जनादेश

दक्षिणपंथी उग्रवाद के उभार पर जताई चिंता कारोबारियों को मार दिया अब कश्मीर में सड़ रहे हैं सेब ! पूरे देश का बेटा है अभिजीत -निर्मला बनर्जी हजरतगंज का यूनिवर्सल ! राजे रजवाड़ों से मुक्त होती यूपी कांग्रेस अल्लामा इकबाल का नाम सुना है साहब ! श्री हरिगोबिंद साहिब का संदेश मोदी सरकार के ‘महत्वाकांक्षी जिलों’ का सच समुद्र तट पर कचरा ! समुद्र तट पर शिल्प का नगर दर्शक बदल रहा है-मनोज बाजपेयी जेपी लोहिया पर कीचड़ उछालने वाले ये हैं कौन ? राष्ट्रवाद की ऐसी रतौंधी में खबर कैसे लिखें ! राजस्थान में गहलोत और पायलट फिर आमने सामने पहाड़ का वह डाकबंगला गठिया से घबराने की जरूरत नहीं-डा कुशवाहा राजकुमार से सन्यासी तक का सफर क्या थी कांशीराम की राजनीति ! अब भाजपा के निशाने पर नीतीश कुमार हैं बीएसएनएल की बोली लगेगी ,जिओ की झोली भरेगी!

पहाड़ की मजबूत आवाज थे शमशेर !

अरुण कुकसाल

अल्मोड़ा .‘आप सबका धन्यवाद, आप आये हैं, और हमारे परिवार को यह अहसास दिला रहे हैं कि शमशेर जी केवल मेरे और मेरे परिवार के ही नहीं वरन् आप-सबके हैं. मैं अभीभूत हूं कि आपने उन्हें जीवनभर स्नेह और सम्मान दिया. आज मुझे शमशेर जी के विचारों की छवि उनके मित्रों में दिख रही है. यह हमारे परिवार के लिए गौरव के क्षण हैं. यह आत्मीय संबध हमेशा बनाए रखना. आप सबका पुनः आभार.’ रेवती भाभी (धर्मपत्नी डाॅ. शमशेर बिष्ट) के संबोधन में शब्दों का संकोच और साहस दोनों है. उनके जीवन पर्यन्त संयम, साहस और सहयोग का ही परिणाम है कि शमशेर हम-सबके आदर्श और प्रेरणाश्रोत्र बने.

रेमजे इंटर कालेज, अल्मोड़ा के सभागार में बैठने की जगह नहीं मिल पाई तो लोग बाहर प्रांगण में बैठे-खड़े हैं. किसी को कोई जल्दी नहीं, वक्त भी जैसे यहां आकर चुपचाप खड़ा, सैकड़ों लोगों की नज़रों के साथ मंच की दीवार पर ‘शमशेर स्मृति !’ के बैनर पर टिक गया है. राजीव दा (राजीवलोचन साह) के संचालन में भावनाओं का अतिरेक उन्हें असज कर रहा है. आज लोग मंच से दिग्गजों को नहीं दोस्तों को सुनने के लिए बेताब हैं. शमशेर बिष्ट के उन साथियों को जो सामाजिक सरोकारों में उनकी ताकत रहे हैं. सभागार में चुप्पी इतनी कि केवल वक्ता और बीच-बीच में कैमरे के क्लिक की आवाज ही सुनाई दे रही है. हाल के बीच की गैलरी में शमशेर दा का आठ वर्षीय पोता अविरल बिष्ट पूरे आत्मविश्वास के साथ व्यवस्थाओं का जायज़ा लेते हुए टहल रहा है. अपने दादाजी डाॅ. शमशेर सिंह बिष्ट जी के ‘स्मृति ! समारोह’ की दायित्वशीलता को निभाते हुए उसकी नजऱ मंच और अतिथियों पर बराबर है. मैं सोचता हूं फिर शमशेर दा कहां गए ? यहीं तो मौजूद हैं ‘अविरल’ में और हम-सबके मन-मस्तिष्क में अविरल प्रवाह की तरह.


महेश जोशी, पी.सी.तिवारी, राजीवलोचन साह, उदय किरौला, तरुण जोशी, अनिल कार्की के सामुहिक स्वरों में गूंजतेे जनगीतों ने बता दिया कि ये समारोह नेता नहीं जननायक की जीवंत स्मृति में है. सामाजिक चिंतक और साहित्यकार कपिलेश भोज की नवीन पुस्तक ‘जननायक डाॅ. शमशेर सिंह बिष्ट’ के लोकार्पण के बाद प्रो. शेखर पाठक के संबोधन से विचारों का प्रवाह आगे बढ़ता है. वे कहते हैं, कि शमशेर बिष्ट की परम्परा के निर्वहन के लिए हमें राजनैतिक, सामाजिक और पारस्थितिकीय लड़ाई के लिए आगे आना होगा. युवाओं को इसके लिए जागरूक करने के अभियानों की पहल हमारी ही पीढ़ी को करनी है. युवा पीढ़ी के साथ हमारा संवाद टूटा नहीं, हां शिथिल जरूर हुआ है. उस पर सबको मिल-जुलकर काम करने की आवश्यकता है. मंच से बोलते हुए प्रदीप टम्टा (सांसद) भावपूर्ण हो गए हैं. वे कहते हैं कि उनको जीवन के इस मुकाम तक पहुंचाने की मजबूत आधारशिला शमशेर दा ने ही तैयार की थी. वे हमारे अग्रज, अभिभावक और मार्गदर्शी थे. उनका सानिध्य मिलना हमारे लिए जीवन की अमूल्य निधि है. आज देश का आम आदमी सत्ता के निरंकुश विचार और विकास दोनों ही संकटों से घिरा है. ऐसे समय में डाॅ. शमशेर बिष्ट जी की सिखाई सीख और बताया रास्ता हमें इससे उभरने में मदद दे सकता है. पी.सी. तिवारी (अध्यक्ष, उपपा) ने कहा कि डाॅ. बिष्ट ने समाज की बेहतरी के लिए हमें जीवन में लड़ना-भिड़ना सिखाया. आज हमारे युवावस्था के साथी राजनैतिक रूप में विभिन्न दलों में हैं. लेकिन इसके बावजूद भी हम सामाजिक लड़ाईयों को एक मंच पर आकर लड़ सकते हैं. बस, इसमें एक मजबूत पहल की जरूरत है.




महेश जोशी के हुड़के पर थाप देते ही हरदिल अजी़ज ‘गिरदा’ ‘इक दिन त आलो दुनियां दुनी में’ जनगीत में सजीव हो उठते हैं. मित्रों का जलूस रेमजे से बाजार की ओर ‘डाॅ. शमशेर बिष्ट अमर रहे’ नारे के साथ आगे बढ़ा तो उसमें अल्मोड़ा शहर के लोगों की आवाज भी शामिल हो गई है. आमजन के दिल में शमशेर का जीवंत होना ही उन्हें जननायक बना देता है. आज जननायक शमशेर बिष्ट की याद में ही सही अल्मोड़ा में लम्बे समय बाद जनगीतों का सन्नाटा टूटा है. आम आदमी के गीत अल्मोड़ा की सड़क पर फिर से बुलंद आवाज में गूंजे हैं. जलूस में युवा कम हैं, पर वे कमजोर नहीं हैं, विचारशीलता और दूरदर्शिता में. हमारे युवा होने के समय के दौर की तुलना में वे ज्यादा आत्मविश्वासी, स्पष्ट और साफगोई हैं. दोपहर बाद से देर रात्रि तक विचार-विमर्श का दौर सहमति और असहमति की शक्ल में चलता रहा. संवाद में असहमतियों से ज्यादा ये महत्वपूर्ण है कि आगे संवाद के अवसर ज्यादा व्यापक और दीर्घगामी होंगे. शमशेर बिष्ट  के जाने के बाद से मित्रों में आई सामाजिक सक्रियता की चुप्पी को उनकी पहली बरसी के आयोजन ने तोड़ा है. ये एक नये परिदृश्य के सामने आने की शुरुवात है.शमशेर स्मृति !, अल्मोड़ा के सफल निर्वहन के लिए अग्रज राजीव लोचन साह, पीसी तिवारी, जगत रौतेला, डाॅ. दीवान नगरकोटी, जयमित्र बिष्ट, इन्द्रा बिष्ट, अजयमित्र बिष्ट, अदिति बिष्ट, डी.के कांडपाल, पूरन चंद तिवारी, प्रकाश जोशी, कमल जोशी, कपिलेश भोज आदि सभी मित्रों को आत्मीय धन्यवाद. परम आदरणीया रेवती भाभी जी का यह संदेश कि ‘यह आत्मीय संबध हमेशा बनाए रखना. हम सबके लिए प्रेरेणास्पद है.नैनीताल समाचार 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :