मोदी को वैक्सीन लगवानी चाहिए-यादव

भोजपुरी फीचर फिल्म गोरिया तोहरे खातिर देख लीजिये सोशल मीडिया पर सावधान रहें ,वर्ना कार्यवाई हो जाएगी नदी-कटान की चपेट में जीवन आजीवन समाजवादी रहे जनेश्वर सरकार की नहीं सुनी किसानो ने , ट्रैक्टर मार्च होकर रहेगा भाजपा ने अपराध प्रदेश बना दिया है-अखिलेश यादव ख़ौफ़ के साए में एक लम्बी अमेरिकी प्रतीक्षा का अंत ! बाइडेन का भाषण लिखते हैं विनय रेड्डी उनकी आंखों में देश के खेत और खलिहान हैं ! तो अब मोदी भी लगवाएंगे कोरोना वैक्सीन ! डीएम साहब ,हम तेजस्वी यादव बोल रहे हैं ! बिहार में तेज हो गई मंत्री बनने की कवायद सलाम विश्वनाथन शांता, हिंदुस्तान आपका ऋणी रहेगा ! बाइडेन के शपथ की मीडिया कवरेज कैसे हुई छब्बीस जनवरी को सपा की हर जिले में ट्रैक्टर रैली आस्ट्रेलिया पर गजब की जीत दरअसल वंचितों का जलवा है जी ! हम बीमार गवर्नर नही है आडवाणी जी ! बाचा खान पर हम कितना लिखेंगे कमल मोरारका ने पूछा , अंत में कितना धन चाहिये? किराए की हैं ये गोवा की कुर्सियां !

मोदी को वैक्सीन लगवानी चाहिए-यादव

आलोक कुमार 

पटना.बिहार में कांग्रेसी नेता के बाद राजद नेता ने भी कहा कि सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को  वैक्सीन लगवानी चाहिए. इस तरह के बयान के बाद राजनीति में तुफान खड़ा हो गया है.कोरोना वैक्सीन पर राजनीति की रार अब बिहार तक जा पहुंची है. बिहार कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने बीजेपी पर कोरोना वैक्सीन विकसित करने का श्रेय लेने का आरोप मढ़ा. साथ ही यह भी कहा कि जिस तरह वैक्सीन को लेकर संशय व्यक्त किया जा रहा है, उसे देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं को सबसे पहले वैक्सीन लगवानी चाहिए. कांग्रेस नेता के इस बयान पर जदयू ने तीखा हमला बोलते हुए कहा कि अगर कांग्रेस को वैक्सीन पर विश्वास नहीं है, तो कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी विदेश गए हैं, वह वहां से ही कोरोना वैक्सीन ले आएं.

रविवार को डीसीजीआई विजय सोमानी ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. इसके बाद कांग्रेस नेता शशि थरूर समेत राशिद अलवी ने इस पर बयानबाजी शुरू कर दी. फिर तो समाजवादी पार्टी भी इसमें कूद गई और अब इसकी रार बिहार तक जा पहुंची है. बिहार में कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने हमला करते हुए यह आरोप लगाया कि देश में आई वैक्सीन का श्रेय बीजेपी लेने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक ने कोरोना वैक्सीन तैयार कर ली है. दरअसल ये दोनों कंपनियां कांग्रेस के जमाने में ही स्थापित हुई थीं.

उन्होंने कहा, 'नए साल में दो कोरोना वैक्सीन आई हैं, यह खुशी की बात है. हालांकि इसको लेकर लोगों के बीच संशय भी है. इस संशय को दूर करना होगा. जिस तरीके से रूस और अमेरिका के राष्ट्राध्यक्ष ने पहला टीका लेकर लोगों को विश्वास में लिया है. ऐसे में मेरा मानना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी के सबसे वरिष्ठ नेता को पहला टीका लेकर लोगों का विश्वास जीतना चाहिए.' अजीत शर्मा ने यह भी कहा, 'वैक्सीन आने के बाद बीजेपी हर तरफ थाली पिटवा रही है और खुशी मना रही है, लेकिन कांग्रेस को भी श्रेय मिलना चाहिए क्योंकि कांग्रेस के ही कार्यकाल में ये दोनों कंपनियां स्थापित हुई थीं.' 


इस पर फिलहाल बिहार बीजेपी ने तो कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की, लेकिन जदयू के प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा, 'अजीत शर्मा का बयान कांग्रेस के रवैये को परिलक्षित करता है. अगर कांग्रेस को स्वदेशी कोरोना वैक्सीन पर भरोसा नहीं है, तो विदेश यात्रा पर गए अपने शीर्ष नेता राहुल गांधी को कहें कि वह विदेश से ही वैक्सीन का टीका लेकर आएं.'

कोरोना संकट से जूझ रहे देश को नए साल की शुरुआत में मोदी सरकार ने दो वैक्सीन का तोहफा दिया है. ऑक्सफोर्ड की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए मंजूरी मिलते ही देश में सियासत भी शुरू हो गई है. कोरोना वैक्सीन पर सबसे पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बयान दिया और वैक्सीन लगवाने से इनकार किया तो बीजेपी नेता भी पलटवार कर रहे हैं. कोरोना वैक्सीन पर यूपी में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सवाल उठाए जाने बाद अब राजद नेता तेजप्रताप यादव ने भी शर्त रख दी है.राजद नेता व हसनपुर के विधायक तेजप्रताप यादव ने कहा है कि वह कोरोना वैक्सीन तभी लगवाएंगे जब पीएम मोदी इसे लगवा लेंगे. यह बयान उन्होंने वृंदावन में दिया है। वे नया साल शुरू होने पर तेजप्रताप वृंदावन गए हुए हैं.

तेजप्रताप ने आगे कहा कि देश में कोरोना वैक्सीन आना एक अच्छी बात है. लोगों को वैक्सीन लगेगी और लोगों को कोविड-19 नहीं होगा, इससे अच्छी बात क्या हो सकती है. लेकिन जहां तक हमारे वैक्सीन लगवाने का सवाल है तो हम इसे तभी लगवाएंगे जब पीएम मोदी लगवा लेंगे. तेजप्रताप ने कृषि सुधारों को लेकर किसानों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि सरकार को किसानों की मांग मान लेनी चाहिए.


 बता दें पिछले दिनों यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा था कि ये वैक्सीन बीजेपी की है और इसे मैं नहीं लगवाऊंगा.क्योंकि मुझे बीजेपी पर भरोसा नहीं है.अखिलेश ने कहा कि जो सरकार ताली और थाली बजवा रही थी, वो वैक्सीनेशन के लिए इतनी बड़ी चेन क्यों बनवा रही है.ताली और थाली से ही कोरोना को भगा दें.हालांकि बाद में मामले के राजनीतिक तूल पकड़े जाने के बाद उन्होंने सफाई भी दी थी.


 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :