जनादेश

ज्यादा जोगी मठ उजाड़ ! जगदानंद को लेकर रघुवंश ने लालू को लिखा पत्र कड़ाके की ठंढ से बचाती 'कांगड़ी ' यही समय है दही खाने का ! निर्भया के बहाने सेंगर को भी तो याद करें ! डॉक्टर को दवा कंपनियां क्या-क्या देती हैं ? एमपी के सरकारी परिसरों में शाखा पर रोक लगेगी ? एक थे सलविंदर सिंह मुख्यमंत्री पर जदयू भाजपा के बीच तकरार जारी वाम दल सड़क पर उतरे जाड़ों में गुलगुला नहीं गुड़ खाएं ! नए दुश्मन तलाशती यह राजनीति ! कलेक्टरों के खिलाफ कार्रवाई हो-सीबीआई यह दो हजार बीस का युवा आक्रोश है ! हम देखेंगे ,पर समझेंगे या नहीं ! फ़्रांसिसी उपनिवेश में कुछ दिन शाकुंभरी देवी के जंगल में काले पत्थरों से टकराती लहरे सेहत को फायदा पहुंचे ऐसा हलवा बनाएं ! भून कर बनाएं दाल ,जल्दी पचेगी

बाबा रामदेव का ट्विटर पर क्यों हुआ विरोध ?

नई दिल्ली .बाबा रामदेव संकट में हैं .कामधाम तो प्रभावित हो ही रहा है साथ ही उन्होंने एक इंटरव्यू में पेरियार और आम्बेडकर समर्थकों से भी विवाद मोल ले लिया .जिसके चलते ट्विटर पर शट डाउन पतंजलि से लेकर बायकाट पतंजलि प्रोडक्ट ट्रेंड कर रहा है .वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल की अपील पर बड़ी संख्या में ट्विटर पर बाबा रामदेव के खिलाफ माहौल बन चुका है .इससे पहले पत्रकार शीतल पी सिंह ने बाबा रामदेव पर जो टिपण्णी की वह भी चर्चित रही है . वह यहां जस की तस .

तो बाबा रामदेव के कारोबार की हवा निकल गई !

शीतल पी सिंह 

बाबा रामदेव  अब मल्टीनेशनल कंपनियों के साथ व्यापार समझौते को तैयार हैं इनकी हवा हवाई तरक़्क़ी और लफ़्फ़ाज़ी की हवा निकल गई है . बिक्री आधी हो चुकी है . सप्लाई के पेमेंट आधा आधा साल लटक रहे हैं, क्वालिटी कूड़ा हो रही है और बाबा का टीवी चैनलों पर चलने वाला विज्ञापित ढाबा बंद हो चुका है!


संतोषी माता के बाद ये दूसरे अवतार हैं जिन्हें भारतीय सवर्ण मध्य वर्ग ने बीते चालीस पचास बरसों में भगवान बना दिया!एक टीवी चैनल के ज़रिये घरों में ख़ाली छोड़ी गई कूपमंडूक कंडीशनिंग से पाली गई स्त्रियों के आडियेंस को पेट की कुछ विसमयकारी कसरतें दिखाकर दुनिया भर के मलटीनेशनल उत्पादों को ख़ारिज करने वाले हवा हवाई दावों वाले रामदेव की सफलता बताती है कि इस देश में अभी तक “खास तरह का तेल” क्यों बिकता है ?


भारतीय मध्य वर्ग हज़ारों सालों से तरह तरह के ठगों के चमत्कार का उन्नत बाज़ार है यह मृगमरीचिका में जीने वाला समाज है और झूठ को स्वीकार करने में अपने आप से प्रतियोगिता करता है . इसके पिरामिड का संचालक ब्राह्मणवाद है जो दुनिया का सबसे बड़ा तिलिस्मी कारनामा है और लाइलाज है . इसका शिकार पैदा होने से लेकर मरने तक इसी की शिकायत करते हुए इसी की शरण में रहता है!

ज़्यादा दिन नहीं बीते जब सारे चैनलों के एंकर रामदेव से अर्थशास्त्र जूलोजी बाटनी केमिस्ट्री से लेकर राजनीतिक शास्त्र तक हर विषय की बाइट लेने को तरसते थे . गणेश जी की मूर्ति को दुनिया के हर मंदिर में दूध पिला चुका इंडियन डायस्पोरा इनके अंट शंट को प्रसाद की भावना से ग्रहण करता था और सच मानता था पर हर धोखे की एक उम्र होती है, रामदेव की सफलताओं की भी पोल खुलनी ही थी.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :