मापूसा में लोहिया और मधुलिमये

भोजपुरी फीचर फिल्म गोरिया तोहरे खातिर देख लीजिये सोशल मीडिया पर सावधान रहें ,वर्ना कार्यवाई हो जाएगी नदी-कटान की चपेट में जीवन आजीवन समाजवादी रहे जनेश्वर सरकार की नहीं सुनी किसानो ने , ट्रैक्टर मार्च होकर रहेगा भाजपा ने अपराध प्रदेश बना दिया है-अखिलेश यादव ख़ौफ़ के साए में एक लम्बी अमेरिकी प्रतीक्षा का अंत ! बाइडेन का भाषण लिखते हैं विनय रेड्डी उनकी आंखों में देश के खेत और खलिहान हैं ! तो अब मोदी भी लगवाएंगे कोरोना वैक्सीन ! डीएम साहब ,हम तेजस्वी यादव बोल रहे हैं ! बिहार में तेज हो गई मंत्री बनने की कवायद सलाम विश्वनाथन शांता, हिंदुस्तान आपका ऋणी रहेगा ! बाइडेन के शपथ की मीडिया कवरेज कैसे हुई छब्बीस जनवरी को सपा की हर जिले में ट्रैक्टर रैली आस्ट्रेलिया पर गजब की जीत दरअसल वंचितों का जलवा है जी ! हम बीमार गवर्नर नही है आडवाणी जी ! बाचा खान पर हम कितना लिखेंगे कमल मोरारका ने पूछा , अंत में कितना धन चाहिये? किराए की हैं ये गोवा की कुर्सियां !

मापूसा में लोहिया और मधुलिमये

अंबरीश कुमार 

यह मापूसा में लोहिया पार्क है .फोटो मैंने ही ली .गोवा की आजादी की लड़ाई पर एक पुस्तक की योजना पर काम कर रहा हूं.इस सिलसिले में मित्रों से मदद की उम्मीद कर रहा हूं .गोवा के और कोंकण अंचल के हमें ऐसे लोगों से बात करनी है जो अभी जीवित हैं और गोवा की लड़ाई में किसी भी तरह हिस्सा लिया था ,देखा था या किसी और ढंग से शामिल थे .लोहिया मधुलिमये से जुड़ा अगर कोई संगठन परिवार हो तो उनसे भी मुलाक़ात अगर संभव हो तो .गोवा का भूगोल ही नहीं इतिहास भी दिलचस्प है .

गोवा 1498 में वास्कोडिगामा के आने के बाद पुर्तगालियों की दृष्टि में आया। 17वीं शताब्दी के पूर्वाद्ध तक यहाँ पुर्तगालियों का कब्जा हो गया। भारत के आजाद होने के बाद भी गोवा गुलाम रहा और 19 दिसम्बर 1961 को मुक्त हुआ. गोवा की आजादी का सिंहनाद डा लोहिया ने किया था। यहां के लोकगीतों में डा लोहिया का वर्णन पौराणिक नायकों की तरह होता है. 11 अप्रैल 1946 को 20 मई 1944 से गिरफ्तार लोहिया को रिहा किया गया. वे 9 अगस्त 1942 को भूमिगत हुए थे तब से लेकर 11 अप्रैल 1946 तक झंझावातों में रहे, लगभग 4 साल की असहनीय पीड़ा से शरीर का अस्वस्थ होना स्वाभाविक था, ऐसे में उनके गोवा निवासी मित्र जूलियो मैनेजिस ने गोवा आराम करने के लिए बुलाया. मैनेजिस आसोलना में रहते थे. जैसे गोवावासियों को पता चला कि बयालिस के नायक लोहिया आए हैं, हलचल मच गई. प्रसिद्ध नेता पुरुषोत्तम काकोड़कर अपने साथियों के साथ मिलने आए. 15 जून 1946 को पंजिम में डा लोहिया की सभा हुई जिसमें तय हुआ 18 जून से 'सविनय अवज्ञा' प्रारम्भ होगा। पुलिस ने टैक्सी वालों को मना कर दिया था, डा लोहिया मडगांव सभा स्थल घोड़ागाड़ी से पहुंचे . घनघोर बारिश, 20 हजार की जनता और मशीनगन लिए हुए पुर्तगाली फौज. गगनचुम्बी नारों के बीच डा लोहिया के ऊपर प्रशासक मिरांडा ने पिस्तौल तान दिया, लेकिन लोहिया के आत्मबल के आगे उसे झुकना पड़ा. पाँच सौ वर्ष के इतिहास में गोवा में पहली बार आजादी का सिंहनाद हुआ. लोहिया और मैनेजिस गिरफ्तार कर लिए गए. पूरा गोवा युद्ध-स्थल बन गया. पंजिम थाने पर जनता ने धावा बोल कर लोहिया को छुड़ाने का प्रयास किया, एक छोटी लड़की को जयहिन्द कहने पर पुलिस ने काफी पीटा. 21 जून को गवर्नर का आदेश निर्गत हुआ कि आम-सभा व भाषण के लिए सरकारी आदेश लेने की आवश्यकता नहीं. यह एक उदाहरण हैं .ऐसी बहुत सी घटनाएं हैं जिनका ब्यौरा इकठ्ठा किया जा रहा है .कुछ किया भी है .मित्रों से इसी सिलसिले में मदद की उम्मीद है .डा सुनीलम ने भरोसा दिया है .गोवा की आजादी के एक नायक मधुलिमये के वे भी करीब रहे .कई बार स्कूटर से उन्हें संसद लेकर जाते वर्ना राजकुमार जैन का स्कूटर होता .


  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :