जनादेश

उपेक्षा से हुई मौतों का विरोध गैर सरकारी ट्रस्ट का सरकारी प्रचार क्यों? मद्रास में गढ़े गए थे देशभक्त रामनाथ गोयनका देश के लिए क्रिश्चियन फोरम ने की प्रार्थना जहां पीढ़ियों से लॉकडाउन में रह रहे हैं हजारों लोग अमेरिका और चीन के बीच में फंस तो नहीं रहे हम ? बेनक़ाब होता कोरोना का झूठ ! क्या सरकारों के खैरख्वाह बन गए हैं अख़बार ? तुषार मेहता की 'समानांतर' सरकार .... चौधरी से मिले तेजस्वी यादव अजीत जोगी कुशल प्रशासक थे या सफल राजनेता ! पटना में शनीचर को सैलून खुलेगा तो आएगा कौन ? चौधरी चरण सिंह को याद किया खांटी किसान नेता थे चौधरी चरण सिंह एक विद्रोही का ऐसे असमय जाना ! बांग्लादेश से घिरा हुआ है मेघालय पर गरीब को अनाज कब मिलेगा ओली सरकार पीछे हटी क्योंकि बहुमत नहीं रहा ! मंत्रिमंडल विस्तार में शिवराज की मुश्किल बिहार में कोरोना का आंकड़ा तीन हजार पार

वायरस की अनोखी दुनिया

डा एके अरुण

जो अदृश्य है उस पर सहसा विश्वास नहीं होता. उसे देखने के लिए या तो दर्शन की दिव्य दृष्टि चाहिए या इलेक्ट्रान अथवा आप्टिकल माइक्रोस्कोप. प्राचीन धर्म ग्रन्थों का तो मुझे पता नहीं लेकिन सन् 1675 में हालैण्ड के एक साधारण व्यापारी ‘‘एंटनी वान लिउनहुक’’ ने कांच को घिस कर एक माइक्रोस्कोप बना डाला तब दूध से दही बना देने वाला बैक्टीरिया देखा जा सका था. जैसे-जैसे शोध और यंत्रों का विकास हुआ वैसे वैसे पता चला कि जितना अनन्त आकाश है, उतनी ही विशाल है सूक्ष्मजीवों की दुनिया. माइक्रोस्कोप के आविष्कार के लगभग 200 साल बाद सन् 1880 में यह सिद्ध हो पाया कि कुछ जानलेवा रोग जीवाणुओं के संक्रण से होते हैं. यह जानकारी दी जर्मन चिकित्सक राबर्ट कॉक तथा फ्रांसीसी रसायन शास्त्री लुई पॉस्चर ने.

फिर 1792-1798 के दौरान एक अन्य तरह के जीव की भी खोज हुई. यह आकार में बैक्टीरिया से भी छोटा था. इसे वायरस (विषाणु) कहा गया. यह एक सूक्ष्म कोशिका का और भी सूक्ष्म हिस्सा है. यह अपना प्रजनन खुद कर सकता है यदि इसे कोई जीवित कोशिका मिल जाए. बीमारियों के स्रोत रोगाणु हैं यह जानकारी मिलने के बाद अनेक नई जानकारियां सामने आने लगीं. कई तरह के सूक्ष्मजीव, फफूंद, परजीवी कीट आदि का पता चला. यह भी पता चला कि तब हैजा और प्लेग से जो लाखों जानें जाती थीं उसमें इन सूक्ष्मजीवों की ही भूमिका थी.

अब आइये जान लें कि इन सूक्ष्मजीवों के लिए कैसी परिस्थितियां और वातावरण जिम्मेवार हैं. याद कीजिए सन् 1817-1824 के बीच भारत के बंगाल में भयानक हैजा फैला था. इसे ‘‘एशियाटिक कालेरा’’ का नाम दिया गया. यह महामारी साम्राज्यवाद के जहाज पर सवार होकर योरोप पहुंची. सन् 1830 में दुनिया भर में कालेरा से लाखों लोग मर रहे थे. सन् 1848-1854 के दौरान लन्दन कई बार हैजे की चपेट में आया. अब तक चिकित्सकों को हैजा का असल कारण पता ही नहीं था. हैजे के जीवाणु की पहचान तो 1886 ईसवी में जर्मनी में हुई. इसके पहले योरोप के लोग इस बीमारी का कारण दूषित हवा को मानते थे. इसे ‘मयाज्म’ कहा गया. मयाज्म को यूनानी भाषा में प्रदूषण कहते हैं. लेकिन लन्दन के चिकित्सक डॉ. जान स्नो ने बताया कि हैजा हवा से नहीं दूषित पानी से फैलता है. हालांकि उस समय ब्रिटिश सरकार ने डॉ. स्नो की खोज को नहीं माना लेकिन बाद में आगे चलकर उन्हें आधुनिक महामारी विज्ञान का जनक माना गया.

अब वापस अपने मूल विषय पर लौटें.वायरस या विषाणुओं की अपनी दुनिया है, अपना परिवार है, अपनी व्यवस्था है.लेकिन इनकी मजबूरी है कि ये केवल जीवित कोशिकाओं में ही अपना प्रसार कर सकते हैं.ये नाभिकीय अम्ल और प्रोटीन से मिलकर गठित होते हैं.जीवित शरीर से बाहर इनकी कोई हैसियत नहीं लेकिन जीवित कोशिकाओं या शरीर मिलते ही ये सक्रिय हो जाते हैं.वायरस सैंकड़ों वर्षों तक यों ही सुषुप्त अवस्था में रह सकते हैं और जब भी ये किसी जीवित कोशिका या जीव के सम्पर्क में आते हैं तो उस जीव की कोशिका में घुस कर उसके आर एन ए और डी एन ए की जेनेटिक संरचना को अपनी जेनेटिक संरचना में बदल देते हैं. फिर यह संक्रमित कोशिका अपने जैसे संक्रमित कोशिकाओं का पुनरुत्पादन शुरू कर देती है. विषाणु या वायरस ‘‘विष’’ से बना शब्द है. सबसे पहले 1796 में एडवर्ड जेनर ने पता लगाया कि चेचक (स्माल पॉक्स) वायरस के कारण होता है. उन्होंने इसके टीके का भी आविष्कार किया. इसके बाद सन् 1886 में एडोल्फ मेयर ने बताया कि तम्बाकू (पौधे) में मोजेक रोग एक विशेष वायरस की वजह से होता है. इसे टोबैको मोजेक वायरस का नाम दिया गया.

ऐसा नहीं है कि वायरस महज जानलेवा और हानिकारक ही होते हैं. इनमें लाभदायक वायरस भी हैं. ये जीवाणु-भोजी वायरस होते हैं. ये हैजा, टायफायड, पेचिस जैसे रोग उत्पन्न करने वाले जीवाणुओं कोनष्ट कर मानव जीवन की रक्षा भी करते हैं. पोलियो वायरस, एचआईवी वायरस, एन्फ्लूएन्जा वायरस रोग/महामारी उत्पन्न करने वाले प्रमुख वायरस हैं. ये शारीरिक सम्पर्क, वायु द्वारा, भोजन एवं जल द्वारा युक, म्युकस या मुंह मार्ग द्वारा शरीर में पहुंचते हैं.

अब आइये फिलहाल चर्चित और देशव्यापी लॉकडाउन की वजह बने कोराना वायरस की चर्चा की तरफ बढ़ते हैं. कोरोना वायरस को लेकर लोगों में यह भी चर्चा है कि यह एक ‘‘विनाशकारी जैविक हथियार’’ बनाने की प्रक्रिया में हुई चूक का परिणाम हो सकता है. उल्लेखनीय है कि अभी बीते हफ्ते सऊदी अरब में जी-20 देशों के शिखर सम्मेलन में वैश्चिक महामारी से निपटने के उपायों पर कार्ययोजना लाने की आम सहमति बनी और इसी के तुरन्त बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने जैविक और घातक हथियार संधि (बीटी डब्लूसी) लागू होने की 45वीं वर्षगांठ पर जैविक हथियारों पर प्रतिबन्ध लगाने की फिर से मांग की. हालांकि भारतीय विदेश मंत्रालय ने कोई विस्तृत ब्यौरा नहीं दिया लेकिन कोराना वायरस के प्रभाव के मद्देनजर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) की संस्थागत मजबूती और अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग को बढ़ाने पर जोर दिया. कोरोना वायरस को लेकर चीन पर ‘‘जैविक हथियार’’ का आरोप लग रहा है लेकिन अमरीका समेत कई देशों के वैज्ञानिक शोध में दावा किया गया है कि यह वायरस प्राकृतिक है. इस शोध और दावे को ‘‘नेचर’’ मेडिकल जर्नल के ताजा अंक में प्रकाशित किया गया है. इसे अमरीका के नेशनल इन्स्टीच्यूट ऑफ हेल्थ, ब्रिटेन के वेलकम ट्रस्ट, योरोपीय रिसर्च काउन्सिल तथा आस्ट्रेलियन लारेट काउन्सिल ने भी प्रमाणित किया है. स्क्रीप्स इन्स्टीच्यूट के एसोसिएट प्रोफेसर क्रिस्टीन एंडरसन ने पुष्टि की है कि यह एक प्राकृतिक वायरस ही है जिसे कोविड-19 (कोराना वायरस डिजिज-2019) का नाम दिया गया है.


Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :