जनादेश

राम नाम के जयकारों के साथ शुरू हुई विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा मनमोहन सिंह की नाराज़गी राजस्थान में बढ़ते अपराध इस सप्‍ताह आपका भविष्‍य ट्रंप दौरा और केजरीवाल सोनभद्र मे मिला सोने का पहाड़ लखनऊ की साक्षी शिवानंद की फैशन इंडस्‍ट्री में धूम हाउसिंग में मंदी का असर सब पर है-विजय आचार्य युवाओं के लिए प्रेरणा हैं अविनाश त्रिपाठी बच्चों के हाथों से कलम नहीं छीननी चाहिए-सुनील जोगी महिला उद्यमियों के लिये एक प्रेरणा हैं अनामिका राय वर्षा वर्मा की एक 'दिव्‍य कोशिश' ये हैं लखनऊ की 'रोटी वीमेन' 'गर्भ संस्‍कार' पढ़ने लखनऊ आइए जाफराबाद में शाहीनबाग जैसे हालात भारत में हर साल मर रहे दस लाख लोग आजादी के बाद बस तीन लोग इंटर पास यूपी में आईएएस अफसरों का तबादला गोवा और महादयी जल विवाद क्‍या केजरीवाल पीके से बेहतर रणनीतिकार हैं?

ट्रंप की भी छवि बनाने-बिगाड़ते अखबार

संजय कुमार सिंह 

गुरुवार के अखबारों में खबर थी कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प भारत आने वाले हैं. अंग्रेजी अखबारों में हिन्दुस्तान टाइम्स का शीर्षक हिन्दी में होता तो इस प्रकार होता, ट्रम्प को उम्मीद है कि भारत में लाखों लोग उनका स्वागत करेंगे. टेलीग्राफ का शीर्षक हिन्दी में कुछ इस तरह होता, ट्रम्प की नजर मोदी के लाखों पर. टाइम्स ऑफ इंडिया में इस खबर का शीर्षक और स्पष्ट है, मोदी ने वादा किया है कि भारत में लाखों लोग मेरा स्वागत करेंगे : ट्रम्प. अब इन तीन बातों को हिन्दी के अखबारों ने कैसे प्रस्तुत किया है उसे जानना दिलचस्प है. पहले के दो शीर्षक में जो कुछ छिपा था वह टाइम्स ऑफ इंडिया के शीर्षक से स्पष्ट है. एक या दो लाइन के शीर्षक से किसी की छवि बनाई और बिगाड़ी जा सकती है. हिन्दी अखबार यह काम बखूबी करते हैं. हालांकि, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मामले में ऐसा करने की हिम्मत नहीं है, पर वे डोनाल्ड ट्रम्प पर हाथ आजमाने से नहीं चूकते. 

दैनिक हिन्दुस्तान ने इसे एक रूटीन खबर के रूप में प्रस्तुत किया है और इसमें वह तथ्य है ही नहीं जिसकी चर्चा के लिए मैंने आज इस खबर का चुनाव किया है. ट्रम्प के शानदार सवागत की तैयारी – शीर्षक में वह बात नहीं है जो अभी तक चर्चित हिन्दी या अंग्रेजी के अखबारों  में है. यह आराम तलबी की पत्रकारिता है. ऐसी प्रस्तुति में ना कोई जोखिम होता है ना शीर्षक अच्छा लगाने के लिए श्रम या प्रतिभा की आवश्यकता होती है. नवभारत टाइम्स ने इस खबर को भले अंदर छापा है पर शीर्षक गंभीर है. क्यों खास है ट्रम्प का भारत आना? इसके ऊपर फ्लैक शीर्षक है, कारोबारी माहौल सुधारने के साथ कूटनीतिक बढ़त का सवाल. साफ है कि अखबार इस मामले को गंभीरता से देखता है. और यह सही भी है कि अमेरिकी राष्ट्रपति का दौरा इतना साधारण नहीं है कि उन्हें लाखों लोगों के स्वागत का झांसा दिया जाए और वे इस झांसे में आ भी जाएं. देखिए दूसरे अखबारों का क्या कहना है. 

नवोदय टाइम्स में शीर्षक है, 24 को गुजरात में केम छो ट्रम्प. दो कॉलम की इस खबर के साथ मुख्य खबर एक कॉलम में और एक कॉलम में ऊपर नीचे दो खबरें हैं जो ट्रम्प से ही संबंधित हं. इस तरह अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे की खबर को अखबार ने कुल चार शीर्षक दिए हैं. मुख्य शीर्षक के बाद दूसरा शीर्षक या उपशीर्षक है, अमेरिकी राष्ट्रपति का यादगार स्वागत किया जाएगा : मोदी. इस शीर्षक को पढ़ते ही सवाल उठता है – किसलिए?अगर यह जवाब शीर्षक में होता तो खबर पढ़ने की जरूरत नहीं होती. आने का उद्देश्य भी समझ में आ जाता. अखबार में जब इस खबर के दो शीर्षक और हैं तो यह पता चलना ही चाहिए था कि यादगार स्वागत किस खुशी में या किस अहसान के बदले किया जाएगा. पर वह शीर्षक में नहीं है. एक शीर्षक है, हाउडी मोदी की तर्ज पर होगा स्वागत और दूसरा है रक्षा सौदों को दिया जा रहा है अंतिम रूप. अब आप अनुमान लगाइए कि यादगार स्वागत का कोई खास उद्देश्य है या यूं ही. खबर में खास स्वागत का कोई खास कारण नहीं है, सब सामान्य ही हैं. यह खबर प्रधानमंत्री के ट्वीट के आधार पर है.     

अमेरिकी राष्ट्रपति की यात्रा 24 और 25 फरवरी को होगी. वे नई दिल्ली के साथ अहमदाबाद जाएंगे. वहां एक नए बने स्टेडियम में हाउडी मोदी की तर्ज पर केम छो ट्रम्प कार्यक्रम होना है. दैनिक भास्कर ने शीर्षक में ही बहुत सारी जानकारी दी है और मुख्य शीर्षक है, अहमदाबाद की आबादी 75 लाख; ट्रम्प बोले - दौरे को लेकर उत्साहित हूं, स्वागत में 70 लाख लोग मौजूद रहेंगे. इस खबर से लगता है कि ट्रम्प को कुछ अंदाजा नहीं है पर पहले के शीर्षक से आप समझ सकते हैं कि उन्हें स्वागत में 70 लाख लोगे के मौजूद होने की उम्मीद क्यों है? इसमें कोई दो राय नहीं है कि ट्रम्प को अपने स्वागत को लेकर ऐसा कोई भ्रम है या उम्मीद है तो वह निश्चित रूप से खबर है. पर इसका कारण हिन्दी के अखबारों से नहीं समझ में आ रहा है जबकि अंग्रेजी के अखबारों में साफ है.   

दैनिक जागरण में इस खबर का शीर्षक है, भारत की पहली यात्रा को लेकर उत्सुक ट्रंप. यहां इसके साथ सिंगल कॉलम में खबर है कि अहमदाबाद में हाउडी मोदी जैसा कार्यक्रम और रोड शो होगा. नई दिल्ली डेटलाइन से एजेंसियों की इस खबर में बताया गया है, वाशिंगटन में व्हाइट हाउस के अपने ओवल ऑफिस में ट्रंप ने पत्रकारों से कहा, ‘वह (मोदी) बहुत अच्छे इंसान हैं और मैं भारत जाने को लेकर बेसब्र हूं.’ एक सवाल के जवाब में ट्रंप ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी के साथ बात की है. मोदी ने उन्हें बताया है कि वहां (अहमदाबाद में) लाखों लाख की भीड़ होगी. एयरपोर्ट से स्टेडियम जाने के रास्ते में 50 से 70 लाख होंगे.’ इसके बाद ट्रंप ने मजाकिया लहजे में पत्रकारों से कहा कि इसके बाद वह अमेरिका में 40-50 हजार लोगों की भीड़ को संबोधित करने को लेकर ‘अच्छा नहीं महसूस’ करेंगे. 

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :