जनादेश

जब तक जिए शान से जिये चन्द्रशेखर असली समस्या तो बुद्धि है सादगी में मुस्कुराता चेहरा यानी चंद्रशेखर गांव ,गरीब और पेड़ के लिए सत्याग्रह गुजर जाना एक दरख्त का जोमैटो में चीन का निवेश रुका कोई क्यों बनती है आयुषी क्या समय पर हो जाएगा वैक्सीन का ट्रायल हरफनमौला पत्रकार की तलाश काफ़्का और वह बच्ची ! कोरोना ने चर्च भी बंद कराया सरकार अपनी जिम्मेदारियों से क्यों भाग रही है? वसूली का दबाव अलोकतांत्रिक विपक्षी दलों ने कहा ,राजधर्म का पालन हो पुर्तगाल ,गोवा और आजादी कब शुरू हुई बाबाओं की अंधविश्वास फ़ैक्ट्री कोरोना से बाल बाल बचे नीतीश आंदोलनकारी या अतिक्रमणकारी ओली के बाद प्रचंड की भी राह आसान नही खामोश हो गई सितारों को उंगली से नचाने वाली आवाज

उपेक्षा से हुई मौतों का विरोध

आलोक कुमार

पटना. भोजन का अधिकार अभियान (बिहार) के द्वारा सबको राशन,सबको पेंशन और सबको काम,सबको पोषण की मांग को लेकर नेशनल एक्शन डे पर सरकार की उपेक्षा से हुई मौतों पर 1 जून को राष्ट्रीय शोक दिवस पर 2 मिनट का मौन सत्याग्रह करने का निश्चिय किया है.

भोजन का अधिकार अभियान ( बिहार) का मानना है कि सरकार के द्वारा कोविड-19 के संक्रमण के रोकथाम के नाम पर आनन-फानन में देशव्यापी लाॅकडाउन किया गया.बिना किसी पूर्व तैयारी के लिए किए गए लाॅकडाउन के कारण देश भर में अफरा-तफरी का माहौल बना. सरकार द्वारा कई हफ्तों तक अनिर्णय की स्थिति बनी रही, मानव संसाधन और समुचित दिशानिर्देश के अभाव में आम लोग, बच्चे , बूढ़े, मजदूर,छात्र, गर्भवती महिलाएं,छोटे बच्चों वाली माताएं, बीमार, विकलांग आदि अपने संसाधनों से किसी तरह घर पहुंचने के लिए सड़कों पर निकल गए. इनके लिए संसाधनों व सुविधाओं और राहत की व्यवस्था की जगह उनके साथ अमानवीय बर्ताव किया गया. स्थानीय प्रशासन व पुलिस द्वारा लगातार मजदूरों के साथ मारपीट, आधे रास्ते से वापस भेजने, मजदूरों का सामूहिक सैनिटाइज (सभी मजदूरों को हानिकारक केमिकल से नहलाना) आदि किया गया.सरकार की अमानवीय रवैये से 22 मई तक देश भर में 667 मौते हुयी जिनका कारण कोविड-19 संक्रमण नहीं है बल्कि सड़क दुर्घटना 205, भूख और लाॅकडाउन से 114 मौते हुई. इसके अलावा पश्चिम बंगाल और उड़ीसा में आए चक्रवात ने दोहरा कहर बरसाया है. इन परिस्थितियों में केंद्रीय सरकार का रवैया ढुलमुल और संवेदहीन है.

इन उपेक्षापूर्ण मौत के आलोक में 01 जून को सुबह 10 बजे से 11 बजे के बीच राष्ट्रीय शोक दिवस पर 2 मिनट का मौन सत्याग्रह का आयोजन किया जा रहा है. बताया गया कि छोटे-छोटे समूह में सुरक्षित दूरी का ध्यान रखते हुए काली पट्टी बांध कर अपनी सहानुभूति दर्ज करेंगे.

सत्याग्रह स्थल है रेडियों स्टेशन,फेजर रोड,पटना के पास, कुल्हाड़िया काम्पलेक्स, अशोक राजपथ,पटना विशाल मेगामार्ट के सामने,ककड़बाग,पटना, दुजरा,राजापुर,पटना, अभियान कार्यालय के नजदीक, आदिवासी काॅलोनी,गुलजारबाग,पटना, इस्लामिया स्कूल, फुलवारी शरीफ,पटना, डाकबंगला चैराहा,पटना, बौली, पश्चिम दरवाजा के पास,पटना सिटी, बगेड़ा आश्रम, कुर्जी,पटना, कम्युनिटी हाॅल,लोहानीपुर,पटना, कौशल नगर, चितकोहरा,पटना, ड्राइवर काॅलोनी,अदालगंज, पी.एफ.आॅफिस, आर ब्लाॅक, धमगढ़,यारपुर मेस्तरपाड़ा,तारामंडल स्कूल के पास, गौसनगर,साइंस काॅलेज,अशोक राजपथ,पटना और पुलिस चौकी,यारपुर डोमखाना. इन स्थानों में सम्र्पक व्यक्ति को पदस्थापित किया गया है.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :