जनादेश

क्यों उछला बाजार ,जानना चाहेंगे ? असम में भी बढ़ने लगा कोरोना कोंकण में साबूदाने का स्वाद नेहरू अकेले रह गए कमल हासन ने क्या कहा पीएम से ट्रंप की जवाबी कार्रवाई का अर्थ क्या है डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कहा- हमें टारगेट ना करें काम खो चुके हैं 92.5 फीसदी मजदूर ट्रम्प ने जो गोलियां मांगी हैं उन्हें भारत ने अलग कर रखा है ! यूके कोई भारत जैसा देश थोड़े ही है फिर सौ साल बाद ? यह एक नई दुनिया का प्रवेश द्वार है महिलाओं ने भी दिखाई राह ! आखिर कही तो प्रतिकार होना था ! पश्चिम की दाल यह ऊटी की तरफ जाती सड़क है आज बाबूजी का जन्मदिन है जालंधर से हिमाचल घास पर बिखरे महुआ के फूल तो केरल में थम गई महामारी!

दिल्‍ली का सरताज कौन, फैसला आज

इंतजार की घडि़यां खत्‍म हो चुकी हैं. दिल्‍ली की जनता का अगले पांच सालों तक सरताज कौन होगा, इसका फैसला ईवीएम के पिटारे से आज निकलकर सामने आएगा.  दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आज घोषित किए जाएंगे. सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती शुरू हो चुकी है. मतगणना को ध्यान में रखते हुए केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गई है. दिल्ली के 11 जिलों में कुल 21 मतगणना केंद्र बनाए गए हैं.  चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि 33 मतगणना पर्यवेक्षकों सहित लगभग 2,600 मतगणना कर्मचारी मतगणना में लगे हुए हैं. दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि प्रत्येक केंद्र पर मतगणना होने तक कम से कम 500 सुरक्षाकर्मियों की तैनाती रहेगी. मतगणना केंद्र पूर्वी दिल्ली के सीडब्ल्यूजी स्पोर्ट्स कांप्लेक्स, पश्चिम दिल्ली के एनएसआईटी, दक्षिणपूर्वी दिल्ली के मीराबाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी और जीबी पंत इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलोजी, मध्य दिल्ली में सर सीवी रमण आईटीआई, धीरपुर और उत्तरी दिल्ली के बवाना में राजीव गांधी स्टेडियम एवं अन्य स्थान पर बने हैं. 

दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणबीर सिंह ने मतदान से एक दिन पहले कहा था कि सभी ईवीएमों का परीक्षण किया गया और वे फूलप्रुफ और छेड़छाड़ से परे हैं. बता दें कि शनिवार को हुए मतदान में 62.59 फीसद लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.  यह 2015 के आंकड़े से पांच फीसदी कम है.  इस चुनाव में 1.47 करोड़ वोटर्स थे, जिसमें से 66.8 लाख महिलाएं और 81.05 लाख पुरुष मतदाता थे.  इसके अलावा 869 थर्डजेंडर वोटर्स थे. दिल्ली की सभी 70 सीटों पर कुल 672 उम्मीदवार चुनाव में उतरे हैं जिनमें 593 पुरूष उम्मीदवारों और 79 महिला प्रत्याशी शामिल हैं. इन 70 सीटों में 12 सीटें एससी के लिए आरक्षित थीं।

सबसे पहले पोस्टल बैलेट की गिनती शुरू की जाएगी उसके बाद ईवीएम की गिनती शुरू होगी.  विशेष सीईओ सतनाम सिंह ने कहा है कि ईवीएम बिल्कुल सुरक्षित है.  उन्होंने कहा कि हर चीज के लिए प्रोटोकॉल निर्धारित है.  हर स्तर पर उम्मीदवार और पार्टियां इसमें शामिल हैं ताकि सब कुछ पारदर्शी हो. वहीं वोटिंग खत्म होने के बाद शनिवार शाम आए एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी बहुमत के साथ सरकार बनाती दिख रही है.  हालांकि बीजेपी ने जीत का दावा किया है.  एग्जिट पोल देखकर उत्साहित आम आदमी पार्टी अपने पिछले चुनाव के नतीजों को दोहराना चाहेगी. वहीं, बीजेपी दो दशक से ज्यादा समय बाद सत्ता में वापसी की राह देख रही हैं.  वहीं, कांग्रेस भी वापसी की कोशिश में है.  पिछले विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 70 में से 67 सीटें मिली थीं। तीन सीटों पर बीजेपी ने जीत दर्ज की थी.  कांग्रेस को एक भी सीट हासिल नहीं हुई थी. 

मतगणना को देखते हुए केंद्रों पर किसी भी एक्सेसरी, स्टेशनरी, उपकरण, कंप्यूटर, जलपान को अंदर ले जाने की जरूरत पड़ती है तो किसी भी संभावित खतरे से बचने के लिए उसको स्कैन किया जाए.  इसके अलावा हर स्ट्रांगरूम के बाहर सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है. इन कैमरों की लाइव फीड उम्मीदवारों और उनके राजनीतिक एजेंटों को दिया गया है. जिससे कोई गड़बड़ी का आरोप न लगा सके. 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :