जनादेश

इस अंधविश्वास के पीछे है कौन ? सरगुजा की मांड नदी का बालू खोद डाला लैंसेट ने लेख क्यों वापस लिया? क्या बड़ा मेडिकल घोटाला है यह ! अमेरिकी आंदोलन को ओबामा का समर्थन ये फेक न्यूज़ फैलाते हैं ? भारत चीन के बीच शांति का रास्ता तिब्बत से गुजरता है - प्रो आनंद कुमार पांच जून 1974 को गांधी मैदान का दृश्य ! रामसुदंर गोंड़ की हत्या की हो उच्चस्तरीय जांच-दारापुरी घर लौटे मजदूरों से कानून-व्यवस्था को खतरा ? अंफन ने बदली सुंदरबन की तस्वीर और तकदीर बबीता गौरव से कौन डर रहा है अख़बार से निकले थे फ़िल्मकार बासु चटर्जी देश में कोरोना तो बिहार में होगा चुनाव ? बुंदेलखंड़ लौटे मजदूरों की व्यथा भी सुने ! बिहार को कितनी मदद देगा केंद्र ,साफ बताएं एजेंसी की खबरें भरते हिन्दी अखबार ! दान में भी घालमेल ! मंच पर गांधी थे नीचे मैं -पारीख पार्टी और आंदोलन के बीच संपूर्ण क्रांति इसलिए पांच जून एक यादगार तारीख है !

तो केरल में थम गई महामारी!

राजीव रंजन सिंह 

केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने ऐलान कर दिया कि केरल ने कोरोना को रोक दिया.उन्होने कहा कि कुल 295 मामले आए जिनमे 207 विदेश से आए और 7 विदेशी हैं .14 लोग ठीक हो गए ..यानि संक्रमण फैला नहीं जबकि सबसे पहला केस वहीं आया..तो आपको बता दें कि इसके लिए केरल की स्वास्थ्य मंत्री शैलजा बधाई की पात्र हैं ..आपको अचरज होगा कि केरल में एक हजार मौतों का आकलन था..लेकिन राज्य सरकार ने गजब का काम किया..16 मार्च को ही केरल ने break the chain मुहिम शुरू कर दी(जब हम सिंधिया मे बिजी थे)..जनवरी महीने मे ही अस्पतालों मे isolation ward बनाने शुरू कर दिए..केरल के लोग 124 देशों में काम करते हैं लेकिन तब भी वहाँ की सरकार ने खोज खोज के टेस्ट किए..एक कोरोना संक्रमित की मौत हुई तो मंत्री खुद उस गांव गए और लोगों को समझाया..सबसे शिक्षित राज्य है तो उसे उम्मीदों पर खरा उतरना ही था.. बाकी आगे देखा जाएगा.फोटो साभार 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :