पार्षदों को डेढ़ साल से मासिक भत्ता नहीं मिला

क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी कोरोना के दौर में राजनीति भी बदल गई बिशप फेलिक्स टोप्पो ने सीएम को लिखा पत्र राफेल पर सीएजी ने तो सवाल उठा ही दिया हरिवंश कथा और संसदीय व्यथा राष्ट्रव्यापी मजदूरों के प्रतिवाद में हुए कार्यक्रम समाज के राजनीतिकरण पर जोर देना होगा

पार्षदों को डेढ़ साल से मासिक भत्ता नहीं मिला


आलोक कुमार
पटना.पटना नगर निगम के वार्ड नम्बर-27 की वार्ड पार्षद रानी कुमारी ने कहा कि 75 वार्ड पार्षदों को डेढ़ साल से मासिक भत्ता नहीं मिल रहा है.इसके कारण पार्षद परेशान हैं.मालूम हो कि पटना नगर निगम में 75 निगम पार्षद हैं.वार्ड 1- छठिया देवी,वार्ड 2- मधु चौरसिया, वार्ड 3- प्रभा देवी,वार्ड 4- पानपति देवी, वार्ड 5- दीपा रानी खान, वार्ड 6- धनराज देवी, वार्ड 7- जय प्रकाश साहनी, वार्ड 8- रीता रानी, वार्ड 9- अभिषेक कुमार, वार्ड 10- गीता देवी, वार्ड 11- रवि प्रकाश, वार्ड 12- सविता सिन्हा, वार्ड 13- जीत कुमार, वार्ड 14- श्वेता राय, वार्ड 15- उर्मिला सिंह, वार्ड 16- जय प्रकाश सिंह, वार्ड 17- मीरा कुमारी, वार्ड 18- रंजन कुमार, वार्ड 19- शारदा देवी, वार्ड 20- सीमा सिंह, वार्ड 21- पिंकी कुमारी उर्फ़ पिंकी देवी, वार्ड 22- अनीता देवी, वार्ड 23- प्रभा देवी, वार्ड 24- ज्ञानवती देवी, वार्ड 25- , वार्ड 26- बिंदा देवी उर्फ़ विद्यापति देवी, वार्ड 27- रानी कुमारी, वार्ड 28- विनय कुमार, वार्ड 29- रंजीत कुमार, वार्ड 30- कावेरी सिंह, वार्ड 31- रानी सिन्हा, वार्ड 32- , वार्ड 33- शीला देवी, वार्ड 34- कुमार संजीत, वार्ड 35- राज कुमार गुप्ता, वार्ड 36- दीपक कुमार, वार्ड 37- संजीव आनंद, वार्ड 38- आशीष कुमार सिन्हा, वार्ड 39- भारती देवी, वार्ड 40- असफर अहमद, वार्ड 41- कंचन देवी, वार्ड 42- कैलाश प्रसाद यादव, वार्ड 43- प्रमिला वर्मा, वार्ड 44- माला सिन्हा, वार्ड 45- प्रभा देवी, वार्ड 46- पुनम शर्मा, वार्ड 47- सतीश कुमार, वार्ड 48- इन्द्रदीप कुमार चंद्रवंशी, वार्ड 49- सीमा वर्मा, वार्ड 50- आरजू, वार्ड 51- विनोद कुमार, वार्ड 52- महजवीं, वार्ड 53- किरण मेहता,वार्ड 54- अरुण शर्मा, वार्ड 55- कंचन कुमार, वार्ड 56- किसमती देवी, वार्ड 57- स्मिता रानी, वार्ड 58- सीता साहू, वार्ड 59- नीलम कुमारी, वार्ड 60- शोभा देवी, वार्ड 61- उषा देवी, वार्ड 62- तारा देवी, वार्ड 63- आनन्द मोहन कुमार, वार्ड 64- अवदा कुरैशी, वार्ड 65- तरुणा राय,वार्ड 66- कान्ति देवी, वार्ड 67- मनोज कुमार, वार्ड 68- सुनीता देवी, वार्ड 69- विकाश कुमार, वार्ड 70- विनोद कुमार, वार्ड 71- रेणु देवी, वार्ड 72- मीरा देवी,73-वार्ड 22A-दिनेश कुमार, 74- वार्ड 22B- सुचित्रा सिंह और 75- वार्ड 22C- रजनी देवी हैं.
यह कोरा सच है कि इन निगम पार्षदों के रहते हुए भी पटना मे भले ही साफ-सफाई की स्थिति ठीक नहीं हो. लेकिन ये जन प्रतिनिधि निगम की व्यवस्था पटरी पर लाने की बजाए अपनी भत्ता बढ़ाने मे जुटे रहते हैं. अब तो डेढ़ साल से निगम पार्षदों को भत्ता नहीं मिलने से उदासीन हैं.
निगम पार्षद रानी कुमारी ने कहा कि पटना नगर निगम ने मेयर, उप मेयर और पार्षदों के भत्ता में भारी इजाफा करने का प्रस्ताव पास कर दिया है. अब बढ़े हुए प्रस्ताव के अनुमोदन के लिए राज्य सरकार के पास भेजा जाएगा.पटना नगर निगम की स्थायी समिति की बैठक मे इस प्रस्ताव पर मुहर लग गयी. बैठक में मेयर को 50 हजार रूपए ,उप मेयर को 40 हजार और पार्षदों को 30 हजार रू भत्ता देनें का प्रस्ताव पास हुआ है.वहीं स्थायी समिति के सदस्यों को 35 हजार भत्ता देने पर सहमति बनी है.

 निकाय प्रतिनिधियों की मांग पर कुछ समय पहले सीएम नीतीश कुमार ने भी नगर विकास विभाग को मेयर,डिप्टी मेयर और पार्षदों के वेतनवृद्धि को लेकर प्रस्ताव बनाने का निर्देश दिया था.बिहार के नगर निगमों के वार्ड पार्षदों को 2500, नगर परिषद के पार्षदों को 1500 और नगर पंचायतों के वार्ड पार्षदों को मानदेय के रूप में हर महीने एक हजार रुपए दिए जाते हैं, जबकि पड़ोसी राज्य झारखंड और छत्तीसगढ़ में मानदेय की रकम बिहार की तुलना में तीन गुणा है. झारखंड में निगम के पार्षद 7000, नगर परिषद के पार्षद 6000 और नगर पंचायत पंचायतों के वार्ड पार्षदों को हर महीने पांच हजार रुपए दिए जाते हैं. वहीं ओडिशा में नगर निगमों में 7500, नगर परिषद में 2500 और नगर पंचायतों के वार्ड पार्षदों को हर महीने 2000 रुपए मिलते हैं. वर्तमान मे बिहार के नगर निगम के मेयर को 12000 हजार रू वेतन भत्ते के रूप में मिलते हैं, जबकि डिप्टीमेयर को 10000 और पार्षदों को 2500 रू मिलते हैं.


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :