क्या फिर राहुल पर ही दांव लगाएगी कांग्रेस

शंकर गुहा नियोगी को भी याद करें नौकरी छीन रही है सरकार मौसम बदल रहा है ,खाने का जरुर ध्यान रखें किसान विरोधी कानून रद्द करने की मांग की क्या बिहार में सत्ता के लिए लोगों की जान से खेल रही है सरकार कांकेर ने जो घंटी बजाई है ,क्या भूपेश बघेल ने सुना उसे ? क्या मुग़ल काल भारत की गुलामी का दौर था? अधर में लटक गए छात्र पत्रकारों के बीमा का दायरा बढ़ाए सरकार बिहार चुनाव से दूर जाता सुशांत का मुद्दा सड़क पर उतरे ऐक्टू व ट्रेड यूनियन नेता किसानों के प्रतिरोध की आवाज दूर और देर तक सुनाई देगी क्या मोदी के वोटर तक आपकी बात पहुंच रही है .... खेती को तबाह कर देगा कृषि विधेयक- मजदूर किसान मंच दशहरे से दिवाली के बीच लोकतंत्र का पर्व बेनूर हो गई वो रुहानी कश्मीरी रुमानियत सिविल सर्जन तो भाग खड़े हो गए चंचल .. चलो भांग पिया जाए क्यों भड़काने वाले बयान देते हैं फारूक अब्दुल्ला एक समाजवादी धरोहर जेपी अंतरराष्ट्रीय सेंटर को बेचने की तैयारी

क्या फिर राहुल पर ही दांव लगाएगी कांग्रेस

अखंड प्रताप सिंह


सोनिया गांधी की लगातार खराब रहती तबियत को देखते हुए एक बार फिर से राहुल गांधी को कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष बनाए जाने की अटकलें शुरू हो गयी हैं. ऐसी चर्चा है कि राहुल गांधी मार्च के आखिर या फिर अप्रैल में दोबारा कांग्रेस अध्यक्ष बन सकते हैं. पार्टी नेतृत्व ने उन्हें रिलॉन्च करने की पूरी तैयारी कर ली है. 


दरअसल फरवरी माह की शुरुआत से ही अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी खराब सेहत के चलते सक्रिय राजनीति से दूर हैं और हाल के दिल्ली विधान सभा चुनाव में भी सोनिया गांधी नज़र नहीं आईं. ऐसे में कांग्रेस पार्टी राहुल की ताजपोशी के लिए पार्टी अधिवेशन बुलाने की तैयारियों में लग गयी है. ऐसी पूरी संभावनाएं जताई जा रही हैं कि इसी अधिवेसन के दौरान राहुल गांधी के नाम पर मुहर लगा दी जाएगी.


राहुल गांधी ने पिछले साल लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी को मिली करारी हार के बाद 25 मई को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. पार्टी नेताओं ने उन्हें मनाने की काफी कोशिश की. लेकिन वे नहीं माने और 3 जुलाई को इस्तीफा दे दिया. अध्यक्ष के तौर पर राहुल गांधी की ताजपोशी दिसंबर 2017 में हुई थी.


कांग्रेस वर्किंग कमेटी ने 11 अगस्त को सोनिया गांधी को पार्टी का अंतरिम अध्यक्ष बनाने का फैसला किया था. इसके पहले भी सोनिया 1998-2017 तक अध्यक्ष रह चुकी हैं.


राहुल के फिर से ताजपोशी की अटकलों के बीच पार्टी का एक बड़ा वर्ग चाहता है कि अब कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व राहुल से लोकप्रियता में आगे चल रही प्रियंका गांधी को दिया जाना चाहिए. हाल में प्रियंका गांधी जहां जहां भी गयीं जनता ने उनको हाथों हाथ लिया.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :