के साथ-साथ भारत में भी मशहूर हैं। उनकी आवाज़ में "दमा दम मस्त कलंदर", "हाय ओ रब्बा नईओ लगदा दिल मेरा" और "अंखियां नू रहण दे" जैसे गाने लोगों की जुबान पर चढ़ गए। भारतीय फ़िल्मकार राज कपूर ने तो फिल्म बॉबी में "अंखियां नू रहण दे" की तर्ज़ का इस्तेमाल करते हुए लता मंगेशकर से "अंखियों को रहने दे अंखियों के आस-पास" गाना गंवाया।बॉलीवुड फ़िल्म 'हीरो' में उनका गाया 'लंबी जुदाई' बेहद मशहूर हुआ था।
 
email ईमेल करें Print प्रिंट संस्करण
  • जहां पत्रकारिता एक आदर्श है
  • जहां आये कामयाब आये
  • नामवर की नियति
  • चिड़िया ते बाज तुड़वाऊं?
  • प्रभाष जोशी और इंडियन एक्सप्रेस परिवार
  • एक ऋषि की यात्रा का अंत
  • असली मैदान तो यूपी बनेगा
  • राजकाज
  • भगतों की चांदी है
  • मेरठ के बांके!
  • बाबरी विध्वंस की आयी याद
  • इतिहास में उपेक्षित तिलका मांझी
  • आखिरी पड़ाव गोमोह जंक्शन
  • संगम के अखाड़े में लेफ्ट-राइट
  • एक थे लोकबंधु राजनारायण
  • अपनी जमीन ही नसीब हुई
  • रवीश के सामाजिक सरोकार
  • गिरोह क्यों कहते हैं
  • ई राजेंद्र चौधरी कौन है ?
  • मीडिया में धूमते चेहरे
  • Post your comments
    Copyright @ 2016 All Right Reserved By Janadesh
    Designed and Maintened by eMag Technologies Pvt. Ltd.